आप यहाँ है :

टाईम्स की अश्लीललता के खिलाफ महिला ने चलाया ऑनलाईन अभियान

अंग्रेजी दैनिक ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ ने एक नया थ्रिलर ग्राफिक नॉवेल‘एजेंट राणा’ के खिलाफ एक ऑनलाईन अभियान शुरु होने के बाद ये विवादों में घिर गया है।

ग्राफिक नॉवेल ‘एजेंट राणा’ का प्रकाशन बंद करवाने को लेकर टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार के खिलाफ इन दिनों एक ‘सिगनेचर कैंपेन’ चलाया जा रहा है। यह कैंपेन change.org वेबसाइट पर अंतरा सेन दवे नाम की एक महिला पाठक ने चलाया है।

change.org के जरिए अंतरा कहतीं हैं कि अखबार जो ‘ग्राफिक नॉवेल’ प्रकाशित कर रहा है वह बच्चों के पढ़ने लायक नहीं है, क्योंकि इसमें ‘सेक्सुल कंटेंट’ बहुत ज्यादा होता है और यह कंटेंट बच्चों के लिए किसी भी तरह उपयुक्त नहीं कहा जा सकता है।

साइट पर ‘नॉवेल के कुछ उदाहरण भी दिए गए हैं। मसलन – “I will give you the time of your life in bed tonight”

“I will keep the bed warm for you”

“My hero.. You were masterful with them.. Now I will make it worth your while”

अंतरा कहती हैं कि उनके बच्चे 7 और 10 साल के हैं और वे दोनों रोज उस अखबार को पढ़ते हैं। चूंकि अखबार में यह नॉवेल ‘ग्राफिक’ के रूप में प्रस्तुत किया जा रहा है इसलिए उनका ध्यान इसपर जाता है। उन्होंने बताया कि किस तरह उनके बच्चे नॉवेल के हिस्सों पर चर्चा कर रहे हैं।

अंतरा का कहना है कि मैं अभिव्यक्ति की आजादी की विरोधी नहीं हूं, लेकिन मैं चाहती हूं इस तरह के नॉवेल प्रतिदिन के अखबारों में प्रकाशित न किए जाएं। अपनी इस डिमांड को लेकर अंतरा सामने आई हैं और उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया के खिलाफ एक ‘सिगनेचर कैंपेन’ चलाया है।

अंतरा ने यह अभियान अकेले शुरू किया था, लेकिन आज इस कैंपेन में उनके 20 हजार से ज्यादा लोग जुड़ गए हैं।

Print Friendly, PDF & Email


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top