आप यहाँ है :

महाराष्ट्र में लुंज पुंज कानून व्यवस्था, संत भी नहीं हैं सुरक्षित

पुलिस की उपस्थिति में गुंडों ने पीट पीट कर मार डाला।

प्रदेश में अराजकतत्वों को सरकार का डर नहीं-अमरजीत मिश्र

मुंबई बीजेपी के महामंत्री अमरजीत मिश्र ने महाराष्ट्र में ध्वस्त होती कानून व्यवस्था पर गहरी चिंता व्यक्त की है। परसों पंच दशनाम जूना आखाडा के ब्रह्मलीन संत की समाधि क्रिया से लौट रहे दो संत समेत उनके ड्राईवर को पालघर में कुछ असामाजिकतत्वों ने पीट पीट कर मौत के घाट उतार दिया। पुलिस की उपस्थिति में हुए इस कृत्य के दौरान पुलिस मूक दर्शक बनी रही। महाराष्ट्र जैसे विकसित राज्य में पुलिस की मौजूदगी में हुए इस कृत्य की जितनी भी निंदा की जाये,कम है।

श्री मिश्र ने मांग की है कि इस मामले में शामिल दोषी लोगों को सख्त सजा दी जानी चाहिये व इसके पीछे की साजिश का भी पर्दाफाश होना चाहिये।और मामले की गंभीरता को न समझनेवाले पुलिसकर्मियों को भी बर्खास्त करना चाहिये।यह अफसोसजनक है कि पुलिस वालों के सामने, डंडे और पत्थरों से मार-मार कर दोनों सन्तों और ड्राइवर की भी हत्या कर दी।विडियो देखने के बाद ऐसा लगता है कि संतों को निर्ममता से पीट रहे गुंडों के सामने पुलिस ने घुटने टेंक दिए थे।भाजपा नेता मिश्र ने कहा कि अभी कुछ दिनों पहले ही लॉकडाउन व कानून व्यवस्था की धज्जियां उड़ाते हुए हजारों लोग बांद्रा में जुट गए थे।तब भी सरकार मूकदर्शक बनी रही।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top