आप यहाँ है :

तेजी से हो रहा है जम्मू शहर का इस्लामीकरण

ऐसी जानकारी मिली है की जमात ए इस्लामी, अहले हदीस , हुर्रियत कांफ्रेंस और कश्मीर की राजनीतिक पार्टियां भी आई एस आई के साथ मिलकर जम्मू शहर के इर्द-गिर्द मुस्लिम कॉलोनियां बसाने में जोर-शोर से काम कर रही हैं इनका एक तरीका यह पता चला है कि जो मुस्लिम प्रॉपर्टी डीलर हैं उनसे यह कहा गया है कि जब आप किसी कॉलोनी को खड़ा करते हो तो उसमें से जो आपका प्रॉफिट होता है 10, 20, 50 लाख का आप उसकी चिंता मत करें वह सीधा प्रॉफिट हम आपको दे देंगे आप केवल मुस्लिम परिवारों के घर बनवाओ सस्ते रेट पर जमीन दिलवा दो 5 मरले की जमीन 5 लाख में ही दे दो बाकी प्रॉफिट दूसरे तरीके से सीधा आपके अकाउंट में आ जाएगा यह स्थिति लगभग पिछले 10 साल से जारी थी अब मुस्लिम प्रॉपर्टी डीलर के साथ साथ ही हिंदू property डीलर भी उस चपेट में आ चुके हैं जो इस काम को आगे बढ़ा रहे हैं।

जम्मू के अंदर इस समय तीन बड़े फ्लैट्स हैं जो रॉयल पाम्स फ्लैट शक्तिनगर, कामधेनु फ्लैट शिवनगर तथा एक फ्लैट बिल्डिंग बोड़ी में भी है इन फ्लैट्स के अंदर 70% से अधिक कश्मीरी मुसलमानों ने वह फ्लैट खरीदे हैं प्राइवेट सिक्योरिटी इन फ्लैट्स में लगी हुई है पिछले दिनों में यह बात निकल कर सामने आई के मुस्लिम आबादी जो वहां रहती है उन्होंने कहा कि हमें सिक्योरिटी के अंदर मुस्लिम लोग ही चाहिए प्राइवेट सिक्योरिटी में जो हिंदू लोग हैं उनको यहां ना लगाया जाए उसके बाद प्राइवेट सिक्योरिटी ने अपने हिंदू मुलाजिमों को बदलकर उन फ्लैट्स की सिक्योरिटी में मुस्लिम लोगों को लगा दिया है।

जम्मू के कारोबार को हथियाने का बड़े पैमाने पर गतिविधियां चल रही हैं ताकि जम्मू शहर के बिजनेस का पूरा इस्लामीकरण किया जाए मुस्लिम्स के अंदर एक वर्ग इस पर काम कर रहा है कि जम्मू कश्मीर का पूरा इस्लामीकरण तब तक नहीं हो सकता जब तक जम्मू शहर का पूरा बिजनेस और कारोबार मुस्लिम लोगों के हाथ में ना आ जाए इस सिलसिले में वह काफी हद तक कामयाब हो चुके जम्मू चेंबर ऑफ कॉमर्स के अंदर जितने भी अलग अलग मार्केट के प्रेजिडेंट आते हैं उनमें से काफी प्रेसिडेंट मुस्लिम है जैसे खटीकतालाब मार्केट,कासिम नगर मार्केट, मार्बल मार्केट, बहु मार्केट , अकाश मार्केट, नई बस्ती मार्केट, गुज्जर नगर मार्केट, बठिंडी मार्केट, नरवल करियाना मार्केट, छन्नी परचून मार्केट , आदि आदि l

वह मीटिंग्स में अटेंड करते हैं तथा कश्मीर चेंबर ऑफ कॉमर्स के बताए हुए चीजों को जम्मू चेंबर ऑफ कॉमर्स में पूरे तरीके से लागू करवाते हैं कोई कॉल स्ट्राइक हो बंद हो इन चीजों का पूरा कंट्रोल आजकल कश्मीर चेंबर आफ कॉमर्स कर रहा है और जम्मू का चेंबर ऑफ कॉमर्स कश्मीर चेंबर ऑफ कॉमर्स के पूरे कंट्रोल में आ चुका है यह इसी कारण संभव हुआ है कि इस चेंबर ऑफ कॉमर्स में मुस्लिम मार्केट प्रेसिडेंट्स की तादाद तेजी से बढ़ रही है।

2011 की जनगणना के अनुसार जम्मू शहर की आबादी लगभग छह लाख के आसपास थी जिसमें 48000 मुस्लिम जनसंख्या थी 2019 में जम्मू शहर की आबादी 732000 के आसपास हो चुकी है जिसमें एक लाख मुस्लिम आबादी हो गई राजौरी और पुंछ जिले से आने वाले मुसलमान जम्मू के कोट भलवाल ,बनतालाब गुडा ब्राह्मणा मैं जमीन खरीद कर सेटल हो रहे हैं डोडा और किश्तवाड़ जिले से आने वाले मुसलमान नगरोटा, जानीपुर, जगती तथा खानपुर क्षेत्र में तेजी से बस रहे हैं इसके बाद जो मुसलमान कश्मीर वैली से आ रहे है वै Sidhra, Bithindi, Sunjwa, Chowadi, Bhela से लेकर फलां मंडाल की तरफ विस्तार कर रहे हैं।

तवी पुल से बेला होते हुए फलां मंडाल की तरफ बहुत तेजी से विस्तार हो रहा है यह क्षेत्र निक्की तवी के आसपास से होता हुआ एलओसी की तरफ लगता है इसमें यह बात सामने आई थी कि पाकिस्तान ISI कि यह साजिश थी कि इस क्षेत्र के स्ट्रेच को बॉर्डर से लेकर जम्मू शहर के साथ जोड़ा जाए जिसमें पूर्ण रूप से मुस्लिम आबादी हो ताकि यहां से इनफील्ट्रेशन होकर आसानी से आतंकवादी जम्मू के हिंदू बहुल अंदरूनी इलाके में पहुंच जाएं।

साभार https://www.facebook.com/arya.samaj/ से

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top