Sunday, March 3, 2024
spot_img
Homeमीडिया की दुनिया सेपाकिस्तान का हिन्दू पत्रकार छुआछूत का शिकार

पाकिस्तान का हिन्दू पत्रकार छुआछूत का शिकार

पाकिस्तान की सरकारी न्यूज एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस ऑफ पाकिस्तान (एपीपी) ने हिंदू पत्रकार को मुसलमानों के बर्तन में खाने-पीने से रोक दिया गया। हिंदू पत्रकार की जाति-धर्म जानने के बाद उसके पत्रकार सहयोगियों न केवल उसे अलग गिलास में पानी पीने को मजबूर किया गया, बल्कि कार्यस्थल पर दूसरे मुसलमान कर्मचारियों के साथ बरतन साझा करने पर रोक लगा दिया।

‘एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ के मुताबिक, एसोसिएटेड प्रेस ऑफ पाकिस्तान (एपीपी) के वरिष्ठ संवाददाता साहिब खान ओद को कार्यालय में दूसरे मुस्लिम कर्मचारियों के साथ एक गिलास में पानी पीने और बरतन साझा करने से रोक दिया गया। दादू जिले के रहने वाले ओद को शुरुआत में एपीपी के इस्लामाबाद में संवाददाता के तौर पर नियुक्त किया गया और इसके बाद उसे हैदराबाद में संवाददाता के तौर पर भेज दिया गया। लेकिन इस साल अप्रैल में उसका तबादला हैदराबाद से कराची कर दिया गया।

भेदभाव वाला रुख तब शुरू हुआ जब एक दिन ओद के छोटे बेटे राज कुमार उनके कार्यालय पहुंचे और हर किसी को पता चल गया कि वह हिंदू हैं। अखबार ने उनके हवाले से कहा, ‘दरअसल मेरे नाम में खान लगा है इसलिए दफ्तर में हर किसी को लगा कि मैं मुस्लिम हूं।’ उन्होंने दावा किया, ‘ब्यूरो चीफ ने कुछ सहयोगियों की आपत्ति के कारण कार्यालय में मुझे अपना पानी का गिलास अलग रखने को कहा।’

रमजान शुरू होने के कारण ओद को इफ्तार के समय एक मेज पर नहीं बैठने दिया गया और वरिष्ठ सहयोगियों ने सुझाव दिया कि अगर वह कार्यालय में खाना चाहते हैं तो अपना प्लेट और गिलास खुद लाएं। उन्होंने कहा, ‘मैं अब दफ्तर में अलग गिलास और एक प्लेट ला चुका हूं।’

उन्होंने कहा एपीपी कराची ब्यूरो प्रमुख परवेज असलम ने इस तरह के अनुरोध से इनकार किया। उन्होंने कहा, ‘वह फ्लू से पीड़ित थे, इसलिए हमने अलग गिलास की व्यवस्था करने को कहा।’ असलम ने कहा कि जब हैदराबाद से उनका तबादला हुआ था तो उन्होंने ओद का समर्थन किया था और भेदभाव के आरोपों को प्रचार का हथकंडा करार दिया।

उन्होंने कहा, ‘आप मेरे कार्यालय आइए और देखिए कि वह हमारे साथ इफ्तार में खाते हैं।’ बहरहाल, एपीपी के प्रबंध निदेशक मसूद मलिक ने कहा कि उन्होंने मामले की जांच शुरू कर दी है।

श्रम अधिकारों के लिए काम करने वाला संगठन पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ लेबर एजुकेशन एंड रिसर्च (पिलर) ने भेदभाव के रुख के खिलाफ संघीय सूचना मंत्री परवेज राशिद को एक पत्र लिखा है। पिलर के कार्यकारी निदेशक करमत अली ने कहा, ‘हम सचमुच हैरान हैं कि सरकारी समाचार एजेंसी के ब्यूरो चीफ ने एक संवाददाता पर इसलिए अलग गिलास में पानी पीने के लिए दबाव बनाया क्योंकि वह हिंदू हैं।’

साभारः samachar4media.com से

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार