ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

बोलचाल के शब्दों से ज्यादा समृध्द होगी हिंदीः श्री गुप्ता

मुंबई। पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री ए. के. गुप्ता ने राजभाषा हिंदी को सही अर्थों में जनभाषा बनाने तथा इसकी लोकप्रियता एवं स्वीकार्यता बढ़ाने के लिए ‘प्लास्टिक हटेला’ जैसे सरल एवं असरदार शब्दों का अधिकाधिक प्रयोग करने की ज़रूरत पर बल दिया है। श्री गुप्ता बुधवार, 25 सितम्बर, 2019 को पश्चिम रेलवे के चर्चगेट स्थित प्रधान कार्यालय में 12 सितम्बर, 2019 से चल रहे राजभाषा पखवाड़े के समापन एवं पुरस्कार वितरण समारोह में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने पश्चिम रेलवे के जनसम्पर्क विभाग द्वारा प्लास्टिक के खिलाफ जागरूकता के लिए पिछले दिनों बनाई गई लघु फिल्म ‘प्लास्टिक हटेला’ का उल्लेख करते हुए कहा कि जिस तरह अपने सरल एवं आम बोल-चाल वाले असरदार शब्दों के चयन तथा रोचक संवाद शैली के कारण यह फिल्म सोशल मीडिया और अन्य संचार माध्यमों पर सुपरहिट साबित होकर पूरे देश में पसंद की जा रही है और प्लास्टिक के दुष्प्रभावों को प्रभावशाली एवं रोचक ढंग से जन सामान्य तक पहुँचा रही है, उसी प्रकार हमें अपने सरकारी कामकाज और यात्रियों से जुड़े अन्य अभियानों में भी ऐसी ही सरल हिंदी भाषा का प्रयोग कर अपने असली उद्देश्यों को हासिल करना चाहिये।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री रविंद्र भाकर द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार पश्चिम रेलवे के चर्चगेट स्थित प्रधान कार्यालय में राजभाषा का प्रचार-प्रसार एवं प्रयोग बढ़ाने के उद्येश्य से 12 सितम्‍बर, 2019 से आयोजित राजभाषा पखवाड़े के दौरान राजभाषा विभाग द्वारा राजभाषा प्रदर्शनी, विभिन्न हिंदी प्रतियोगिताएँ, हिंदी नाटक तथा कई अन्‍य कार्यक्रम आयोजित किये गये। इसी कड़ी में 25 सितम्‍बर, 2019 को प्रधान कार्यालय के गोडबोले समागृह में राजभाषा पखवाड़ा समापन एवं पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का उद्घाटन पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री ए. के. गुप्ता द्वारा दीप प्रज्वलन करके किया गया। पुरस्कार वितरण समारोह में पश्चिम रेलवे के प्रधान कार्यालय, मंडलों, कारखानों एवं स्टेशनों के 125 अधिकारियों/कर्मचारियों को राजभाषा में उत्कृष्ट कार्य करने एवं विभिन्न हिंदी प्रतियोगिताओं में विजेता प्रतिभागियों को प्रशस्ति-पत्र एवं नकद पुरस्कार राशि से सम्मानित किया गया।

यह समारोह मुख्य राजभाषा अधिकारी श्री जे. पी. पाण्डेय के स्वागत भाषण से शुरू हुआ। उन्होंने महाप्रबंधक एवं अन्य उपस्थित सदस्यों का स्वागत करते हुए प्रधान कार्यालय में राजभाषा पखवाड़े के दौरान आयोजित किये गये कार्यक्रमों की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि भाषा संचार और सूचना एवं ज्ञान के संरक्षण का उत्कृष्ट साधन है। भाषा के माध्यम से हम अपनी अंतर्मुखी अनुभूतियों एवं योग्यताओं को बाहरी जगत में प्रकट कर सकते हैं। उन्‍होंने कहा कि हिंदी भाषा की प्रकृति सामासिक है और इसमें हिंदी भाषी प्रदेशों के अलावा भारत के लगभग सभी प्रदेशों की भाषाओं के स्वरूपों, पदों, शैलियों, मुहावरों एवं वाक्याशों को आत्मसात करने की शक्ति है। अतः प्रत्येक भारतवासी का कर्तव्य है कि वह अपने दैनिक कामकाज में हिंदी का अधिक से अधिक प्रयोग करे। महाप्रबंधक श्री गुप्‍ता ने प्रधान कार्यालय में मनाये गये राजभाषा पखवाड़े की सराहना करते हुए प्रधान कार्यालय के राजभाषा विभाग द्वारा तैयार किये गये ‘हिंदी संकल्प गीत’ को सभी मंडलों/कारखानों एवं स्टेशनों पर राजभाषा के प्रचार-प्रसार हेतु बजाये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने इस अवसर पर पुरस्कृत अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई देते हुए आशा व्‍यक्‍त की कि आप और अधिक जोश और ऊर्जा से हिंदी के कार्यों को करेंगे तथा अन्य अधिकारियों एवं कर्मचारियों को भी हिंदी में कार्य करने के लिए प्रेरित और प्रोत्साहित करेंगे।

इस समारोह में सुप्रसिद्ध पार्श्‍व गायक श्री तोची रैना अतिथि कलाकार के रूप में आमंत्रित थे और उन्होंने अपनी सूफियाना गायकी में मशहूर गीत गाकर सभागृह में उपस्थित दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। इस समारोह में अपर महाप्रबंधक श्री वी. के. त्रिपाठी, प्रमुख मुख्य इंजीनियर श्री आर. के. मीणा, प्रमुख मुख्य परिचालन प्रबंधक श्री शैलेन्द्र कुमार, प्रमुख मुख्य वाणिज्य प्रबंधक श्री राजकुमार लाल, प्रमुख मुख्य चिकित्सा निदेशक डॉ. विलास गुंडा के अलावा उप महाप्रबंधक (राजभाषा) डॉ. सुशील कुमार शर्मा, वरिष्ठ राजभाषा अधिकारी श्री अशोक कुमार लोंढे सहित अन्य वरिष्‍ठ अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे। इस अवसर पर पश्चिम रेलवे कला एवं सांस्कृतिक संगठन के कलाकारों श्री सरोज सुमन, सुश्री अपर्णा अपराजित और सुश्री डैज़ी फरगोश ने अमीर खुसरो के मशहूर गीतों की सुमधुर प्रस्‍तुति की। साहित्‍य और संगीत के ज़रिये जनभाषा हिंदी को लोकप्रिय बनाने वाले अमीर खुसरो पर आधारित इस सांस्‍कृतिक कार्यक्रम का संचालन श्रीमती पूजा पवार ने किया, जबकि पुरस्‍कार वितरण समारोह का मंच संचालन वरिष्ठ राजभाषा अधिकारी श्री अशोक कुमार लोंढे ने किया।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top