Sunday, July 14, 2024
spot_img
Homeदुनिया भर कीअब इंद्राणी मुखर्जी का बेटा भी सामने आया, किए नए खुलासे

अब इंद्राणी मुखर्जी का बेटा भी सामने आया, किए नए खुलासे

शीना बोरा मर्डर केस में नए-नए खुलासे हो रहे हैं। इस पूरे मामले में रिश्ते के तार इस कदर उलझे हैं कि किसी को भी हैरान कर सकते हैं। पहले, शीना को इंद्राणी की बहन बताया जा रहा था। अब खुलासा हुआ है कि शीना पहले पति से उनकी बेटी थी। वहीं, अब शीना के भाई मिखाइल बोरा ने भी नए खुलासे किए हैं। मिखाइल ने कहा कि शीना बोरा मेरी बड़ी बहन है। इंद्राणी मेरी रियल मदर हैं। मेरी मां ने पीटर मुखर्जी से दूसरी शादी की है। पीटर मुखर्जी और उनके बेटे से रिलेशन के बारे में अभी कुछ नहीं बोलूंगा, पुलिस जांच के बाद बोलूंगा।
मिखाईल ने खबरिया चैनलों से बात कर इस बात का खुलासा करते हुए कहा है कि” मैं जब भी शीना के बारे में अपनी मां से पूछता था तो कहती थी कि उन्हें यूएस में नौकरी मिल गई है और शीना अब सेटल होना चाहती है और हमसे बात नहीं करना चाहती है। मुझे जो मोटिव लगता है वो मैं आपको 31 अगस्त को बताऊंगा। अगर वो मां होती तो ऐसा होता क्या, कोई मां अपने बच्चे को मार सकती है?”

“वो अपनी हाई सोसाइटी में हम लोगों को रिवील नहीं करना चाहती थी। मैं पीटर से एक दो बार मिला हूं, कैजुअल मीटिंग हुई थी। पीटर कभी गुवाहाटी नहीं आए, मैं मुंबई गया था। पीटर ज्यादातर बिजी रहते थे। पहले इंद्राणी मुखर्जी हमें फाइनेंशियल हेल्प करती थी, उसके बाद कुछ नहीं किया।”

मेरी बहन जिसके साथ मैं बड़ा हुआ हूं, एक मेल करके मुझे बताती थी कि मैं ठीक हूं। इंद्राणी मुखर्जी हमेशा कहती थी कि वो अभी बहुत बिजी है। अपने हाई सोसाइटी को बनाए रखने के लिए उन्होंने कहा कि शीना उनकी बहन हैं। वो शुरू से ही झूठ बोलती है।

मैं देखना चाहता हूं कि वो अपना क्राइम मानती है या नहीं, वरना मैं पुलिस को बताऊंगा। ये लोग लंदन में रहते हैं और जब मुंबई में होते हैं तब भी कहते हैं कि लन्दन में हैं। मेरे बायलॉजिकल फादर के बारे में मैं कुछ खुलासा नहीं करना चाहता, क्योंकि उनका कुछ लेना देना नहीं, उन्हें क्यों घसीटा जाए।

अगर वो ये कहेंगी कि शीना मेरे साथ नहीं रहती तो मैं वो भी साबित कर दूंगा। पहले उनका पक्ष सुनना चाहता हूं। वो पुलिस को क्या सच बताती है। नाना-नानी को मैंने नहीं बताया कि शीना अब इस दुनिया में नहीं है। इंद्राणी पिछले साल इनसे मिलने आई थीं। कहा था कि ओल्ड एज में रख दें, मैंने मना किया तो थोड़ी मुझसे भी लड़ाई की। मैं पहले बाहर काम करता था लेकिन अब नाना नानी की वजह से कहीं बाहर नहीं जा पाता। मुझे पैसा बंद करने की धमकी दी गई थी।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार