Sunday, March 3, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिराजकीय सार्वजनिक मण्डल पुस्तकालय, कोटा में "बहुखण्डीय ग्रंथों की प्रदर्शनी"

राजकीय सार्वजनिक मण्डल पुस्तकालय, कोटा में “बहुखण्डीय ग्रंथों की प्रदर्शनी”

कोटा। राजकीय सार्वजनिक मण्डल पुस्तकालय में भारतीय भाषा उत्सव के रूप में “बहुखण्डीय ग्रंथों की पुस्तकों की प्रदर्शनी” का आयोजन किया गया। इस उत्सव का उद्घाटन राज्य विधि विज्ञान प्रयोगशाला, राजस्थान, जयपुर के सेवानिवृत निदेशक विनोद जैन ने किया। उत्सव के दौरान एक समारोह में, सामाजिक और सांस्कृतिक दृष्टिकोण से किताबों का महत्त्व बढ़ाया गया। वहाँ पहुंचे लोगों ने अपने विचार व्यक्त किये और किताबों के महत्त्व पर विचार किया।

विनोद जैन ने कहा, “किताबें हमारी आसपास की दुनिया को समझने, सही और गलत के बीच निर्णय लेने में हमारी मदद करती हैं। वे हमारे आदर्श, मार्गदर्शक या सर्वकालिक शिक्षक के रूप में भी हमारे जीवन में शामिल होती हैं।”

साथ ही, संभागीय पुस्तकालयाध्यक्ष डॉ. दीपक कुमार श्रीवास्तव ने भी इस अवसर पर अपने विचार साझा किए। उन्होंने कहा, “मानव के व्यक्तित्व के विकास के लिए अध्ययन से श्रेष्ठ विकल्प कोई नहीं है। इसलिए किताबें मानव की सबसे अच्छी दोस्त हैं जो सदैव मैं सिर्फ परत दर परत जीवन के उतार-चढ़ाव से इसे परिचित कराती हैं बल्कि हर मुश्किल वक्त में एक दोस्त की भाँति मनुष्य का साथ देती हैं। इस प्रदर्शनी ने युवाओं को नई तकनीकी दुनिया के साथ जोड़ने का एक नया माध्यम प्रदान किया है। उन्होंने बताया कि युवा वर्ग इस तरह की मल्टीमीडिया पुस्तकों को अधिक अनुकरणीय मान रहा है।”

कार्यक्रम की संयोजिका शशि जैन ने भी इस अवसर पर अपने विचार साझा किए। उन्होंने कहा, “प्रौद्योगिकी को भी विद्युत शक्ति के उपयोग की आवश्यकता होती है लेकिन किताबों के साथ ऐसा नहीं है। किताबों को सिर्फ खोलने और पढ़ने की आवश्यकता होती है।” यह प्रदर्शनी और बातचीत का कार्यक्रम पुस्तकों के महत्त्व और उनके समाजिक, मानवीय और वैज्ञानिक दृष्टिकोण को साझा करने का एक महत्त्वपूर्ण माध्यम साबित हुआ।

संदर्भ प्रभारी शशि जैन ने इस प्रकार की प्रोत्साहक पहल का जिक्र करते हुए बताया कि पुस्तकालय में 2300 से भी अधिक ऑडियो पुस्तकों का संग्रह है, जो युवाओं के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। यह संग्रह न केवल विभिन्न विषयों पर ज्ञान को बढ़ावा देने में सहायक है बल्कि नई तकनीकों के माध्यम से शिक्षा को एक नया आयाम देता है।

इस प्रदर्शनी ने शिक्षा के क्षेत्र में नए उदारीकरण के रास्ते खोले हैं और युवाओं को एक संवेदनशील, विज्ञानात्मक, और सर्वांगीण विकास का माध्यम प्रदान किया है। यह प्रदर्शनी युवाओ को अपनी ओर खींचने में सफल रही।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार