Wednesday, June 19, 2024
spot_img
Homeपत्रिकाकला-संस्कृतिदिव्य कला मेला 27 अक्टूबर से 5 नवंबर तक बैंगलुरु में

दिव्य कला मेला 27 अक्टूबर से 5 नवंबर तक बैंगलुरु में

दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग नियमित रूप से देश भर के दिव्यांग उद्यमियों/कारीगरों के उत्पादों और शिल्प कौशल को प्रदर्शित करने वाले अद्वितीय कार्यक्रम दिव्य कला मेला का आयोजन करता है। दिव्यांग उद्यमियों को सशक्त बनाने के प्रयासों को जारी रखने के लिए दिव्य कला मेला 27 अक्टूबर से 5 नवंबर, 2023 तक एचएमटी ग्राउंड जलाहल्ली मेन रोड, बेंगलुरु, कर्नाटक में आयोजित किया जाएगा। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री, श्री ए. नारायणस्वामी और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री, के.एम. प्रतिमा भौमिक 27 अक्टूबर को शाम 6 बजे मेले का उद्घाटन करेंगे। कई अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित रहेंगे।

यह कार्यक्रम आगंतुकों के लिए एक रोमांचक अनुभव पेश करेगा, क्योंकि जम्मू-कश्मीर, उत्तर पूर्वी राज्यों सहित देश के विभिन्न हिस्सों के जीवंत उत्पाद एक साथ दिखाई देंगे। लगभग 20 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के लगभग 100 दिव्यांग कारीगर/कलाकार और उद्यमी बेंगलुरु में अपने उत्पाद और कौशल का प्रदर्शन करेंगे। निम्नलिखित व्यापक श्रेणियों में उत्पाद प्रदर्शित किए जाएंगे: गृह सजावट और जीवन शैली, कपड़े, स्टेशनरी और पर्यावरण के अनुकूल उत्पाद, पैकेज्ड भोजन और जैविक उत्पाद, खिलौने और उपहार, व्यक्तिगत सहायक उपकरण – आभूषण, क्लच बैग पेंटिंग आदि। यह सभी के लिए ‘वोकल फॉर लोकल’ अपनाने का एक अवसर होगा और दिव्यांग कारीगरों द्वारा उनके अति दृढ़ संकल्प के साथ बनाए गए उत्पादों को देखा/खरीदा जा सकता है।

10 दिवसीय ‘दिव्य कला मेला’, बेंगलुरु, कर्नाटक में सुबह 10.00 बजे से रात 10.00 बजे तक खुला रहेगा और इसमें दिव्यांगजन कलाकारों और प्रसिद्ध पेशेवरों के प्रदर्शन सहित कई सांस्कृतिक गतिविधियाँ भी आयोजित होंगी। कार्यक्रम में पर्यटक देश के विभिन्न क्षेत्रों के अपने पसंदीदा भोजन का आनंद भी ले सकते हैं।

यह दिव्यांगजनों के आर्थिक सशक्तिकरण की दिशा में दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग की एक अनूठी पहल है।दिव्य कला मेला दिव्यांगजनों के उत्पादों और कौशल के विपणन और प्रदर्शन के लिए एक बड़ा मंच प्रस्तुत करता है। दिव्य कला मेला, बेंगलुरु 2022 से शुरू होने वाली श्रृंखला में नौवां मेला है। इनमें शामिल हैं – (i) दिल्ली, दिसंबर 2022, (ii) मुंबई, फरवरी 2023, (iii) भोपाल, मार्च 2023, (iv) गुवाहाटी, मई 2023 (V) इंदौर , जून 2023 (Vi) जयपुर 29 जून से 5 जुलाई 2023 (vii) वाराणसी, 15 से 24 सितंबर, 2023 (viii) सिकंदराबाद, हैदराबाद 6 से 15 अक्टूबर 2023 (ix) बेंगलुरु, कर्नाटक 27 अक्टूबर से 5 नवंबर, 2023।

विभाग के पास इस अवधारणा को बढ़ावा देने के लिए व्यापक योजनाएँ हैं, जिसके हिस्से के रूप में देश भर में ‘दिव्य कला मेला’ का आयोजन किया जा रहा है। 2023-2024 के दौरान यह कार्यक्रम 12 शहरों में आयोजित किया जाएगा।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार