Saturday, July 20, 2024
spot_img
Homeअजब गज़बसमुद्र में डूबा 13 साल का बच्चा 36 घंटे बाद जीवित मिला,...

समुद्र में डूबा 13 साल का बच्चा 36 घंटे बाद जीवित मिला, गणेश प्रतिमा ने यूं बचाई जान

जाको राखे साइयां मार सके न कोई बाली कहावत गुजरात के सूरत में सच साबित हुई है। सूरत के डूमस तट पर शुक्रवार को समुद्र में डूबने के बाद लापता हुआ किशोर 36 घंटे बाद जीवित मिला है। पिछले शुक्रवार को सूरत में रहने वाला 13 साल का लखन देवीपुजक नाम का लड़का अपनी दादी और भाई बहन के साथ माताजी के दर्शन करने के बाद सूरत के डुमस के समुद्र तट पर गणेश विसर्जन देखने गए थे। जहां वह अपने भाई के साथ समुद्र में तैरने उतरा। इसी दौरान लखन और उसका भाई समुद्र में डूबने लगे।

हालांकि लखन के भाई को लोगों ने बचा लिया पर लखन समुद्र में लापता हो गया। खोजबीन के बावजूद लखन नहीं मिला। अगले दिन भी प्रशासन और परिवारजनों ने उसकी तलाश जारी रखी। तब परिवार को संदेश आया कि लखन को समुद्र में मछुवारों ने बचा लिया है। वहीं, बेटे के शव की तलाश कर रहे पिता को पुलिस से जानकारी मिली कि लखन जीवित है तो उनके जीवन में एक नई ऊर्जा आ गई और आंसुओं के साथ उसके चेहरे पर खुशी की लहर दौड़ गई।

करीब 8 मछुआरे नवदुर्गा नाम की नाव से समुद्र में मछली पकड़ रहे थे। तभी उन्होंने देखा कि समुद्र के बीच में एक बच्चा लकड़ी के तख्त पर बैठा है और हाथ उठाए मदद मांग रहा है। तब मछुआरे नाव लेकर इस बच्चे के पास पहुंचे। उसे नाव में बिठाया और उससे पूछताछ की। वह गणेश प्रतिमा के अवशेषों पर बैठा था जहां से उसे बचा लिया गया। 13 साल का बच्चा गणेशजी के लकड़ी के सहारे मौत को मात देकर जिंदा वापिस आया है।

इसके बाद फौरन मछुआरों ने बच्चे के मिलने की खबर प्रशासन को दी तो पता चला कि सूरत के डूमस समुद्र तट से जो बच्चा शुक्रवार दोपहर को डूब गया था और लापता हुआ था वो यही बच्चा है। बच्चा समंदर में जिस जगह पर मिला था वहां से समुद्र तट करीब 14 नोटीकल माइल दूर था। 12 घंटे बाद रविवार सुबह मछुआरे बच्चे को लेकर बिलीमोरा के पास धोलाई बंदर पहुंचे और पुलिस को सौंप दिया।

डूमस के समुद्र में डूबने के बाद लापता हुए लखन को 36 घंटे बाद ढोलाई बंदर पर उतारा। इसके बाद नवसारी के अस्पताल में डॉक्टरों ने उसकी प्रारंभिक जांच की जहां वह स्वस्थ पाया गया। आईसीयू में 24 घंटे डॉक्टरों की निगरानी में रखने के बाद में उसे परिवार को सौंप दिया गया। कहते है न जाको राखे साइयां मार सके न कोई इस कहावत को सच साबित करता हुआ यह किस्सा है। समुद्र में 36 घंटे की मौत के साथ जंग के बाद भी 13 वर्षीय लखन जिंदा वापस आ गया यह किसी चमत्कार से कम नहीं है।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार