ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

डॉ दीपक एम्स ऋषिकेश में “एफ.एच.एस.एल.ए : लाईब्रेरीयन ऑफ दी यीअर” अवार्ड से सम्मानित होंगे

कोटा। शीर्ष 10 भारतीय नेक्सट जनरेशन ट्रेलब्लेजींग पब्लिक लाईब्रेरीयन मे शुमार इनेली साउथ एशिया मेंटर डॉ दीपक कुमार श्रीवास्तव मण्डल पुस्तकालय अध्यक्ष राजकीय सार्वजनिक मण्डल पुस्तकालय कोटा को दिनांक 26 नवम्बर 2022 को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश मे आयोजित 2 दिवसीय “ हार्नेसींग दी डीजीटल स्पेस : “ वन इण्डिया वन स्बस्क्रिप्शन” इनीशीयेटीव एण्ड मेडीकल लाईब्रेरीयंस” पर्सप्रेक्टीव” तीसरे राष्ट्रीय सम्मेलन मे दिनांक 26 नवम्बर 2022 को राष्ट्रीय स्तर के “एफ.एच.एस.एल.ए: लाईब्रेरीयन ऑफ दी यीअर” अवार्ड से सम्मानित किया जावेगा । फेडरेशन ऑफ हेल्थ साईंस लाईब्रेरी एसोशियेशन भारत द्वारा पहली बार किसी पब्लिक लाईब्रेरीयन” को उनके नवाचार के लिये पुरुस्कार प्रदान किया जा रहा है । डॉ दीपक इस पुरुस्कार को प्राप्त करने वाले पहले भारतीय पब्लिक लाईब्रेरीयन होंगे ।

उल्लेखनीय है कि डॉ दीपक का चयन 12 अगस्त 2021 को भारतीय पुस्तकालय विज्ञान के जनक डॉ एस.आर. रंगानाथन की जयंती पर “नेशनल लाईब्रेरीयन डे” पर आयोजित स्मरणोत्सव : प्रोफेसर एस.आर.रंगानाथन मेमोरियल वेब-सिम्पोजीयम” मे चयन घोषणा की गई ।

फेडरेशन ऑफ हेल्थ साईंस लाईब्रेरी एसोशियेशन भारत के अध्यक्ष डॉ पी.आर .मीणा ने बताया कि कोवीड प्रोटोकाल्स की वजह से यह पुरुस्कार इन पर्सन 2021 की जगह 2022 मे दिया जा रहा है । इस पुरुस्कार बावत 23 लोगों ने आवेदन किया जिसमे सभी प्रतियोगी लगभग बेस्ट थे । डॉ दीपक का चयन बेस्ट ऑफ दी बेस्ट चयन है ।

डॉ दीपक का नाम विश्व के सबसे बडे पुस्तकालय संगठन इफ्ला “वॉल ऑफ फेम” तथा देश के लब्ध प्रतिष्ठित शीर्ष 75 लाईब्रेरी प्रोफेशनल्स मे शुमार है ।

Dr. D. K. Shrivastava
INELI South Asia Mentor
IFLA WALL OF FAME ACHIEVER
Divisional Librarian and Head
Govt. Divisional Public Library Kota (Rajasthan)-324009
[email protected]
Cell No.+91 96947 83261

Librarians Save lives by handling the right books at right time to a kid in need.

image_pdfimage_print


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Get in Touch

Back to Top