ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

भूतपूर्व दो मंत्रियों ने नए मंत्रियों को शुभकामनाएँ नहीं दी

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कल कैबिनेट का विस्तार कर लिया. भारत सरकार में कुल मंत्रियों की संख्या 78 हो गई है. प्रधानमंत्री मोदी की इस नई टीम में कई नए चेहरे और युवाओं को जगह दी गई है. लेकिन सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहने वाले पीएम मोदी के पूर्व साथियों और मंत्रियों का दिन कैसा रहा ? शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिसे अपना मंत्री पद छीन जाने की तकलीफ नहीं होगी. लेकिन अब तक कुछएक मंत्रियों को छोड़कर किसी ने भी मंत्री पद छिन जाने के बाद कोई बड़ी प्रतिक्रिया नहीं दी…

रविशंकर प्रसाद ने नहीं दी शुभकामनाएं..
सोशल मीडिया में काफी एक्टिव रहने वाले रवी शंकर प्रसाद ने 8 जुलाई की खबर लिखे जाने तक नए मंत्रिमंडल को ना तो शुभकामनाएं दी और ना ही कोई और ट्वीट किया. हालांकि उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट से अपने विभाग और मंत्री पद की जानकारी के कुछ ट्वीट जरूर हटा लिए. बता दें कि हाल में रविशंकर प्रसाद और ट्विटर के बीच चल रहे कोल्ड वॉर के कारण वे सुर्खियों में थे.

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री ने दी शुभकामनाएं…

कोरोना काल में देश का स्वास्थ्य मंत्रालय संभालने वाले डॉक्टर हर्षवर्धन ने सभी नए मंत्रियों को शुभकामनाएं दी. इसके साथ ही उन्होंने नए मंत्रियों के शपथ ग्रहण समारोह को अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर भी किया. इसे शेयर करते हुए डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि नई टीम इंडिया को मेरी ओर से ढेर सारी शुभकामनाएं. बता दें कि वैक्सीन और ऑक्सीजन की किल्लत के कारण हाल के दिनों में सबसे ज्यादा स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी दबाव झेला था.

दिलीप कुमार के निधन पर किया ट्वीट
कई विभागों को संभालने वाले प्रकाश जावड़ेकर ने भी नए मंत्रिमंडल के स्थापना के बाद शुभकामनाएं नहीं दी. हालांकि उन्होंने दिलीप कुमार की मृत्यु पर अपनी संवेदनाएं जरुर व्यक्त की. बता दें कि प्रकाश जावड़ेकर के पास संसदीय कार्य मंत्री , मानव संसाधन विकास मंत्री, भारी उद्योग व सार्वजनिक उपक्रम मंत्री, पर्यावरण , वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री और सूचना व प्रसारण विभाग थे.

अपने पद से हटाए गए मंत्रियों में सबसे ज्यादा चर्चा में बाबुल सुप्रीयो का ट्वीट रहा. उन्होंने ठीक कर लिखा कि इस्तीफा मांगने का यह तरीका सही नहीं था. उन्होंने कहा कि उनसे इस्तीफा देने को कहा गया तो उन्होंने दे दिया. बता दें कि बाबुल सुप्रियो केंद्र में पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग के मंत्री थे.

साभार- https://www.nayaindia.com/ से

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top