आप यहाँ है :

माय होम इंडिया द्वारा मणिपुर के अरिबमजी का सम्मान

माय होम इंडिया द्वारा ‘वन इंडिया अवॉर्ड 2018’ दादर स्थित स्वतंत्र सावरकर सभागृह में आयोजित कार्यक्रम में नागालैंड के राज्यपाल के हाथों मणिपुर के सामाजिक एकता के जनक अरिबम ब्रजकुमार शर्मा का सम्मान किया गया।

इस अवसर पर संस्था के संस्थापक सस्दय सुनील देवधर ने बताया कि ‘माय होम इंडिया’ द्वारा अनाथ बच्चों को उसके माता-पिता से मिलवाने का कार्य, अनाथगृहों से बच्चों को उसके घर पहुंचाने का कर्य, सजायाप्ता कैदियों को बेल न मिलने के कारण सजा से अधिक दिन जेल में बिताना पड़ता है उन्हें बेल देकर बाहर निकालने जैसे अनेक कार्य किए जाते हैं।

यह संस्था हर वर्ष ‘वन इंडिया अवॉर्ड ऐसे व्यक्ति को देती है जो समाज में उत्कृष्ट कार्य करते हैं। इस वर्ष का सम्मान मणिपुर के सामाजिक एकता के जनक अरिबम जी को दिया गया। उन्होंने मणिकपुर में अनेकों कार्य किए हैं।

‘मणिपुर कल्चरल इंटिग्रेशन कॉन्फरन्स’ के प्रवर्तक मणिपुर के अरिबम शर्मा को पtर्वोत्तर भारत में अपने असाधारण योगदान के लिए ‘माय होम इंडिया’ द्वारा वर्ष-२०१८ का वन इंडिया अवॉर्ड प्रदान किया गया। वन यानी अवर नॉर्थ ईस्ट इंडिया अवॉर्ड-२०१८. माय होम इंडिया इशान्य भारत में काम करने वाले सामाजिक कार्यकर्ताओं को पुरस्कार देकर सम्मानित करती है।

इस साल इस पुरस्कार का नौवां वर्ष है। हर साल मुंबई में पूर्वोत्तर भारत में काम कर रहे एक महान कार्यकर्ता का कार्य इस पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है। नागालैंड के राज्यपाल पीबी आचार्य के हाथों अरिबमजी को पुरस्कार दिया गया। सम्मान चिन्ह, सम्मान पद्म, नगर एक लाख रुपए और शाल (रिसा), नारियल पुरस्कार के स्वरूप में प्रदान किया गया।

अरिबम शर्मा अपने पूर्वोत्तर भारत से समाज के युवा को राष्ट्रीय अलगाववाद एवं नशा से मुक्त कर यौशेंग महोत्सव जैसे त्यौहार को क्रीड़ा विश्व के लिए प्रेरित किया। इसी तरह उच्च शिक्षा के लिए मणिपुर विश्वविद्यालय, रिजनल मेडिकल कॉलेज व केंद्रिय कृषि विश्वविद्यालय की स्थापना में अग्रीम योगदान दिया है। आज के समय में मणिपुर में दारूबंदी का पूर्णरूप से श्रेय अरिबमजी को जाता है।

कार्यक्रम की शुरुआत भारतमाता, रानीमॉ गाईडिनल्यु व युकीयांग नांगबा की तस्वीर के सामने दीप प्रज्ज्वलित कर की गई। २६/११ के हुतात्माओं को श्रद्धाजंलि अर्पित की गई। संविधान दिवस के उपलक्ष्य में बधाई दी गई। पहले माय होम इंडिया की ‘सपनों से अपनों तक’ प्रकल्प की डॉक्यूमेंट्री दिखाई गई।

इस अवसर पर नागालैंड के राज्यपाल पद्मनाभ आचार्य ने माय होम इंडिया का अभिनंदन किया। उन्होंने कहा कि आज देश बहुत परेशानियों से गुजर रहा है। ऐसे समय में सरकार को मदद करने के लिए माय होम इंडिया जैसी संस्थाएं सामने आए। आज भारत सरकार की ओर से युवाओं को जागतिक नए आयाम खुल गए हैं।

कार्यक्रम के विशेष अतिथि महाराष्ट्र के गृहनिर्माण मंत्री प्रकाश मेहता उपस्थित थे। माय होम इंडिया के अध्यक्ष डॉ. हरिष शेट्टी व संयोजक अजय जींदाल अपने विचार प्रकट किए।

अरिबम शर्मा ने अपने विचार अंग्रेजी में व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि माय होम इंडिया के प्रति आभार प्रकट करता हूं। राष्ट्र कल्याण के कार्य में मणिपुर कल्चरल इंटिग्रेशन कॉन्फरन्स ने युवाओं के जीवन में असाधारण परिवर्तन किया। अलगाववादी भूमिका के बजाए युवाओं में शिक्षा जागरण करना जरूरी है। इस प्रकार के अनेक कार्य की अधिकतम जरूरत पूर्वोत्तर राज्य को निश्चित है।

इस कार्यक्रम के सहप्रायोजक सारस्वत बैंक, वक्रांगी व सामी लैब थे। अरिबमजी के लिए तैयार किया हुआ सम्मानपद्म का गायन सौ. सीमा दणाईतजी ने किया। डॉ. हरीश शेट्टी ने आभार प्रकट किया। कार्यक्रम का सूत्र संचालन पराग नेरुरकर ने किया।

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top