ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

सत्ता पक्ष हो या प्रतिपक्ष, इस हमाम में तो …

बेशर्मी से झूठ बोलने वाले राजनेता,एक साथ मिलकर सब कुछ बर्बाद कर रहे हैं और देश की जनता ख़ामोश होकर तमाशा देख रही है।

प्रश्न किसी नरेन्द्र मोदी,ममता बनर्जी,उद्धव ठाकरे,योगी आदित्यनाथ,शिवराज सिंह,शरद पँवार या राहुल गांधी का नहीं है;प्रश्न समूची राजनीति की उस ढिठाई का है जो जनता के जीवन से खिलवाड़ करने में हिचकती नहीं है।

प्रश्न जनता की उस मानसिकता का है जो किसी भी राजनैतिक निर्णय की चर्चा शुरू होने से पूर्व किसी दल या विचारधारा का चश्मा पहनना नहीं भूलते।

अरे भाई,सही हर स्थिति में सही होता है और ग़लत हर हाल में ग़लत?
इतनी सी बात हम समझना नहीं चाहते।

कांग्रेस के शासन में कम किसानों ने आत्महत्या की थी,भाजपा के शासन में ज़्यादा किसान मर रहे हैं।इस बात को कहकर कांग्रेसी कैसे इतरा सकते हैं यार।
राजनीति ने जनता को विवेकशून्य बनाया है या फिर विवेकशून्य जनता ने राजनीति को इतना मक्कार और बेशर्म कर दिया है इस पर ढंग से विचार करना ज़रूरी हो गया है।

उन्हें पता है कि चुनाव के समय उनका कोई एक पैंतरा देखते ही तुम उनकी बदतमीजियों के पोथे भूल जाओगे।उन्हें पता है कि पैदल चलकर घर जाती जनता को कीड़े-मकोड़ों की तरह मरने के लिए छोड़ा जा सकता है क्योंकि बिहार में चुनाव आते ही राजनीति इन सब कीड़े-मकोड़ों को वोट में तब्दील कर लेगी।
उन्हें पता है कि न्यायपालिका की पेचीदा भूल-भुलैया में फँसा नागरिक कभी इतनी फ़ुरसत ही न पाएगा कि व्यवस्था के सुधार की मांग कर सके।

उन्हें पता है कि लाखों-करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा करने से घबराना नहीं चाहिए क्योंकि इस देश की जनता की इतनी हिम्मत ही नहीं है जो उस पैकेज के अस्तित्व पर प्रश्न पूछ लेवे।
और अगर इतने वर्ष की मेहनत के बाद भी कोई विवेकशील व्यक्ति इस जनता के बीच बचा रह गया है तो उसको धराशायी करने के लिए इसी जनता के बीच अपने-अपने लीडर पर अटूट श्रद्धा रखने वाले लोगों की कोई कमी थोड़े ही है।

राजनीति बीस लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा करेगी और हम दो पाटों में बंट जाएंगे।राजनीति मजदूरों के लिए बसों की लिस्ट लेकर आएगी,उसमें बसों के नाम पर बसें न हों तो भी हम भाजपा-कांग्रेस करने में व्यस्त हो जाएंगे।

हमारे लिए सवाल यह है ही नहीं कि तपती दुपहरी में जानवरों की तरह घिसटने को मजबूर इंसान तक सहायता पहुँची या नहीं पहुँची,हम तो इस तमाशे में व्यस्त हैं कि इसमें कांग्रेस ने बीजेपी को धूल चटाई या बीजेपी ने कांग्रेस को।

इससे आगे हमारी संवेदनात्मक सोच का इंजन चल ही नहीं पाता।

हम यह समझ ही नहीं पाते कि शिवसेना और कांग्रेस के गठबंधन में भी वही लालचमण्डी है जो अन्य किसी प्रदेश में है लेकिन हम इससे खुश हो जाते हैं कि अमित शाह की चाल फेल हो गयी।

कोई अमित शाह को फेल करके खुश है,कोई राहुल गांधी को,कोई केजरीवाल को तो कोई मोदी या दीदी को।
लोकतंत्र के आखिरी पायदान पर खड़े आदमी पर किसी का ध्यान नहीं है।

राजनीति ने सिद्ध कर दिया है कि इस देश की जनता रिमोट से चलती है।जब तक राजनीति किसानों को अन्नदाता कहती रहती है तब तक कोई खेतों में पड़ रहे जानलेवा कैमिकल्स पर सवाल नहीं कर सकता।

जब राजनीति ने किसानों को आतंकवादी कहना शुरू कर दिया तो कोई टीवी चैनल उनके विरोध की आवाज़ प्रसारित नहीं कर सकता।

रामदेव के आंदोलन पर रात में लाठीचार्ज करवाने वाली कांग्रेस,भाजपा को आन्दोलन से निपटने की नैतिकता सिखाती है और कुल दो लोगों की तानाशाही पर चल रही भाजपा,कांग्रेस को पार्टी के भीतर लोकतांत्रिक मूल्य स्थापित करने का ज्ञान देती है।

कितनी आदर्श स्थिति है,इस देश के महान राजनेता यकायक चुनाव से ठीक पहले अपनी आत्मा की आवाज़ सुनकर ‘नये दल’ में चले जाते हैं।जो चुनाव से पहले आत्मा की आवाज़ न सुन पाए वो चुनाव जीतने के बाद उस आवाज़ को सुन लेते हैं।
सब कुछ खुल्लमखुल्ला चल रहा है लेकिन अपना-अपना चश्मा पहने जनता इस बात पर ख़ुश है कि अमित शाह ने ममता बनर्जी की पार्टी का दिवाला निकाल दिया।

सब अपनी-अपनी कांग्रेस और अपनी-अपनी भाजपा में इतने लिसड़े हुए हैं कि देश की बर्बादी उन्हें दिखाई ही नहीं देती।जिन्हें यह बर्बादी दिख रही है,जिन्होंने अपने चश्मे हटाकर देश को देखने की कोशिश की है उन्हें उनकी नौकरियों से हाथ धोना पड़ा है।
उनको गद्दार,राष्ट्रद्रोही,हिन्दू विरोधी और ऐसे ही तमाम अलंकरणों से सँवारने के लिए पूरी टोली सक्रिय है।

लोकतंत्र में सत्ताधारी पक्ष की निरंकुशता पर लगाम लगाने वाला विपक्ष भी इस पूरी स्थिति में बराबर का हिस्सेदार है क्योंकि जिसे इस निरंकुशता के विरुद्ध खुलकर बोलने से डर लगता है समझ लो कि उसने अपने होंठों में अपना ख़ुद का कच्चा चिट्ठा भींच रखा है।

भारत की महानता के ढोल पीटते हुए सदियां बीत गईं, लेकिन आज भी दिल्ली से लेकर दार्जिलिंग तक कोई कस्बा,कोई शहर,कोई गाँव,कोई मुहल्ला ऐसा न मिलेगा जहाँ इस महान देश का कोई नागरिक जानवरों से बदतर ज़िन्दगी जीने को मजबूर होगा।

विचारधाराओं के नाम पर देश को टुकड़े-टुकड़े कर देने वाले इन सियासतदानों से पूछो कि प्रचण्ड बहुमत की सरकार बनाकर भी ‘अंत्योदय’ की अवधारणा अहल्या की भाँति पत्थरों में ही क्यों सुबक रही है?

इतने लम्बे समय तक शासन करने के बावजूद गांधी का ‘रामराज’ कोरी कल्पना ही क्यों बनकर रह गया?

न लोहिया का समाजवाद आया न अंबेडकर का संविधान ही शत प्रतिशत लागू हो सका!

फिर क्यों चल रहा है ये ढोंग?
यह प्रश्न न पूछ लिया जावे इसीलिए राजनीति आपको चुटकुलों,जुमलों और सोशल मीडिया के प्रोपेगैंडा में उलझाए रखेगी।

हमेशा ऐसा होता आया है कि नई पीढ़ी पुरानी पीढ़ी से ज़्यादा समझदार होती है,वो पुरानी पीढ़ियों से मिले ज्ञान और उनके अनुभवों में अपना ज्ञान और अनुभव जोड़ती है…इंसानी सभ्यता ने पिछले 5000 सालों में इतना विकास सिर्फ़ इसी के चलते किया है।

लेकिन भारत की ये वर्तमान पीढ़ी ने इस नियम और इस क्रम को तोड़ दिया है जो अपने बाप दादाओं को जो सार्वजनिक रूप से चमचे,देशद्रोही व मूर्ख आदि आदि बता रही…
अब इनसे और क्या उम्मीद की जाए???

इस उलझन से आपको स्वयं बाहर आना होगा अन्यथा ये उलझन एक दिन आपकी आगामी पीढ़ियों के लिए फाँसी बन जाएगी…

साभार https://www.facebook.com/hindipatrikaonline/ से

image_pdfimage_print


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top