ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

शाहरुख खान के मक्का पहुँचने पर भड़के कट्टरपंथी

अभिनेता शाहरुख खान (Shahrukh Khan) ने हाल ही में सऊदी अरब (Saudi Arab) में अपनी फिल्म ‘डंकी’ की शूटिंग खत्म की। शाहरुख ने गुरुवार (1 दिसंबर 2022) को अपने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर कर इसकी जानकारी दी। इसके बाद शाहरुख खान की मक्का में उमराह (Umrah) करते हुए कई तस्वीरें सामने आई है।

इन तस्वीरों को टीम शाहरुख खान नाम के इंस्टाग्राम हैंडल पर साझा किया गया है।

सऊदी अरब के पत्रकार सईद हाफिज ने भी बॉलीवुड अभिनेता के मक्का में उमराह करते हुए तस्वीरें साझा की हैं। उन्होंने ट्वीट किया, “बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान ने मक्का में उमराह किया। अल्लाह तआला उनके उमराह को कुबूल करे, आमीन।” इन तस्वीरों में वह कई लोगों से घिरे हुए नजर आ रहे हैं। उन्होंने सफेद रंग की पोशाक पहनी हुई है। साथ ही मास्क भी लगा रखा है।

कहा जाता है कि उमराह हज की तरह ही है। हज के लिए एक निश्चित समय होता है, लेकिन उमराह कभी भी किया जा सकता है। शरीयत (इस्लाम के कानून) के अनुसार, हज और उमराह के लिए सबसे पहले मुस्लिमों को पाक किया जाता है। इसके लिए उन्हें विशेष पोशाक दी जाती है। उमराह इस्लाम में हज की तरह फर्ज नहीं, बल्कि सुन्नत है। यानी हज को जाना एक मुस्लिम के लिए जरूरी होता है लेकिन उमराह पर जाना उसकी इच्छा और हैसियत पर निर्भर करता है। वहीं हज की तुलना में उमराह कुछ ही घंटों में पूरा किया जाता है।

जैसे ही मक्का में उमराह करते शाहरुख खान की तस्वीरें सोशल मीडिया पर आईं मुस्लिम कट्टरपंथियों ने बॉलीवुड अभिनेता को गाली देना और उन पर सवाल उठाना शुरू कर दिया। अमाल कहता है, “शाहरुख मूर्तियों की पूजा करता है। वह अपने घर में हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियाँ रखता है। इस्लाम में यह सबसे बड़ा पाप माना जाता है।”

रिज नाम के ट्विटर अकाउंट ने कहा कि शाहरुख खान की बॉलीवुड से कमाई इस्लाम के अनुसार हराम है, ऐसे में उसका उमराह कैसे कबूल किया जाएगा।

एक अन्य ने कहा कि इसकी शादी एक हिंदू से हुई है। वह अपने घर में मूर्तियाँ रखता है। नियमित रूप से उसके घर में मूर्ति पूजा होती है। सिर्फ इसलिए कि उसे एक मुस्लिम नाम मिला है, इसका मतलब यह नहीं है कि मुस्लिम उसे अपना लें।

मारूफ अहमद ने कहा, “आधा मुस्लिम आधा हिंदू। शाहरुख पूरी तरह से मुस्लिम नहीं है कि वह उमराह कर सकें।”

इसके अलावा इंस्टाग्राम और ट्विटर पर इस्लामी कट्टरपंथियों ने शाहरुख खान को जमकर गालियाँ दीं। उनके मुताबिक, वह उमराह करने के काबिल नहीं हैं, क्योंकि वे शाहरुख को पूरी तरह से मुस्लिम नहीं मानते हैं। एक हिंदू से शादी, घर में हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियाँ रखने और उनके पूजा करने पर शाहरुख को पापी कहा जा रहा है। हालाँकि, यह पहली बार नहीं है जब शाहरुख खान को अपने घर में मूर्तियाँ रखने और गौरी खान से शादी करने के लिए ट्रोल किया गया है।

बता दें कि अगस्त 2022 में बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान ने गणेश चतुर्थी के अवसर पर भगवान की मूर्ति की तस्वीर सोशल मीडिया पर साझा की थी। साथ ही सभी को गणेश चतुर्थी की बधाई दी थी। इस पोस्ट पर उनके मजहब के कुछ लोग भड़क उठे और उन्हें खरी-खोटी सुनाने लगे। तैमूर उल हसन नामक एक यूजर ने लिखा था, “मुस्लिमों के लिए कितनी शर्म की बात है सर। आपको मुस्लिम या हिंदू होने के लिए किसी एक धर्म को चुनना चाहिए। आपको पता होना चाहिए कि मुसलमान केवल अल्लाह की इबादत करते हैं और पैगंबर मुहम्मद मानवता के जीवन को बदलने के लिए आए थे। पैगंबर ने हमें सुंदर मजहब दिया।”

साभार- https://hindi.opindia.com/s से

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Get in Touch

Back to Top