आप यहाँ है :

रोटरी क्लब द्वारा फैशन वॉक से जागरूगता फैलाने का प्रयास

नई दिल्ली। नई दिल्ली स्थित एनसीयूआई सभागार में रोटेरियन मृदुला खत्री के नेतृत्व में एक चैरिटी कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जहां रोटेरियन, मॉड्ल्स, बच्चों, जिनमें थैलेसेमिया से पीड़ित बच्चें भी शामिल थे, रोट्रेक्टर्स एवम् जानी-मानी हस्तियों ने रैम्प वॉक किया, जो कि एक कॉज – थैलेसेमिया फाउंडेशन व रक्तदान ऐप के समर्थन में आयोजित की गयी थी। मौके पर डिस्ट्रीक्ट गवर्नर रोटेरियन विनय भाटिया मुख्यातिथि थे।

थैलेसेमिया फाउंडेशन एवम् रक्तदान ऐप (भारत का अग्रणी डिजीटल ब्लड बैंक) के समर्थन में आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान रैम्प वॉक को विभिन्न श्रेणियों में बांटा गया था, जिसमें थैलेसेमिया ही नहीं बल्कि महिला सशक्तिकरण के विषय को भी दर्शाया, साथ ही डांस आउट ऑफ पोवरटी की शानदार प्रस्तुति मुख्याकर्षण थे।

उद्यमी, सामाजिक कार्यकर्ता, रोटेरियन मृदुला खत्री (अध्यक्ष आरसीडी पंचशिला पार्क) ने बताया कि यह पूर्णतयाः चैरिटी कार्यक्रम है जिससे विविध उद्देश्य जुड़े हैं। थैलेसेमिया फाउंडेशन, रक्तदान ऐप के समर्थन, इन बच्चों की हौंसलाफजाई जिससे कि इनका आत्मविश्वास बढ़े और शुरूआती स्तर पर ऐसे कॉज से जुड़ने हेतु यह बच्चे व इनके परिवार वाले आगे आयें। यह फैशन वॉक से अधिक वॉक फॉर कॉज है और यहां से एकत्रित धनराशि को थैलेसेमिया से पीड़ित बच्चों के टेस्ट व उनकी मदद एवम् रक्तदान ऐप की जागरूकता हेतु इस्तेमाल किया जायेगा। उन्होंने कहा दिल, दिमाग और भावनात्मक रूप से थैलेसेमिया पीड़ित बच्चों और रक्तदान की महत्ता को समझाना जरूरी है जिसमें ऐसे कार्यक्रम काफी सहायक हैं।

कार्यक्रम के दौरान लगभग 80 रोटेरियन, मॉड्ल्स, बच्चों की वॉक भाव-विभोर करने वाली रही। इस दौरान रक्तदान ऐप के विषय में उपस्थित मेहमानों को जानकारी दी। श्री संजय खत्री ने इस ऐप का आविष्कार किया जो कुछ अलग कर गुजरने के उनके जज़्बे को दिखाता है। यह पैन इंडिया स्तर पर मौजूद है और इस ऐप में किसी तरह का कोई शुल्क नहीं लगता। ऐप से 25000 लोग जुड़े हैं और लगभग 2000-3000 लोगों ने इसकी सेवाओं का लाभ लिया है। जानने की बात यह है कि भारत को 1 करोड़ 20 लाख इकाइयों की जरूरत है, लेकिन हम 30 लाख यूनिट से कम हैं।

थैलेसेमिया के खिलाफ फाउंडेशन थैलेसेमिया बच्चों के कल्याण के लिए काफी काम कर रहा है। फाउंडेशन थैलेसेमिया बच्चों को मुफ्त में सभी सेवाएं प्रदान करता है चाहे दवा, रक्त संक्रमण, यात्रा या किसी अन्य जरूरतों को पूरा करें। थैलेसेमिया, एक विकार है जो विरासत में मिला है (यानी, माता-पिता से जीन के माध्यम से बच्चों के लिए पारित) रक्त विकार तब होता है जब शरीर पर्याप्त रक्त प्रोटीन नहीं बनाता है, जिसे लाल रक्त कोशिकाओं का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हीमोग्लोबिन कहा जाता है।

रोटेरियन मृदुला खत्री, अध्यक्ष रोटेरी क्लब ऑफ दिल्ली पंचशील पार्क द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में रोटेरी क्लब ऑफ दिल्ली फेमिना, रोहतक, फरीदाबाद मिड टाउन, फरीदाबाद अरावली, दिल्ली साउथ-वेस्ट, राजधानी एवम् रोहतक स्कॉलर्स ने सहयोग दिया और डीसीबीबी पीपी रोटेरियन महेश त्रिखा ने भी विशिष्ट समर्थन प्रदान किया।



सम्बंधित लेख
 

Back to Top