Friday, April 19, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिसाहित्यकार डॉ. सिंघल, चौथमल और जोधराज  सम्मानित

साहित्यकार डॉ. सिंघल, चौथमल और जोधराज  सम्मानित

कोटा/ हिंदी साहित्य समिति कोटा द्वारा राजस्थान दिवस शनिवार 30 मार्च के अवसर पर वेस्ट सेंट्रल रेलवे एम्पलाइज यूनियन  कार्यालय में आयोजित सम्मान समारोह एवं काव्य गोष्ठी में हाड़ोती में लेखन के क्षेत्र में योगदान और  “जियो तो ऐसे जियो” पुस्तक के लिए लेखक डॉ.प्रभात कुमार सिंघल, साहित्यकार जोधराज परिहार ‘ मधुकर ‘ एवं चौथमल प्रजापति को माल्यार्पण कर शाल ओढ़ा कर एवं प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम हिंदी साहित्य समिति के अध्यक्ष डॉ.रघुराज सिंह कर्मयोगी , मुख्य अतिथि रेलवे वर्कशॉप के उप मुख्य यांत्रिक इंजीनियर पी. निंबालकर,विशिष्ठ अथिति चंपा वर्मा, जितेंद्र निर्मोही एवं प्रेम शास्त्री रहे।
काव्य गोष्ठी में अतिथियों सहित हेमराज हेम,सुरेंद्र सिंह गौड़, कालीचरण राजपूत, राम मोहन कौशिक, तंवर सिंह हाड़ा,  कमलेश चौधरी, दीना नाथ शास्त्री, ज्ञान गंभीर आदि कवियों ने राजस्थान के शोर्य, त्याग, बलिदान, गौरव, होली और विविध विषयों पर काव्यपाठ कर सभी को भाव विभोर कर दिया। संचालन’ कमलेश चौधरी ने किया। बड़ी संख्या में साहित्यकार कार्यक्रम में मौजूद रहे।
कार्यक्रम का प्रयोजन हिंदी भाषा के प्रकांड विद्वान एवं प्रसिद्ध साहित्यकार स्व.रमेश चंद्र गुप्ता की स्मृति में उनके पुत्र श्री मनोज कुमार गुप्ता, मुख्य कार्यालय अधीक्षक मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय द्वारा किया गया। अन्य व्यवस्थाएं एम्पलाइज यूनियन के मंडल सचिव मुकेश गालव और श्री कर्मयोगी साहित्य सेवा संस्थान के संस्थापक श्री राजाराम कर्मयोगी ने की।
image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार