आप यहाँ है :

मीडिया की दुनिया से
 

  • गोबर और मुर्गियों के मल से बनाई बिजली

    गोबर और मुर्गियों के मल से बनाई बिजली

    दोनों भाइयों ने साल 2014 में बिना सरकारी सहायता लिए अपनी फैक्ट्रियों में गोबर गैस प्लांट लगाया था। यह प्लांट रोज दो मेगावॉट बिजली पैदा करता है। उन्होंने बताया कि उन लोगों को रोज 20,000 से 30,000 किलो गाय के गोबर की आवश्यकता पड़ती है। जिस तरह लोग दूध को सफेद सोना कहते हैं, उसी तरह वे लोग गोबर को हरा सोना कहते हैं।

  • पत्रकारिता के लिए प्रशिक्षण का सुनहरा अवसर

    प्रिंट, रेडियो, टीवी समेत विभिन्न संचार माध्यमों में अपना करियर बनाने के इच्छुक छात्र देश प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन यानी कि IIMC में पढ़ाई कर सकते हैं। दरअसल ने संस्थान ने पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा कोर्सेज के लिए योग्य आवेदकों से आवेदन आमंत्रित किए हैं। वर्ष 2018-19 के लिए सभी

  • अब बिल्डिंगों और सोसायटियों में लगेगी संघ की शाखाएँ

    अब बिल्डिंगों और सोसायटियों में लगेगी संघ की शाखाएँ

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) अब महानगरों और मेट्रो शहरों की ऊंची-ऊंची इमारतों में अपना प्रभाव बढ़ाने की योजना बना रहा है। इसके लिए संघ इन हाईराइज बिल्डिंग्स में शाखाएं आयोजित करने पर विचार कर रहा है। संघ विचारकों का मानना है कि जिस तरह से देश के शहरों में हाईराइज बिल्डिंग्स का कल्चर बढ़ रहा है, ऐसे में आरएसएस का प्रभाव बढ़ाने के लिए इन हाईराइज बिल्डिंग्स में शाखाएं आयोजित कराना जरुरी संघ की भविष्य की योजनाओं का हिस्सा है। बता दें कि अभी तक आरएसएस का प्रभाव कॉलोनियों, कस्बों और गांवों तक ही सीमित है, अब संघ अपार्टमेंट्स में भी अपनी पैठ बढ़ाना चाहता है।

  • 25 करौड़  में  डालमिया का हुआ दिल्ली का लाल किला

    25 करौड़ में डालमिया का हुआ दिल्ली का लाल किला

    भारत के इतिहास में पहली बार किसी कॉरपोरेट घराने ने ऐतिहासिक विरासत को गो‍द लिया है। जी हां! डालमिया भारत ग्रुप ने भारतीय संप्रभुता के प्रतीक दिल्‍ली स्थित लाल किला को पांच वर्षों के लिए गोद लिया है। मुगल बादशाह शाहजहां ने 17वीं शताब्‍दी में इसका निर्माण करवाया था। अंग्रेजों के भारत छोड़ने के बाद स्‍वतंत्रता दिवस के मौके पर हर साल 15 अगस्‍त को देश के प्रधानमंत्री तिरंगा फहरा कर आजादी

  • रायटर्स का एजेंडा मोदी सरकार के खिलाफ या पत्रकारों के हित में

    रायटर्स का एजेंडा मोदी सरकार के खिलाफ या पत्रकारों के हित में

    ‘रॉयटर्स’ दुनिया भर में मीडिया की बड़ी मशहूर एजेंसी है, मीडिया के हलकों में बड़ा रुतबा है। इसलिए आसानी से कोई उसकी रिपोर्ट पर भरोसा भी कर लेता है। लेकिन जब कोई रिपोर्ट इंडियन मीडिया से जुड़ी हो और साफ साफ एकतरफा लगे तो सवाल बनता है। रॉयटर्स की तरफ से ये रिपोर्ट लिखी है राजू गोपालकृष्णन ने, रिपोर्ट की हैडलाइन का लब्बोलुआब है- भारतीय पत्र

  • जिसकी कलम ने आसाराम को बेनकाब कर जेल भिजवाया

    जिसकी कलम ने आसाराम को बेनकाब कर जेल भिजवाया

    नाबालिग लड़की के साथ बलात्कार के मामले में आसाराम को अदालत ने दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुना दी है। लेकिन उन्हें जेल की सलाखों के पीछे पहुंचाने में नरेंद्र यादव नाम के उस पत्रकार की भी बहुत बड़ी भूमिका है, जो किसी प्रलोभन में नहीं आए और निडरता से रिपोर्टिंग की। आसाराम को सजा सुनाए जाने के बाद बीबीसी से बातचीत में शाहजहांपुर के पत्रकार नरेंद्र यादव ने इस पूरी प्रक्रिया में उनके सामने आने वाली तमाम बाधाओं और चुनौतियों पर विस्तार से बात की।

  • आसाराम के सौ करोड़ हजम कर गए उसके भक्त

    आसाराम के सौ करोड़ हजम कर गए उसके भक्त

    कानपुर। जिस आसाराम के सामने खड़े होकर सिर उठाने की हिम्मत नहीं पड़ती थी। उसे भगवान मानकर पूजा की जाती थी, ऐसे कुछ भक्तों को आसाराम का ताउम्र जेल जाना फल गया। उसे उम्रकैद की जैसे ही सजा हुई, वैसे ही चंदे के रूप में आए 100 करोड़ रुपए आसाराम के कुछ भक्त हजम कर गए। अब मैनावती मार्ग स्थित आसाराम के आश्रम पर भी कुछ लोगों ने नजरें गड़ा दी हैं।

  • देश के 100से ज्यादा मैनेजमैंट संस्थानों में छात्रों का टोटा, बंद होने के कगार पर

    देश के सौ से ज्यादा मैनेजमेंट संस्थानों ने स्वैच्छिक समापन के लिए अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) में आवेदन किया है. हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक इस प्रक्रिया से जुड़े कुछ अधिकारियों ने यह जानकारी दी है. उन्होंने बताया कि इन संस्थानों में छात्र पढ़ने के लिए नहीं आ रहे और जिन छात्रों को डिग्री-डिप्लोमा मिल चुका है उन्हें कैंपस प्लेसमेंट के जरिये नौकरियां नहीं मिल रही हैं.

  • संघ पर बनेगी फिल्म, संघ प्रमुख की हरी झंडी

    संघ पर बनेगी फिल्म, संघ प्रमुख की हरी झंडी

    नई दिल्ली । राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर पहली फिल्म बनाने की तैयारी पूरी हो गई है। स्क्रिप्ट फाइनल कर ली गई है जिसे संघ के सरसंघ चालक मोहन भागवत ने देखकर ग्रीन सिग्नल दे दिया है। अब फिल्म बनाने के लिए डायरेक्टर और स्टार कास्ट फाइनल की जा रही है। संघ पर बनने वाली इस फिल्म का बजट करीब 180 करोड़ रुपये रखा गया है। यह फिल्म अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले आ सकती है।

  • अमरीका में कैसे होती है लाबिंग

    अमरीका में कैसे होती है लाबिंग

    कल नेशनल ज्योग्राफिक पर कार्यक्रम “लिविंग डेंजरसली" देख रहा था देखकर चौंक गया अमेरिका में पैसे के दम पर किस तरह से कोई भी फैसला बदला जा सकता है और जो अमेरिकी कानून में लीगल भी है अमेरिका में लॉबिस्ट लीगल है यानी कि कोई भी कंपनी किसी को पैसे देकर के भले वह सांसद हो या कोई एक्टिविस्ट हो या किसी शहर का मेयर हो या सामाजिक कार्यकर्ता

Back to Top