आप यहाँ है :

मुंबई की बाढ़ः न कोई भ्रष्ट नेता मरा न बाबू, एक ईमानदार डॉक्टर लापता है

परमात्मा का न्याय भी अजीब है। भ्रष्टाचार, बेईमानी और लूट-लंपटी में डूबे रहते हैं नेता, अफसर,ठेकेदार और सरकारी बाबू॑; मगर उसकी कीमत उऩ निर्दोषो को चुकानी पड़ती है जो ईमानदारी, निष्ठा और सेवाभाव से जीवन जीते हैं।

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में बारिश के चलते अब तक 6 लोगों की मौत हो गई है। शहर की सड़कें बारिश के पानी से लबालब भरी हुई हैं और खुले मैनहोल लोगों के लिए जानलेवा साबित हो रहे हैं। इस बीच बॉंबे हॉस्पिटल के नामी डॉक्टर दीपक अमरापुरकर मंगलवार की शाम 6:45 बजे से लापता है। सीनियर डॉक्टर को आखिरी बार बॉम्बे हॉस्पिटल से लौटते वक्त देखा गया था। इस बीच पुलिस ने उनके लापता होने का केस दर्ज कर लिया है। उनके मैनहोल में गिरने की भी आशंका जताई जा रही थी।

डॉक्टर की भतीजी पल्लवी गोडबोले ने बताया, ‘उन्होंने ड्राइवर से कहा था कि वह कार को घर ले जाए और वह यह सोचकर ही पैदल ही घर के लिए निकले थे कि 10 मिनट में घर पहुंच जाएंगे। वह जहां पर थे, वहां से हमारा घर सिर्फ 10 मिनट की दूरी पर है।’ लोअर परेल में स्थित इंडिया बुल्स के नजदीक उनका छाता पाए जाने के बाद संदेह और गहरा हो गया था।



सम्बंधित लेख
 

Back to Top