Saturday, July 20, 2024
spot_img
Homeपुस्तक चर्चाशिखा की पुस्तक "मन दर्पण के प्रतिबिंब" काव्य संग्रह का विमोचन

शिखा की पुस्तक “मन दर्पण के प्रतिबिंब” काव्य संग्रह का विमोचन

कोटा। राजस्थान साहित्य अकादमी के सहयोग से प्रकाशित शिखा अग्रवाल की पुस्तक “मन दर्पण के प्रतिबिंब” काव्य संग्रह का विमोचन रविवार को मदर टेरेसा महाविद्यालय में साहित्यकारों द्वारा किया गया।
मधुकर काव्य सृजन संस्थान द्वारा आयोजित समारोह संस्थान की में त्रैमासिक पत्रिका “काव्य – सृजन” का भी विमोचन के साथ – साथ 28 साहित्यकारों का सम्मान भी किया गया। समारोह के अध्यक्ष साहित्यकार जयसिंह आशावत, मुख्य अतिथि साहित्यकार सुरेन्द्र शर्मा, अति विशिष्ट अतिथि पूर्व संयुक्त निदेशक जनसंपर्क विभाग डॉ.प्रभात कुमार सिंघल, विशिष्ट अतिथि साहित्यकार निर्मल ओदिच्य, विजय पुरोहित एवं न्यायिक अधिकारी बीना जैन द्वीप थे।

समारोह में नवोदित रचनाकारों लोकेश मीणा ‘आजाद, श्रीमती प्रतिभा शर्मा, श्रीमती पल्लवी न्याती, श्रीमती शिखा अग्रवाल, विष्णु शंकर मीणा और दीनबन्धु मीणा सहित साहित्यकारों में जितेन्द्र निर्मोही, विजय जोशी, भगवती प्रसाद गौतम,भगीरथ परिहार, किशन लाल वर्मा,पं लोक नारायण शर्मा, शिवनारायण वर्मा, फ़िरोज़ अहमद, जय सिंह आशावत, गौरस प्रचंड, सी.एल. सांखला, डाॅ.अनिता वर्मा, चन्दा लाल चकवाला, रघुराज सिंह ‘कर्मयोगी’, हेमराज सिंह ‘हेम’, अश्विनी त्रिपाठी, दिनेश सिंह, प्रीतिमा ‘पुलक’, और सलीम स्वतंत्र को विभिन्न संस्थाओं द्वारा पुरस्कार प्राप्त करने हेतु माल्यार्पण कर अंगवस्त्र, अभिनन्दन-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया।

अतिथियों द्वारा माँ सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन किया गया और गीतकार आर.सी.आदित्य ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। संस्थान अध्यक्ष जोधराज परिहार मधुकर में स्वागत किया। गीतकार प्रेम शास्त्री ने संचालन किया एवं कैलाश चन्द्र साहू ने आभार व्यक्त किया। समारोह में बड़ी संख्या में साहित्यकार उपस्थित रहे।
——
चित्र : पुस्तक विमोचन और साहित्यकार सम्मान

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार