ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

एक विशुद्ध हिन्दीगजल

कर्मवीरों के प्रयासों को डिगा सकते नहीं ।
शब्द-सन्धानी परावर्तन करा सकते नहीं ।।

अस्मिता का अर्थ बस उपलब्धि हो जिनके लिए ।
इस तरह के झुण्ड निज-गौरव बचा सकते नहीं ।।

गुप्त-गाथाएँ पढ़ीं तो दग्ध-अन्तस ने कहा ।
अन्धकारों के रसिक दीपक जला सकते नहीं ।।

अन्ततोगत्वा दशानन हारता है राम से ।
शान्ति-हन्ता शान्ति-दूतों को हरा सकते नहीं ।।

हम प्रलोभन के लिये उतरे नहीं संग्राम में ।
मातु श्री जगदम्ब का मस्तक झुका सकते नहीं ॥

जल-प्रपातों की कलाएँ सीखना अनिवार्य है ।
अन्यथा हम प्रेम की गंगा बहा सकते नहीं ।।

परावर्तन – प्रत्यावर्तन, सम्पादन करते हुए मूलस्वरूप को प्रतिष्ठापित करना
शब्द-सन्धानी – लफ़्फ़ाज़, बकलोल;
जल-प्रपात – झरना

:- नवीन सी. चतुर्वेदी
*******

साभार
नवीन सी. चतुर्वेदी
मुम्बई
+91 9967024593
Webpage: http://www.saahityam.org/
Facebook: https://www.facebook.com/navincchaturvedi
Twitter: https://twitter.com/navincchaturved
E Formates – http://issuu.com/navinc.chaturvedi
रोजी-रोटी – http://www.vensys.biz/

image_pdfimage_print


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top