Friday, May 24, 2024
spot_img
Homeमीडिया की दुनिया सेमुंबई के 9 पत्रकारों ने सीबीआई जज के आदेश के खिलाफ उच्च...

मुंबई के 9 पत्रकारों ने सीबीआई जज के आदेश के खिलाफ उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया

मुंबई की विशेष सीबीआई अदालत के फैसले के खिलाफ विभिन्‍न मीडिया प्रतिष्‍ठानों से जुड़े वरिष्ठ पत्रकारों ने अब बॉम्‍बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। दरअसल, 29 नवंबर को अपने फैसले में सीबीआई अदालत ने सोहराबुद्दीन शेख कथित फर्जी मुठभेड़ मामले में मीडिया पर अदालती कार्यवाही की रिपोर्टिंग करने से अगले आदेश तक रोक दी है।

इस आदेश के खिलाफ जिन नौ पत्रकारों ने बॉम्‍बे हाई कोर्ट का रुख किया है, उनमें ‘फ्री प्रेस जर्नल’, ‘द वॉयर’, ‘स्‍क्रॉल डॉट इन’, ‘टाइम्‍स ऑफ इंडिया’, ‘मुंबई मिरर’ और ‘द इंडियन एक्‍सप्रेस’ से जुड़े सीनियर पत्रकार शामिल हैं।

वरिष्ठ पत्रकार, सुनील बघेल, नीता कोल्‍हटकर, सदफ मोदक, विद्या कुमार, रेबेका समरवेल, नरेश फर्नांडिस, सिद्धार्थ भाटिया, शरमीन हाकिम और सुनील कुमार सिंह ने अपनी याचिका में सीबीआई अदालत के इस आदेश को अवैध करार देते हुए इसे रद्द करने की मांग की है।

याचिका में यह भी कहा गया है कि इस आदेश के कारण उन्‍हें अपना कार्य करने में परेशानी हो रही है। याचिका के अनुसार, ‘प्रेस को मामले के ट्रायल की रिपोर्टिंग करने से रोकने का सीबीआई अदालत को कोई अधिकार नहीं है।’ पत्रकारों की याचिका पर बॉम्‍बे हाई कोर्ट में अब 12 जनवरी को सुनवाई होगी।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार