Friday, April 19, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिपश्चिम रेलवे के राजकोट मंडल "क्रिमिनल डोजियर सर्च सिस्टम" का शुभारंभ

पश्चिम रेलवे के राजकोट मंडल “क्रिमिनल डोजियर सर्च सिस्टम” का शुभारंभ

मुंबई। पश्चिम रेलवे का रेलवे सुरक्षा बल अपराधों, विशेष रूप से यात्री से संबंधित अपराधों का पता लगाने में सीसीटीवी का प्रभावी उपयोग कर रहा है। इस उद्देश्य को और बल‌ देते हुए राजकोट मंडल द्वारा इन-हाउस फेशियल रिकॉग्निशन सिस्टम (FRS) आधारित क्रिमिनल डोजियर सर्च सिस्टम विकसित किया गया है। पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री अशोक कुमार मिश्रा द्वारा भी हाल ही में राजकोट मंडल के दौरे के दौरान इस अभिनव प्रयास की सराहना की गई।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी श्री सुमित ठाकुर द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार भारतीय रेल पर अपनी तरह का पहला फेस रिकॉग्निशन सिस्टम आधारित डोजियर सर्च सिस्टम की संकल्पना और विकास पश्चिम रेलवे के राजकोट मंडल द्वारा एक पायलट प्रोजेक्ट के रूप में किया गया है। इस सिस्टम को ओपन-सोर्स कोड, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और डीप लर्निंग एल्गोरिदम के साथ विकसित किया गया है। महाप्रबंधक श्री मिश्र ने नवोन्मेषी प्रणाली विकसित करने के लिए टीम को सराहना के प्रतीक के रूप में नकद पुरस्कार देने की घोषणा की।

श्री ठाकुर ने आगे बताया कि यह प्रणाली पश्चिम रेलवे के महानिदेशक एवं प्रमुख मुख्य सुरक्षा आयुक्त श्री पी. सी. सिन्हा के मार्गदर्शन में विकसित की गई है। प्रारंभ में, परियोजना की व्यवहार्यता का मूल्यांकन करने और मल्टीपल फेस रिकॉग्निशन एल्गोरिदम का आकलन करने के लिए एफआरएस का पायलट प्रोजेक्ट मई, 2022 में मंडल सुरक्षा आयुक्त कार्यालय राजकोट में स्थापित किया गया था। इसके अलावा, चेहरे की पहचान की सटीकता, मानव और जानवरों के बीच अंतर, पहचान में प्रकाश जोखिम का प्रभाव, डेटाबेस के साथ फोटो मिलान, इमोशन का पता लगाना, ढके हुए चेहरे का पता लगाना और लाइव ट्रैकिंग आदि के संबंध में 6 महीने से अधिक समय तक डीएससी कार्यालय में कई चेहरे की पहचान एल्गोरिदम और परीक्षण मामलों का मूल्यांकन किया गया था। इन-हाउस एफआरएस सेटअप की सटीकता और आत्मविश्वास के स्तर ने प्रारंभिक परीक्षण परिणाम में 97.3% तक सटीकता के साथ बहुत आशाजनक परिणाम दिखाए। बाद में, लगभग 88-93% की सटीकता के साथ रियल टाइम में प्रदर्शन का आकलन करने के लिए 2023 में राजकोट स्टेशन पर सेटअप का परीक्षण किया गया था।

नई व्यवस्था लागू होने के बाद वर्तमान स्थिति:-
1. राजकोट मंडल में चयनित आरपीएफ ट्रेन एस्कॉर्ट पार्टियों को चलती ट्रेनों में सक्रिय संदिग्धों/अपराधियों की पहचान करने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है।
2. राजकोट मंडल के स्टेशनों पर तैनात चयनित आरपीएफ कर्मचारियों को संदिग्धों की तस्वीर लेने और रेलवे क्षेत्रों में सक्रिय अपराधियों का पता लगाने के लिए ऐप दिया गया है।
3. राजकोट मंडल के 600 से अधिक अपराधियों का आपराधिक डेटाबेस बनाया गया है और अब अन्य डोजियर विवरण जोड़े जा रहे हैं।

भविष्य के कार्य के लिए :-
1. इसे अनुकूलित ओपन-सोर्स कोड के उपयोग के कारण लगभग शून्य लागत पर भारतीय रेलवे में एफआरएस का उपयोग करके अपराधियों का वास्तविक समय में पता लगाने के लिए विकसित और उपयोग किया जा सकता है।
2. इसका उपयोग कार्यालय कर्मचारियों की एफआरएस आधारित उपस्थिति अंकन, स्टेशनों पर स्टॉल विक्रेताओं और संविदा श्रमिकों के सत्यापन आदि के लिए किया जा सकता है।
3. पश्चिम रेलवे के अन्य सभी डिवीजनों को पहुंच प्रदान की जाएगी।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार