Thursday, June 13, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिराष्ट्रीय सार्वजनिक पुस्तकालय दिवस -2024 के अवसर पर पक्षियोx के लिए बांधे...

राष्ट्रीय सार्वजनिक पुस्तकालय दिवस -2024 के अवसर पर पक्षियोx के लिए बांधे परिण्डे , युवा पाठको ने लिया गोद

डॉ शशि जैन को ”बेस्ट पब्लिक लाईब्रेरीयन ऑफ दी यीअर- 2024” से सम्मान

बुक डोनेशन ड्राईव मे वरिष्ठ कथाकार ,समीक्षक एवं आलोचक विजय जोशी ने पुस्तकालय को विभिन्न विधाओ की 501 पुस्तके भेंट की |

        कोटा। राजाराम मोहन रॉय की 252 वी जयंती को राजकीय सार्वजनिक मण्डल पुस्तकालय कोटा मे राष्ट्रीय सार्वजनिक पुस्तकालय दिवस के रूप मे मनाया गया | इस अवसर पर “सुधिजन विमर्श” कार्यक्रम का आयोजन किया गया | कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विजय जोशी वरिष्ठ कथाकार , समीक्षक एवं आलोचक , अध्यक्षता डॉ राजेश गौत्तम सचिव राजस्थान दृष्टिहीन निःशक्त जन सेवा समिति , विशिष्ट अतिथि डॉ प्रीतिमा व्यास पुस्तकालयाध्यक्ष अकलंक महाविधालय , रजनीश नागर संरक्षक राजस्थान दृष्टिहीन निःशक्त जन सेवा समिति, नरेंद्र शर्मा स्वयसेवक अस्थायी असमर्थ पुस्तकालय सेवा मौजूद रहे | गेस्ट ऑफ ऑनर डॉ शशि जैन रही | पुस्तकालय प्रशासन द्वारा इस अवसर पर डॉ शशि जैन के सार्वजनिक पुस्तकालय के क्षेत्र मे अमूल्य योगदान के लिए”बेस्ट पब्लिक लाईब्रेरीयन ऑफ दी यीअर- 2024” से सम्मानित किया गया |

बुक डोनेशन ड्राईव मे वरिष्ठ कथाकार ,समीक्षक एवं आलोचक विजय जोशी ने पुस्तकालय को विभिन्न विधाओ की 501 पुस्तके भेंट की | इस अवसर पर जोशी ने कहा की यह अवसर ऐसा हे जिसमे साहित्यिक समुदाय को सार्वजनिक पुस्तकालय कर्मियों को सम्मानित करना चाहिए तथा पुस्तकालयो को समृद्ध करने के लिए पुस्तके भेट करनी चाहिए | पुस्तकालय मंदिर हे तो पुस्तकालयाध्यक्ष उस मंदिर का पुजारी हे |

डॉ राजेश गौत्तम ने कहा की नेत्रहीन होने के नाते मे विश्वास से कह सकता हूँ कि कोटा पुस्तकालय ब्रेल साहित्य , ओड़ीयों बुक्स तथा असीस्टीव टेक्नोलोजी मे राजस्थान मे श्रेष्ठतम स्थान पर विराजित हे | इस अवसर डॉ प्रीतिमा व्यास ने बताया की वर्तमान सार्वजनिक पुस्तकालय शोध के लिए अतुलनीय कार्य कर रहा हे यहा से कई देशी विदेशी शोधार्ती अपना शोध कार्य कर रहे हे | नागर ने बताया की मे राजस्थान दृष्टिहीन निःशक्त जन सेवा समिति का संरक्षक होने के साथ गर्व से यह बात कह सकता हूँ कि यह पुस्तकालय दृष्टिबाधित पुस्तकालय सेवा मे देश मे अग्रणी पंक्ति मे स्थान रखता हे तथा यहाँ का “वॉयस डोनेशन इनीशिएटीव” अंतराराष्ट्रीय रूप से ख्यात हे |

इस अवसर पर भाषा एवं पुस्तकालय विभाग के निर्देशों की पालना मे पक्षियों के लिए परिण्डे बांधे गए तथा इस पुस्तकालय के 21 युवा पाठको ने लिया इन परिण्डो को गोद लिया और आश्वस्त किया की वह नित्य पार्टी उनकी देखभाल करेंगे |इन युवाओ मे जीतेन्द्र मीणा, अनुराग मीणा.सचिन मीणा,प्रवीण मीणा, सुरेन्द्र सैनी,दिलखुश गुर्जर, ललित मीणा,अरूण कूमार,अर्जुन परमार, निखिल राठौर,लोकेश गुर्जर, विनय प्रतापसिंह, रिंकु मीणा, -रुकमणी मीणा, सानिघ्य व्यास, आकाश कुमार रवि, धर्मेष अग्रवाल,क्षितिज सोलंकी एवं नीतू शामिल हे |

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार