Tuesday, April 16, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिमहाशिवरात्रि की पूर्व संध्या पर डाक विभाग ने श्री काशी विश्वनाथ मंदिर...

महाशिवरात्रि की पूर्व संध्या पर डाक विभाग ने श्री काशी विश्वनाथ मंदिर पर जारी किया विशेष आवरण

वाराणसी। भारतीय डाक विभाग एवं प्रयाग फिलाटेलिक सोसाइटी के तत्वावधान में आयोजित कार्यक्रम में वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव और श्री काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास परिषद् के अध्यक्ष प्रो. नागेन्द्र पाण्डेय ने महाशिवरात्रि की पूर्व संध्या पर “श्री काशी विश्वनाथ मंदिर” पर एक विशेष आवरण व विरूपण का विमोचन किया। वाराणसी प्रधान डाकघर के अविमुक्ता सभागार में आयोजित कार्यक्रम में इस विशेष आवरण पर रामायण का डाक टिकट लगाकर नंदी के चित्र के साथ इसका विरूपण किया गया। वाराणसी पश्चिमी मंडल के डाक अधीक्षक श्री विनय कुमार, सीनियर पोस्टमास्टर श्री पी.सी. तिवारी, प्रयाग फिलाटेलिक सोसाइटी के अध्यक्ष श्री प्रमोद कुमार बंसल और सचिव श्री राहुल गांगुली भी उपस्थित रहे।

इस अवसर पर श्री काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास परिषद् के अध्यक्ष प्रो. नागेन्द्र पाण्डेय ने कहा कि भगवान शिव का यह मंदिर द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक हैI बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी,अपने कण-कण में पौराणिक, ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक ज्ञान की अमृत धारा लिए हुए है और श्री काशी विश्वनाथ मंदिर इन सबको सहेजते हुए सदियों से लोगों की चेतना को स्पंदित करता रहा है। डाक विभाग विभिन्न डाक टिकटों और आवरण के माध्यम से देश की संस्कृति का वैश्विक स्तर पर प्रसार करने का उत्कृष्ट कार्य कर रहा है, इससे युवा पीढ़ी को भी अपनी समृद्ध विरासत और संस्कृति से जोड़ने में सहायता मिलेगी। प्रो. नागेन्द्र पाण्डेय ने कहा कि वर्ष 2021 में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में नव्य, दिव्य और भव्य श्री काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के उद्घाटन उपरांत श्रद्धालुओं और पर्यटकों को जहाँ ज्यादा सुविधाएं मिली हैं, वहीं बाबा के दरबार में आने वालों की संख्या में भी बढ़ोत्तरी हुई है। डाक विभाग के माध्यम से पूरे देश में स्पीड पोस्ट के माध्यम से श्री काशी विश्वनाथ मंदिर प्रसाद भेजे जाने की पहल की भी उन्होंने सराहना की।

पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि गंगा तट पर अवस्थित श्री काशी विश्वनाथ मंदिर सिर्फ धर्म और अध्यात्म नहीं बल्कि साहित्यिक, शैक्षणिक, सांस्कृतिक और दार्शनिक गतिविधियों का भी सदियों से केंद्र रहा है। ऐसे में इस विशेष आवरण से पूरे विश्व में वाराणसी और भगवान शिव से जुड़े सांस्कृतिक संबंधों का प्रसार होगा। इसका उद्देश्य श्री काशी विश्वनाथ मंदिर की महिमा, उसकी संस्कृति, उसकी पवित्रता सहित काशी के इतिहास को देश-दुनिया तक पहुँचाना है। दिव्य-काशी, भव्य-काशी के साथ यह काशी के सांस्कृतिक गौरव और अस्मिता को नई पहचान देगा।

डाक अधीक्षक विनय कुमार ने बताया कि श्री काशी विश्वनाथ मंदिर पर जारी उक्त विशेष आवरण मय विरूपण 25 रुपए में फिलेटलिक ब्यूरो, वाराणसी प्रधान डाकघर में उपलब्ध होगा।

इस अवसर पर डाक अधीक्षक विनय कुमार, सीनियर पोस्टमास्टर पी. सी. तिवारी, सहायक अधीक्षक सर्वेश सिंह, श्रीकान्त पाल, डाक निरीक्षक संजय सिंह, विक्की कुमार, श्रीप्रकाश गुप्ता, राहुल कुमार, आनंद प्रधान, दीपमणि, जगदीश शडेजा, सुशांत सिंह सहित तमाम अधिकारी, कर्मचारी, फ़िलेटलिस्ट इत्यादि उपस्थित रहे।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार