Monday, July 22, 2024
spot_img
Homeसोशल मीडिया सेगब्बरसिंह के चरित्र पर एक संक्षिप्त शोधपत्र

गब्बरसिंह के चरित्र पर एक संक्षिप्त शोधपत्र

परीक्षा में गब्बरसिंह का चरित्र के बारे में लिखने के लिए कहा गया…..

दसवीं के एक छात्र ने लिखा-

1. सादगी भरा जीवन-:- शहर की भीड़ से दूर जंगल में रहते थे।
एक ही कपड़े में कई दिन गुजारा करते थे।
खैनी के बड़े शौकीन थे।

2. अनुशासनप्रिय-:- कालिया और उसके साथी को प्रोजेक्ट ठीक से न करने पर सीधे गोली मार दी थी।
3.दयालु प्रकृति-:- ठाकुर को कब्जे में लेने के बाद ठाकुर के सिर्फ हाथ काटकर छोड़ दिया था, चाहते तो गला भी काट सकते थे।

4. नृत्य संगीत प्रेमी-;- उनके मुख्यालय में नृत्य संगीत के कार्यक्रम चलते रहते थे।
‘महबूबा महबूबा’,
‘जब तक है जां जाने जहां’.
बसंती को देखते ही परख गये थे कि कुशल नृत्यांगना है।

5. हास्य रस के प्रेमी-:- कालिया और उसके साथियों को हँसा हँसा कर ही मारा था, खुद भी ठहाका मारकर हँसते थे, वो इस युग के ‘लाफिंग बुद्धा’ थे।

6. नारी सम्मान-:- बंसती के अपहरण के बाद सिर्फ उसका नृत्य देखने का अनुरोध किया था, ये उनकी शालीनता का प्रतीक है।

7. भिक्षुक जीवन-:- उनके आदमी गुजारे के लिए बस सूखा अनाज मांगते थे,

कभी बिरयानी या चिकन टिक्का की मांग नहीं की.. .

8. समाज सेवक-:- रात को बच्चों को सुलाने का काम भी करते थे ..

शिक्षक ने पढा तो उनकी आँख भर आई और बोला सारी गलती जय और वीरू की ही थी….
बेचारा गब्बरवा तो वाकई बहुत बड़ा समाज सेवक था……

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार