आप यहाँ है :

गौभक्त श्री गोयंका ने नगर निगम को भेंट की ऑटोमेटिक स्वीपिंग मशीन

गौभक्त श्री नंद किशोर गोयंका ने हिसार नगर निगम को ऑटो मेटिक स्वीपिंग मशीन भेंट की। अब हिसार की मुख्य सड़कों की सफाई ऑटोमेटिक स्वीपिंग मशीन के जरीए होगी। एस्सैल ग्रुप की ओेर से नगर निगम को यह ऑटोमेटिक स्वीपिंग मशीन गोयंका परिवार के मुखिया एवं गौभक्त श्री नंद किशोर गोयंका ने सौंपी। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में हिसार के एडीसी राजनारायण कौशिक, विधायक डॉ. कमल गुप्ता व नगर के पार्षदों और अधिकारियों ने हरी झंडी दिखाकर मशीन को क्षेत्र की सफाई के लिए रवाना किया।

कार्यक्रम में अपने संबोधन में गौभक्त श्री नंद किशोर गोयंका ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चलाए गए 'स्वच्छ भारत अभियान का जिक्र करते हुए कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने पूरे देश में सफाई को लेकर एक मुहिम का आगाज किया है। किसी भी शहर की सफाई की जिम्मेवारी सिर्फ नगर निगम की ही नहीं होती, बल्कि जनता को भी इसमें सहयोग देना चाहिए। ये स्वीपिंग मशीन एक तरह से जनता के लिए सफाई के प्रति प्रेरित करने के लिए दी गई है। ताकि हिसार की जनता भी क्षेत्र की सफाई में अपना योगदान दें। उन्होंने मशीन के बारे में कहा कि अकेली मशीन सब कुछ नहीं कर सकती, प्रशासन व जनता को सफाई के प्रति जागरूक रहने की आवश्यकता है। इस दौरान सिटीएम गिरीश कुमार, नगर निगम के अधिकारी रामजीलाल, सीनियर डिप्टी मेयर दयानंद सैनी, भीम महाजन, पार्षद रेखा ऐरन, रेखा सैनी, अग्रोहा विकास ट्रस्ट के अध्यक्ष सत्यनारायण गोयंका, महामंत्री कृष्ण खारिया, कोषाध्यक्ष धमेंद्र गोयल, राघेश्याम आर्य, संदीप सिंगला, विकास गोदारा सहित नगर के कई गणमान्य मौजूद थे।

कार्यक्रम में मौजूद एडीसी राजनारायण कौशिक व विधायक डॉ. कमल गुप्ता ने एस्सैल गु्रप द्वारा किए गए इस प्रयास की सराहना की। उन्होंने क्षेत्र के लोगों से आह्वान किया कि वे सफाई के प्रति जागरूक हो। दोनों ने पीएम नरेंद्र मोदी की स्वच्छा के प्रति चलाई गई मुहिम की प्रशंसा करते हुए कहा कि जब तक जनता प्रशासन का सफाई रखने में सहयोग नहीं करेगी, तब तक अकेला प्रशासन कुछ नहीं कर सकता। उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि वो अपने आस-पास सफाई रखे तथा गंदगी को निर्धारित स्थान पर डाले। ……

श्री नंद किशोर गोयंका ने इस बीच नगर निगम के अधिकारियों से आह्वान किया कि वे मशीन के कामकाज की एक लॉगशीट बनाए, जिसमें मशीन द्वारा किया गया काम का ब्यौरा दर्ज हो। ताकि हर महीनें मशीन द्वारा किए गए काम की समीक्षा की जा सके और मीडिया के माध्यम से जनता को पता चल पाए कि मशीन ने किन-किन एरियों की कब-कब सफाई की। …………..

खास बात यह है कि मशीन में वैक्यूम सिस्टम है, जिससे रोड पर पड़ी गंदगी इसके माध्यम से मशीन में स्टोर हो जाती है। मशीन के दोनों तरफ बु्रश नुमा उपकरण लगे है, जो सड़क पर एक तरह से झाडू लगाने का काम करते है। एस्सैल ग्रुप के चेयरमैन डा. सुभाष चंद्रा ने बीते दिनों हिसार को यह मशीन सौंपने की घोषणा की थी। मशीन पर 28 लाख रुपए की लागत आई है। दरअसल दिल्ली से जब एक रोज डॉ. सुभाष चंद्रा हिसार आ रहे थे तो रास्ते में डाबड़ा चौक के नजदीक एक महिला सफाई कर्मचारी रोड की सफाई किए जाने के दौरान ट्रक की चपेट में आने से बाल-बाल बच गई थी। जिसके बाद डॉ. चंद्रा ने मेन रोड पर सफाई करने वाले कर्मचारियों की सुरक्षा व क्षेत्र को सफाई के लिए एक ऑटोमेटिक स्वीपिंग मशीन देने की घोषणा की थी।

ऑटोमेटिक मशीन के जरीए सड़कों एवं बड़ी गलियों की सफाई हो पाएगी। ऐसे में नगर निगम के कर्मचारियों को अब क्षेत्र की उन गलियों में अपनी विशेष भूमिका निभानी होगी, जिन गलियों में मशीन नहीं जा सकती। फोटो कैपशन- ऑटोमेटिक स्वीपिंग मशीन। हिसार नगर निगम के आयोजित कार्यक्रम में मशीन को हरी झंडी दिखाते गौभक्त नंद किशोर गोयंका व अधिकारीगण। हिसार नगर निगम को ऑटोमेटिक स्वीपिंग मशीन सौंपे जाने के दौरान पूजा में भाग लेते गौभक्त नंद किशोर गोयंका।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top