Friday, June 14, 2024
spot_img
Homeआपकी बातमुगलिया सल्तनत के इतिहास को हम विध्वंस के इतिहास के रूप में...

मुगलिया सल्तनत के इतिहास को हम विध्वंस के इतिहास के रूप में जानते हैं , लोक कल्याण के लिए बिलकुल नहीं

कम से कम भारतीय संदर्भ में तो हम मुगलिया सल्तनत के इतिहास के 700 वर्ष को विध्वंस के इतिहास के रूप में जानते हैं । लोक कल्याण के नहीं । जो भी ऐतिहासिक इमारतें मुगल काल के आक्रमणकारी शासकों ने बनाई हैं अपने रहने और अपनी शानो-शौकत के लिए । लालकिला , ताजमहल , कुतुबमीनार या चारमीनार जैसी तमाम इमारतों का ऐतिहासिक महत्व तो है पर क्या यह जनता के भले के लिए बनाई गईं ? जनता के रहने के लिए बनाई गईं ? बाबरी मस्जिद के लिए जान लड़ाने वाले लोग कभी इस मुद्दे पर बात क्यों नहीं करते कि अयोध्या में राम जन्म-भूमि , मथुरा में कृष्ण जन्म-भूमि या काशी में काशी विश्वनाथ मंदिर से ही सट कर , दीवार से दीवार सटा कर ही मस्जिद बनाना इतना ज़रूरी क्यों था ? जजिया , खून खराबा तथा तलवार के बल पर जबरिया धर्म परिवर्तन के लिए इतिहास में मुगल काल को जाना जाता है । लूट-पाट और आक्रमणकारी छवि आज भी मिटी नहीं है , बावजूद तमाम ऐतिहासिक बेईमानियों और सो काल्ड सेक्यूलरिज्म के । यहां तक कि अकबर दुनिया का पहला सम्राज्यवादी शासक है । ब्रिटेन का साम्राज्यवाद तो बहुत बाद में आया । आज भी समूची दुनिया में मुसलमान अपने इस खून खराबे के इतिहास से बाहर निकलने को तैयार नहीं दीखते । ब्रिटिशर्स ने तो फिर भी बहुत से लोक कल्याणकारी कार्य किए जो आज भी अपनी पूरी बुलंदी के साथ दीखते हैं ।

आज इस सभ्य समाज में भी मुस्लिम समाज के लोग अपनी उन्नति मदरसों , मज़हबी अफीम और दारुल उलूम में ही देखते हैं । इस्लाम उन के लिए पहले है , मनुष्यता और देश भाड़ में जाए । एक से एक पढ़े-लिखे मुसलमान भी इस्लाम में ही पहली सांस ढूंढते हैं । एक मौलाना अंसार रज़ा बड़े फख्र से कहते हैं कि अगर मुसलमान होगा तो शरीयत का ही क़ानून मानेगा। ज्ञान-विज्ञान पढ़े मुस्लिम लोग भी अपनी पहचान मदरसों और दारुल उलूम में खोजते मिलते हैं तो यह देख कर बहुत हैरानी और तकलीफ होती है । सोचता हूं कि क्या यह पढ़े-लिखे लोग हैं ? आज भी आग पर चलना , देह पर छुरी मारना इन के लिए ज़रूरी है । यह अनायास नहीं है कि मुस्लिम समाज के स्वाभाविक नेता ओवैसी या आज़म खान जैसे जाहिल और जहरीले लोग हैं । यही रहेंगे । कांग्रेस , सपा , बसपा , लालू , ममता जैसे लोग इन को बिगाड़ कर पत्ते की तरह इन का वोट बटोरने के लिए हैं ही । सेक्यूलरिज्म का एक सो काल्ड कवच-कुंडल इन के पास है ही ।

ब्रिटिशर्स जिन को गांधी ने देश छोड़ने के लिए मज़बूर कर दिया , वह ब्रिटेन के संसद परिसर में गांधी की प्रतिमा बड़ी शान से लगाते हैं , रिचर्ड एटनबरो गांधी पर शानदार फ़िल्म बनाते हैं । अपने रुलर की छवि तोड़ कर , गुलाम बनाना भूल कर दोस्ताना व्यवहार बनाते हैं । और यहां हमारे मुस्लिम समाज के लोग आज भी एक आक्रमणकारी की निशानी बाबरी के लिए जान लड़ाने में अपना शौर्य समझते हैं । अपने आक्रमणकारी इतिहास में इन्हें इतना मजा आता है कि उस से निकलना अपनी तौहीन समझते हैं । वह आज भी अपने को वही खूखार रुलर समझने के नशे में चूर रहते हैं । गंगा-जमुनी तहज़ीब का नशीला फ़रेब अलग है । खैर , गंगा जमुनी तहज़ीब के बरक्स राहत इंदौरी का एक शेर मुलाहिजा कीजिए :

कब्रों की ज़मीनें दे कर हम मत बहलाइए
राजधानी दी थी , राजधानी चाहिए ।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार