Friday, April 19, 2024
spot_img
Homeहिन्दी जगतकोटा में पांच दिवसीय संभागीय साहित्य समारोह संपन्न

कोटा में पांच दिवसीय संभागीय साहित्य समारोह संपन्न

साहित्यकार आने वाली पीढ़ी को शिक्षा और संस्कृति से जोड़ने का संदेश दें – डॉ. सोढानी

कोटा। वर्धमान महावीर खुला विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ.कैलाश सोढानी ने कहा की साहित्यकार आने वाली पीढ़ी को शिक्षा और संस्कृति से जोड़ने का संदेश दें। वह आज सार्वजनिक मंडल पुस्तकालय के सभागार में आयोजित पांच दिवसीय संभागीय साहित्य समारोह के समापन अवसर पर मुख्य अथिति के रूप में संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा की साहित्य ही समाज का मार्ग दर्शन है।ऐसे कार्यक्रमों से माहोल बनता है, नए विचार आते हैं और युवाओं को साहित्य और पुस्तकों से जुड़ने का अवसर मिलता है।

समारोह की अध्यक्षता करते हुए साहित्यकार अतुल कनक ने कहा की बच्चों को हमारी प्राचीन साहित्य परंपरा से भी जोड़े। उन्होंने ज्ञान के साथ संस्कार को बचाने पर बल देते हुए कहा की पुस्तकें देव हैं और पुस्तकालय देवालय। विशिष्ठ अथिति एडवोकेट लीलाधर अग्रवाल ने भी अपने विचार रखे।

स्वागत उद्बोधन में पुस्तकालय अधीक्षक ने साहित्य समरोह की गतिविधियों की जानकारी देते हुए बताया कि साहित्य चर्चा के 65 सत्र आयोजित किए गए और 225 साहित्यकारों ने भाग लिया।

बाल साहित्यकार उमेश ने बांसुरी वादन, अर्पित जैन ने गीत “जब जब उठा सवाल माही तेरी चुनरिया लहराई” तथा नविया शर्मा ने धार्मिक एवं राष्ट्र प्रेम पर कविताएं सुना कर गुदगुदाया। इस अवसर पर सहयोग करने वाले एवम् प्रतिभागी साहित्यकारों को शाल ओढ़ा कर, माल्यार्पण कर प्रशस्ति पत्र भेंट कर सम्मानित किया गया।

संचालन साहित्यकार स्नेह लता शर्मा ने किया और डॉ.शशि जैन ने आभार व्यक्त किया। अथितियों ने पुस्तक प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया । समारोह में बड़ी संख्या में साहित्यकार मौजूद रहे।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार