ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

जबलपुर का दुर्गोत्सव, जिसने हर पीढ़ी को संस्कारों की विरासत सौंपी

जबलपुर का दुर्गोत्सव यह अपने आप मे अनुठा हैं. *पूरे देश मे रामलीला, दुर्गोत्सव और दशहरा जुलूस का अद्भुत और भव्य संगम शायद अकेले जबलपुर मे होता हैं.

भारत मे १८५७ का क्रांतियुध्द समाप्त होने के कुछ वर्ष बाद, अंग्रेजोंने बाॅम्बे – हावडा रेल लाईन का काम शुरु किया. १८७० मे यह रेल लाईन प्रारंभ हुई. जबलपुर इस लाईन का महत्वपूर्ण स्टेशन / जंक्शन था. इस काम के सिलसिले मे अनेक बंगाली परिवार जबलपुर मे स्थाईक हुए. और १८७२ मे पहली बार एक नई ऐतिहासिक परंपरा का आरंभ हुआ. बृजेश्वर दत्त जी के यहां दुर्गा देवी की मिट्टी की प्रतिमा स्थापित की गई. तीन वर्ष के पश्चात यह उत्सव अंबिकाचरण बंदोपाध्याय (बॅनर्जी) जी के यहां स्थानांतरीत हुआ. ठीक आठ वर्ष के बाद, अर्थात १८७८ मे सुनरहाई मे कलमान सोनी जी ने बुंदेली शैली की दुर्गा प्रतिमा स्थापित की. मिन्नीप्रसाद प्रजापती इसके मूर्तिकार थे.

उन दिनों गढा यह एक परिपूर्ण और व्यवस्थित बसाहट थी. गढा वासियों ने इस उत्सव को हाथों हाथ लिया. जबलपुर के बाकी मोहल्लों मे यह उत्सव प्रारंभ हुआ. देवी की मूर्ती बनाने जबलपुर के शिल्पी (कलाकार) तो सामने आएं ही, साथ ही जबलपुर जिस ‘सीपी एंड बरार’ प्रांत का हिस्सा था, उसकी राजधानी नागपुर से भी मूर्तिकार आने लगे. *धिरे – धिरे यह दुर्गोत्सव भव्य स्वरुप मे मनाया जाने लगा. मूर्तियों के विसर्जन के लिये दशहरा विसर्जन जुलूस प्रारंभ हुआ, जिसने इतिहास रच दिया..!*

किसी जमाने मे जबलपुर का दशहरा चल समारोह, जिसमे दुर्गा प्रतिमाएं भी विसर्जन के लिये शामिल होती थी, अत्यंत भव्य होता था. चोबीस घंटे जुलूस चलता था. सवासौ के लगभग प्रतिमाएं होती थी. किंतू कालांतर मे शहर बडा होता गया. उसमे उपनगर जुडते गए, तो स्वाभाविकतः दशहरा चल समारोह का विकेंद्रीकरण होता गया. इस समय मुख्य चल समारोह के साथ ही गढा, सदर, कांचघर, रांझी आदी क्षेत्रों मे भव्यता के साथ चल समारोह निकलते हैं. दशहरे का उत्साह और इस उत्सव की उमंग पूरे जबलपुर क्षेत्र मे समान रुप से फैली हुई दिखती हैं.

जबलपुर यह उत्सवप्रिय शहर हैं. इस शहर ने उत्तर प्रदेश की रामलीला को अपना लिया.* दुर्गोत्सव के प्रारंभ होने से भी पहले, अर्थात सन १८६५ मे मिलौनीगंज मे गोविंदगंज रामलीला समिती व्दारा रामलीला प्रारंभ हुई, जो आज तक अविरत चल रही हैं. मशाल और चिमनी के प्रकाश मे प्रारंभ हुई यह रामलीला आज अत्याधुनिक तकनिकी का प्रयोग कर रही हैं, और इसीलिये यह आज भी प्रासंगिक हैं तथा भक्तों की भीड खिंचती हैं. यह रामलीला, पारंपारिक एवं शुध्द स्वरुप मे मंचित होती हैं. इसके पात्र भी मंचन के दिनों मे पूर्ण सात्विक जीवन जीते हैं.

गोविंदगंज की देखा देखी, गढा, सदर, घमापुर, रांझी आदी अनेक स्थानों पर आज भी रामलीला का मंचन उसी भक्तिभाव से होता हैं.

सप्तमी से लेकर तो दशहरे तक, जबलपुर के रौनक की, जबलपुर वासियों के उत्साह की कोई तुलना हो ही नही सकती. लगभग ६०० से ७०० भव्य मूर्तियों की प्रतिष्ठापना की जाती हैं.* पहले नागपुर के मूर्तिकारों व्दारा प्रमुख उत्सव समितीयों मे मूर्ती बनाई जाती थी. पुराना बस स्टैंड (सुपर बजार) की मूर्ती मूलच॔द व्दारा निर्मित होती थी, तो शंकर घी भंडार (सब्जी मंडी), गल्ला मंडी और हरदोल मंदिर (गंजीपुरा) की प्रतिमाएं, सुधीर बनाते थे. अनेक वर्षों पहले, सब्जी मंडी मे रखी गई, सिंह के रथ पर सवार, सुधीर व्दारा बनाई गई, मां जगतजननी की प्रतिमा आज भी अनेकों के स्मरण मे होगी. नागपुर की इस परंपरा को अभी – अभी तक जीवित रखा हैं, शरद इंगले ने. दिक्षितपुरा की हितकारिणी शाला मे स्थापित प्रतिमा उन्ही के व्दारा बनाई जाती हैं. कुछ वर्ष पहले तक, शरद और वसंत इंगले यह भाई घमापुर, चोर बावली (आज का ब्लूम चौक) और सुभाष टाॅकीज की प्रतिमाएं भी बनाते थे. मूलचंद, सुधीर, शरद इंगले यह सभी कलाकार, नागपुर के चितार ओल से आते थे.

किंतु जबलपुर के दुर्गोत्सव मे जलवा होता था तो कलकत्ता से आनेवाले जगदीश विश्वास का. बंगाली शैली मे बनी अनेक प्रतिमाएं उनके तथा उनके भाई के व्दारा बनाई जाती थी. मूलतः, लगभग पचपन – साठ वर्ष पूर्व उन्हे टेलिग्राफ वर्कशॉप की दुर्गा उत्सव समिती ने बुलाया था. दुर्गोत्सव के लगभग एक महिने पहले आकर जगदीश विश्वास और उनकी टीम, टेलिग्राफ काॅलोनी के डिस्पेंसरी मे मूर्ती बनाना प्रारंभ करती थी. उन दिनों उनकी दो मूर्तियां भव्यता की श्रेणी मे आती थी. एक – टेलिग्राफ काॅलोनी की और दुसरी शारदा टाॅकीज, गोरखपुर की. लगभग सारी मूर्तियां दुर्गा जी की होती थी. बंगाली पंडालों के लिये गणेश, सरस्वती, कार्तिकेय इत्यादी भी रहती थी. अपवाद एक था. कछियाना की समिती के लिये, लेटे हुए शंकर पर खडी महाकाली की मूर्ती वे बनाते थे.

धीरे – धीरे जबलपुर के मूर्तिकार अपनी कला मे निखार लाते गए. बचई जैसे कलाकार, महाराष्ट्र स्कूल के सामने रखी गई प्रतिमा मे अपनी कला का अविष्कार दिखाते रहे. किंतू अनेक मूर्तिकार परंपरागत शैली मे सुंदर प्रतिमाएं बनाते रहे. शीतलामाई के पास आज भी बडी संख्या मे शानदार प्रतिमाएं बनती हैं.

कुछ उत्सव समितियों का जनमानस मे श्रध्दाभाव के साथ, अटूट स्थान बन गया हैं. गढाफाटक की तथा पडाव की महाकाली यह आस्था की अद्भुत प्रतीक बन गई हैं. सुनरहाई तथा नुनहाई की पारंपारिक बुंदेली शैली की प्रतिमाएं, यह जबलपुर की शान हैं. जबलपुर का गौरव हैं. सुनरहाई की देवी, ‘नगर सेठानी’ कहलाती हैं. सुनरहाई के ही आगे एक भव्य देवी प्रतिमा स्थापित की जाती हैं, जिसमे किसी पौराणिक कथा की शानदार प्रस्तुती होती हैं. मोहन शशी जी जैसे वरिष्ठ पत्रकार की लेखनी से उतरी यह कथा, भक्तों का मन मोह लेती हैं.

उपनगरों की देवी प्रतिमाएं भी आकर्षण का केंद्र बन रही हैं. मंडला रोड पर बिलहरी मे स्थापित दुर्गा प्रतिमा यह अनेक वर्षों से भव्यता और झांकियों के लिये प्रसिद्ध हैं. रांझी, गढा और सदर की भी अनेक प्रतिमाएं आकर्षण का केंद्र रहती हैं.

सप्तमी से लेकर तो विजया दशमी (दशहरे) तक, सारा जबलपुर मानो सडकों पर होता हैं. शहर का कोना – कोना रोशनी से जगमगाता रहता हैं. आजुबाजू के गांव वाले भी इस दुर्गोत्सव और दशहरे का आनंद लेने शहर आते हैं.* दशहरे के एक दिन पहले, अर्थात नवमी के दिन, पंजाबी दशहरा संपन्न होता हैं. पहले राईट टाऊन स्टेडियम मे जब यह होता था, तो इसकी भव्यता का आंकलन करना भी कठीन होता था. बच्चों के लिये तो यह विशेष आकर्षण रहता था.

जबलपुर यह भारत की सारी संस्कृतियों को समेटता हुआ शहर हैं. ये सारे लोग बडे उत्साह से, उमंग से, उर्जा से और गर्व से दुर्गोत्सव और दशहरा मनाते हैं.* यह सभी का उत्सव हैं. इसलिये एक ओर जहां गरबा चलता रहता हैं, तो दुसरी ओर सिटी बंगाली क्लब और डी बी बंगाली क्लब मे बंगाली नाटकों का मंचन चलता हैं. छोटा फुआरा, गढा, घमापुर, सदर, गोकलपुर, रांझी आदी स्थानों पर रामलीला का मंचन होता रहता हैं, तो दत्त मंदिर मे मराठी समाज अष्टमी का खेल खेलता हैं. सैंकडो देवी पंडालों मे देवी पूजा, सप्तशती का पाठ, होम-हवन होता रहता हैं, तो जगह – जगह सडकों पर भंडारा चलता रहता हैं.

ये जबलपुर हैं. एम पी अजब हैं, तो हमारा जबलपुर गजब हैं. इस उत्सव के रंग मे रंगने के लिये अगले वर्ष, इन दिनों जबलपुर अवश्य आइये..!
आपका स्वागत है।

– प्रशांत पोळ
#जबलपुर; #Jabalpur; #दुर्गोत्सव
(लेखक अध्यात्मिक व ऐतिहासिक विषयों पर शोधपूर्ण लेख लिखते हैं)

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top