Friday, April 19, 2024
spot_img
Homeपाठक मंचअनुच्छेद 370 हटने के बाद कश्मीर

अनुच्छेद 370 हटने के बाद कश्मीर

प्रधानमंत्री मोदीजी के कश्मीर में उनके आगमन और भव्य स्वागत को देख कर लगा कि अनुच्छेद 370 के हटने के बाद घाटी में अभूतपूर्व बदलाव आया है।सभी कश्मीर-वासियों में गज़ब का उत्साह था, ख़ास तौर पर युवा पीढ़ी में।

कश्मीरी के प्रसिद्ध साहित्यकार साहित्य अकादमी-अवार्ड-प्राप्त पद्मश्री अमीन कामिल (जन्म 1924,देहांत 2014)की बात याद आ रही है। छठे-सातवें दशक में मैं उनसे कश्मीर में कई बार मिला हूं। मुझे याद है कि वे हिन्दी भाषा के हिमायती थे और मुझसे अक्सर कहते थे कि जब हम कश्मीरियों ने भारत के साथ नाता जोड़ लिया है तो फिर हिन्दी को सीखने में गुरेज क्यों? कम-से-कम हमारे बच्चों को तो यह भाषा सीखनी चाहिए।

कहने का तात्पर्य यह है कि समान्यतया कश्मीर का बुद्धिजीवी, लेखक और कुछ अपवादों को छोड़कर आमजन भी समझता था कि देश की मुख्यधारा से जुड़ने में ही उनकी भलाई निहित है। यह बात अलग है कि नेतागण उनको निजी स्वार्थवश गुमराह करते रहे।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार