Monday, July 22, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्ति15वें ताशकंद अतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में भारत की भागीदारी का पूर्वालोकन

15वें ताशकंद अतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में भारत की भागीदारी का पूर्वालोकन

नई दिल्ली। केंद्रीय सूचना और प्रसारण राज्य मंत्री डॉ. एल. मुरुगन इस साल उज्बेकिस्तान के ताशकंद में आयोजित होने वाले ताशकंद अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (टीआईएफएफईएसटी) में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे। इस फिल्म महोत्सव में भागीदारी का उद्देश्य सिनेमा से संबंधित साझेदारी करना, कार्यक्रमों का आदान-प्रदान करना, फिल्म निर्माण को बढ़ावा देना और संस्कृतियों के बीच एक पुल के रूप में काम करना है। “सिल्क रोड के मोती” के रूप में विख्यात ताशकंद अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव को साल 1968 में शुरू किया गया था और भारतीय फिल्म-आम्रपाली को इस महोत्सव के उद्घाटन संस्करण में दिखाया गया था।

भारतीय सिनेमा ने अपने शुरुआती दिनों में ही, जब श्री राज कपूर की फिल्मों को पूरे विश्व, विशेष रूप से उज्बेकिस्तान और मध्य एशिया क्षेत्र से प्यार मिलता था, अपना नाम कमाया था। भारतीय सिनेमा का आकर्षण आज भी बना हुआ है क्योंकि, कहानी कहने (स्टोरीटेलिंग) का हमारा सांस्कृतिक तरीका और कला के विभिन्न रूप स्टोरीटेलिंग में पारंगत हैं। साथ ही, न केवल भारत में बल्कि, पूरे विश्व में इसकी सराहना की जाती है। उदाहरण के लिए, श्री राजामौली की फिल्म आरआरआर का गाना “नाटू नाटू”, जिसने हाल ही में पूरे विश्व के सिनेमा प्रेमियों का दिल जीतकर गोल्डन ग्लोब में सर्वश्रेष्ठ गीत का पुरस्कार अपने नाम किया।

इतिहास में उज्बेकिस्तान और भारत के आपसी संबंधों की जड़ें बहुत गहरी हैं। हाल के वर्षों में माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में द्विपक्षीय संबंध तेजी से मजबूत हुए हैं। अपने विकास की मौजूदा संभावनाओं के साथ भारत, विश्व के लिए एक समृद्ध फिल्मांकन वातावरण और भविष्य को लेकर विकसित उद्योग के निर्माण के संबंध में हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की सोच के अनुरूप फिल्मों का सह-निर्माण करने, सिनेमा की समझ व तकनीकों का आदान-प्रदान करने और हमारे सिनेमा/उद्योगों को समावेशी बनाने के तरीके विकसित करने के लिए उत्सुक है। इस साल शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की अपनी अध्यक्षता के दौरान भारत ने जनवरी, 2023 में मुंबई में एससीओ फिल्म महोत्सव का आयोजन किया था।

ताशकंद अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में भारत की भागीदारी माननीय सूचना और प्रसारण व युवा कार्यक्रम और खेल मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर की ओर से प्रदत्त विषयवस्तु- ‘भारत की रचनात्मक अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन’ पर आधारित है, जो रोमांचक और सार्थक चर्चाओं के लिए एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य करने का विश्वास दिलाता है।

जैसा कि हमने भारत के लिए वैश्विक सामग्री (कंटेंट) केंद्र बनने और एक सहयोगी फिल्मांकन वातावरण के निर्माण बनाने का रास्ता तैयार किया है, ताशकंद अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव उज्बेकिस्तान और अन्य प्रतिभागी देशों के बीच सिनेमा से संबंधित साझेदारी के लिए एक मंच प्रदान करेगा। विदेशी फिल्म निर्माताओं के लिए प्रोत्साहन की घोषणा भारत में अधिक फिल्म निर्माताओं को आकर्षित करने के प्रयासों को बढ़ावा देगा।

इसके अलावा इस फिल्म महोत्सव का उपयोग इस साल आयोजित होने वाले 54वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईआईएफआई) के संस्करण को बढ़ावा देने के लिए किया जाएगा, जिसका आयोजन भारत के गोवा में 20 से 28 नवंबर, 2023 तक निर्धारित है।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार