Sunday, May 19, 2024
spot_img
Homeआपकी बातहालात कहीं और गम्भीर तो नही हो रहे हैं ?

हालात कहीं और गम्भीर तो नही हो रहे हैं ?

कोई भी बंदा भविष्यवाणी करने की जोखिम उठाने को तैयार नहीं है कि जो कुछ भी भयानक अभी चल रहा है उसका कब और कैसे अंतहोगा ?और यह भी कि समाप्ति के बाद पैदा होने वाले उस संकट से दुनिया कैसे निपटेगी जो और भी ज़्यादा मानवीय कष्टों से भरा होसकता है ?स्वीकार करना होगा कि पश्चिमी देशों में जिन मुद्दों को लेकर बहस तेज़ी से चल रही है उन्हें हम छूने से भी क़तरा रहे हैं।पतानहीं हम कब तक ऐसा कर पाएँगे क्योंकि उनके मुक़ाबले हमारे यहाँ तो हालात और ज़्यादा मुश्किलों से भरे हैं।

पश्चिम में बहस इस बात को लेकर चल रही है कि प्राथमिकता किसे दी जाए—तेज़ी से बर्बाद होती अर्थव्यवस्था बचाने को या फिरसंसाधानों के अभाव के साथ लोगों को बचाने को ?अमेरिका में जो लोग उद्योग-व्यापार के शिखरों पर हैं वे आरोप लगा रहे हैं कि सरकारअर्थव्यवस्था को जो नुक़सान पहुँचा रही है उसकी भरपाई नहीं हो सकेगी।अगर समूचा तंत्र लोगों को बचाने में ही झोंक दें तो भी पर्याप्तचिकित्सा संसाधन और दवाएँ उपलब्ध नहीं हैं।और यह भी कि सभी लोगों को बचाए जाने तक तो आर्थिक स्थिति पूरी तरह से चौपट होजाएगी।लाखों-करोड़ों लोग बेरोज़गार हो जाएँगे।आज भी स्थिति यही है कि जो लोग चिकित्सीय जिम्मदारियां निभाने, आवश्यकवस्तुओं के उत्पादन और आपूर्ति आदि के कामों में लगे हैं रोज़गार केवल उन्हीं के पास बचा है।अतः आर्थिक गतिविधियाँ तुरंत चालू हों।

महामारी से प्रभावित लोगों को बचाने के मामले में भी बहस इसी बात को लेकर है कि प्राथमिकता किसे दी जाए ? उन बूढ़े बीमारों कोजो अब किसी भी तरह का उत्पादक काम करने की उम्र पूरी कर चुके हैं और बचा लिए गए तो भी अर्थव्यवस्था पर भार बनकर ही रहेंगे, या फिर उन लोगों को जिनके पास अभी उम्र है और उनका जीवित रहना देश को फिर से आर्थिक पैरों पर खड़ा करने के लिए आवश्यक है? यह बहस सबसे पहले इटली में डाक्टरों की ओर से शुरू हुई थी जहाँ कि मरने वालों की संख्या अब दुनिया में सबसे ज़्यादा यानी किबारह हज़ार के क़रीब पहुँच रही है।इनमें भी अधिकांश बूढ़े बताए जाते हैं।

भारतीय आस्थाओं,मान्यताओं और चलन में पश्चिम की तरह के सोच के लिए चाहे अभी स्थान नहीं हो पर

जो लोग फ़ैसलों की जिम्मदारियों से बंधे हैं उन्हें भी कुछ तो तय करना ही पड़ेगा। वह यह कि —क्या जनता के साथ-साथ आर्थिकगतिविधियाँ भी ‘लॉक डाउन’ में रहें ?और कि अगर 1826 लोगों के बीच अस्पताल का केवल एक पलंग उपलब्ध हो किसी बूढ़े व्यक्तिको पहले मिले कि जवान को ?हमने नए अस्पताल बनाने का काम तेज़ी से शुरू कर दिया है और वेंटिलेटर ख़रीदने के ऑर्डर भी जारी करदिए हैं।पर क्या तब तक सब कुछ रुका रह सकता है ?हाँ ,वे रेलगाड़ियाँ अवश्य थमी रह सकती हैं जिनकी कि बोगियों को’आयसोलेशनवॉर्ड्स’ में बदला जा रहा है।हालात कहीं और गम्भीर तो नहीं हो रहे हैं ?

(लेखक कई समाचार पत्रों के प्रपमुख संपादक रहे हैं और राजनीतिक विश्लेषक हैं)

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार