ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

ज़ी के तिमाही नतीजों की घोषणा

जी ऐंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड (ZEE) ने चालू वित्तrय वर्ष (2016) में दूसरी छमाही के नतीजों की घोषणा कर दी है। ZEE के अनुसार, इस अवधि में कंपनी का समेकित राजस्वी (13,849) मिलियन और समेकित परिचालन लाभ 3,546 रुपये हो गया है। इस अवधि में प्रॉफिट ऑफ्टर टैक्सि (PAT) 2,463 रुपये था। ZEE के अनुसार, इस तिमाही में परिचालन मार्जिन 25.6 प्रतिशत पर पहुंच गया और PAT मार्जिन 17.8 प्रतिशत था।

इस अवधि में विज्ञापन राजस्व 735 मिलियन रुपये और सब स्क्रिप्शान रेवेन्यूऔ 1,039 मिलियन रुपये हो गया। इसके अलावा अन्यी सेल्सध और सर्विसेज 248 मिलियन रुपये हुईं और कुल राजस्व 2,022 मिलियन रुपये पर पहुंच गया।

ज़ी के चेयरमैन डॉ. सुभाष चंद्रा ने कहा, ‘भारत की अर्थव्यवस्था लगातार मजबूत हो रही है। सकल घरेलू उत्पामद (जीडीपी) में भी बढ़ोतरी हो रही है। आर्थिक सुधार की कई योजनाएं अभी पाइप लाइन में हैं और इस प्रकार भारत की अर्थव्येवस्था में तेजी से सुधार हो रहा है। हमें उम्मीलद है कि बड़े विज्ञापन और सबस्क्रि प्शान रेवेन्यू के रूप में मीडिया उद्योग को भी इसका काफी लाभ होगा।’

कंपनी के तिमाही परिणामों के बारे में डॉ. चंद्रा ने कहा, ‘दूसरी तिमाही में जी का प्रदर्शन काफी बेहतर रहा है। ऐडवर्टाइजमेंट इंडस्ट्री और हमारे नेटवर्क के प्रदर्शन में सुधार के कारण हमें मार्केट में बढ़त बनाने में मदद मिली है। हमें लगातार अच्छेम परिणाम मिल रहे हैं। हम इस राह पर लगातार आगे बढ़ते जाएंगे और नए-नए अवसरों तलाशते रहेंगे जिससे हमें लंबे समय के लिए बढ़त मिलेगी। हमारा प्रयास पूरे विश्वन के दर्शकों तक अपनी पहुंच बनाना है।’

ज़ी के प्रबंध संचालक और सीईओ श्री पुनीत गोयनका ने कहा, ‘इन तिमाही नतीजों से हम बहुत खुश हैं और लगातार इसी तरह प्रदर्शन करते रहेंगे। अपनी प्रोग्रामिंग के बल पर हमने खुद को नेटवर्क के रूप में स्थाीपित किया है। इसके अलावा ऐडवर्टाइजिंग मार्केट में हुई बढ़ोतरी ने भी हमें मजबूत स्थिति में पहुंचाया है। घरेलू सबस्क्रिप्शसन मार्केट में भी लगातार वृद्धि देखी गई है।’
गोयनका ने कहा, ‘भारतीय टीवी इंडस्ट्री में जी सबसे बड़ा कंटेंट प्लेटयर है, जो घरेलू व विदेशी दर्शकों को सबसे ज्याादा समय तक कंटेंट उपलब्धज करा रहा है। हमें विश्वाेस है कि तेजी से बढ़ते मीडिया और ऐंटरटेनमेंट क्षेत्र में बेहतरीन कंटेंट के बल पर हमारे राजस्वर में लगातार वृद्धि होती रहेगी।’



सम्बंधित लेख
 

Back to Top