Wednesday, April 24, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिपश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक द्वारा पहली अत्याधुनिक संचार प्रणाली का...

पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक द्वारा पहली अत्याधुनिक संचार प्रणाली का शुभारंभ

मुंबई। पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल ने सोमवार, 1 मार्च, 2021 को मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय, मुंबई सेंट्रल में मुंबई के उपनगरीय खंड पर चर्चगेट और विरार स्‍टेशनों के बीच उपनगरीय ट्रेनों के लिए नई मोबाइल ट्रेन रेडियो कम्युनिकेशन (एमटीआरसी) प्रणाली का उद्घाटन किया। भारतीय रेलवे पर अपनी तरह की यह पहली अत्याधुनिक प्रणाली ईएमयू ट्रेन के चालक दल और नियंत्रण केंद्र के बीच बेहतर संचार को सक्षम बनायेगी और साथ ही कंट्रोल द्वारा यात्रियों और सभी ईएमयू कैब के बीच ब्रॉडकास्ट कॉल सुनिश्चित करेगी।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्‍पर्क अधिकारी श्री सुमित ठाकुर द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, नीवनतम संचार प्रणाली के उद्घाटन के बाद, महाप्रबंधक श्री कंसल ने मीडिया प्रतिनिधियों के साथ बातचीत की। इस अवसर पर MTRC सिस्टम की विशेषताओं एवं कार्यों को प्रदर्शित करने वाली एक लघु वीडियो फिल्‍म दिखाई गई तथा इसके संबंध में एक पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन प्रस्‍तुत किया गया। इसके बाद महाप्रबंधक ने मीडिया को नई शुरू की गई प्रणाली के विभिन्न फायदों के बारे में जानकारी दी और गति, संरक्षा बढ़ाने एवं यात्रियों को बेहतर सुविधा प्रदान करने के लिए मुंबई उपनगरीय खंड में पश्चिम रेलवे द्वारा चल रही अन्य परियोजनाओं के बारे में भी अवगत कराया।

श्री कंसल ने कहा कि मोबाइल ट्रेन रेडियो संचार प्रणाली एक प्रभावी और तकनीकी रूप से उन्नत संचार प्रणाली है, जो प्रभावी संचार के माध्यम से रेल दुर्घटनाओं को रोकने में एक महत्‍वपूर्ण भूमिका निभायेगी। यह नियंत्रण केंद्र और स्टेशन मास्टर के साथ ट्रेन चालक दल से शीघ्र और निरंतर संपर्क की सुविधा प्रदान करती है। यह प्रणाली कॉल को कनेक्ट करने के लिए सबसे कम समय अर्थात 300 मिली सेकंड लेती है और यह पहली बार है कि एमटीआरसी को भारत में शुरू किया गया है। यह भारतीय रेलवे पर एक ऐतिहासिक कदम है। उन्होंने कहा कि MRTC वैसे ही कार्य करती है, जैसे हवाई जहाजों के लिए हवाई यातायात नियंत्रण प्रणाली (ATC)। यह सिस्टम ट्रेनों और नियंत्रण कक्ष के बीच संचार की निगरानी और सहायता प्रदान करेगा, जिससे रेक के सुचारू संचालन के साथ-साथ प्रतिकूल घटनाओं को रोकने में मदद मिलेगी। पश्चिम रेलवे के 105 ईएमयू रेकों में नई प्रणाली पहले ही स्थापित की जा चुकी है। इस समारोह में पश्चिम रेलवे के सम्‍बंधित विभागों के प्रमुख विभागाध्‍यक्ष तथा मुंबई सेंट्रल मंडल के मंडल रेल प्रबंधक भी उपस्थित थे। मीडिया संवाद सत्र के अंत में पश्चिम रेलवे के मुख्‍य जनसम्‍पर्क अधिकारी श्री सुमित ठाकुर द्वारा धन्‍यवाद ज्ञापित किया गया।

श्री ठाकुर ने इस प्रौद्योगिकी के बारे में और अधिक जानकारी देते हुए बताया कि पश्चिम रेलवे के मुंबई उपनगरीय खंड का चर्चगेट- विरार खंड (60 किमी) एक उच्च घनत्व वाला यातायात मार्ग है, जहाँ व्‍यस्‍त समय में ट्रेनें लगभग हर 3 मिनट में चलती हैं। वर्तमान में, यह खंड प्रत्येक दिन 1300 से अधिक सेवाओं का संचालन करता है, जिसमें 3.4 मिलियन से अधिक या‍त्री क्षमता शामिल है। पहले से मौजूद पारंपरिक वीएचएफ आधारित संचार प्रणाली, मोबाइल और सीयूजी की अपनी सीमाएँ थीं और यह मुंबई के नियंत्रण केंद्र से संचालित होने वाली कंट्रोलर और चलती ट्रेन के क्रू के बीच संचार की सुविधा नहीं देती है। इस प्रणाली के ज़रिये मानसून के दौरान ट्रेन परिचालन की रियल टाइम जानकारी पाने में भी उल्‍लेखनीय सहायता मिलेगी।

श्री ठाकुर ने बताया कि 5.98 करोड़ रु. की लागत से दो साल की वारंटी और पाँच साल के वार्षिक अनुरक्षण प्रभार (एएमसी) के साथ नई डिजिटल एमटीआरसी प्रणाली के प्रावधान को मंजूरी दी गई थी। इस प्रणाली के लिए CMRTS लाइसेंस, आवृत्तियों के लिए WPC लाइसेंस, आयात लाइसेंस, Towers के लिए SACFA लाइसेंस (हवाई अड्डा प्राधिकरण और रक्षा से मंजूरी आवश्यक) और पूरे सिस्टम के लिए ऑपरेटिंग लाइसेंस जैसे अनेक लाइसेंस प्राप्‍त किये जाने थे। नये टावरों के लिए डिजाइन और अनुमोदन IIT और पश्चिम रेलवे मुख्यालय द्वारा प्राप्त किया गया। शुरू की गई यह नई प्रणाली चल रही ट्रेन प्रबंधन प्रणाली के साथ एक एकीकृत प्रणाली है, जो नियंत्रकों को ट्रेन नंबर के साथ-साथ कैब नंबर कोड का उपयोग करके चालक और गार्ड के साथ संवाद करने में सक्षम करेगी। MTRC सिस्टम TETRA (टेरेस्‍टेरियल ट्रंक रेडियो) आधारित डिजिटल तकनीक है; वितरित स्विचिंग आर्किटेक्चर के साथ एयर इंटरफेस और इंटरनेट प्रोटोकॉल आधारित नेटवर्क आर्किटेक्चर पर टीडीएमए को नियोजित करता है। प्रौद्योगिकी की मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं:-

मोबाइल ट्रेन रेडियो संचार (MTRC) प्रणाली के लाभ

· उप मुख्‍य गाडी नियंत्रक द्वारा आपातकाल में कॉल ऑवर राइड सुविधा के साथ दोनों ट्रेन के कंट्रोलर ईएमयू नियंत्रक और उप गाड़ी नियंत्रक में से किसी से भी सिंगल टच डायलिंग से कॉल की जा सकती है।

· सिर्फ ऑडियो रिसीव करने के लिए गार्ड और मोटर मैन को केब रेडियोज में आटो कॉल आंसर (केवल नियंत्रकों से तथा उसी रैक के अन्‍य कैब से)।

· डायलिंग में आसानी के लिए तीन नियंत्रकों (टीपीएस, सिगनल और टीएमएस) के फोन नंबर फीड किए गए हैं।

· मोटर मैन ईएमयू कंट्रोलर से ईएमयू में खराबी के बारे में सीधे बात कर सकता है, जिससे अन्य गाड़ियों के विलंब में कमी होती है।

· अगर किन्‍हीं मामलों में ट्रेन को रोका जाता है, तो ट्रेन के मोटरमैन और गार्डों को एक साथ ब्रॉडकास्‍ट कॉल के माध्यम से सूचित किया जा सकता है। साथ ही ट्रेनों के यात्रियों को इस प्रणाली द्वारा उद्घोषणा के माध्यम से सूचित किया जा सकता है।

· अपरिहार्य परिस्थितियों में यदि MTRC फोन व्‍यस्‍त है, तो आपातकालीन कॉल करने के लिए ओवर राइडिंग फीचर है, जिसमें आवाज सुनाई देगी और वार्तालाप स्‍थापित हो जाएगा। आपातकालीन कॉल उप-मुख्‍यगाड़ी नियंत्रक को जाता है ।

· ट्रेसपासिंग और नॉकडाउन के मामलों को तुरंत सूचना पर संप्रेषित किया जा सकता है, जो जि़ंदगी बचाने के लिए कीमती समय का उपयोग करने में और अन्य ट्रेनों के डिटेंशन को कम करने के लिए ट्रेनों को रेग्‍युलेट करने में मदद करता है।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार