Tuesday, April 16, 2024
spot_img
Homeपाठक मंचशब्द प्रेम का शौक भी गजब है 

शब्द प्रेम का शौक भी गजब है 

वैसे तो कई वाहनों पर अलग-अलग प्रकार के वाक्य, सूक्तयात्मक पंक्तियाँ, काव्य के विवध सन्दर्भ और शब्द लिखे हुए आते-जाते, उठते-बैठते दिख जाते हैं। शनिवार 6 जनवरी 2024 को यही हुआ जब दोपहर दो बजकर उनचास मिनट पर नाथद्वारा में एक बाइक की नम्बर प्लेट पर लाल रंग से ‘इतिहास’ लिखा हुआ देखा।
इतने में साथ चल रहे डॉ. प्रभात कुमार सिंघल साहब ने कहा- ये देखो विजय साहब…इस बाइक पर विशेष ही शब्द लिखा हुआ है।
– हाँ भाई साहब !  …इतिहास…
मैंने मोबाइल निकाला और फोटो लिया ही था कि बाइक वाले सज्जन आ गए
– अरे! आपकी बाइक है क्या…?
– जी हाँ सा !
– आपने यह नाम ऐसे ही लिखा है या कोई विशेष बात है…
– ऐसा कुछ नहीं है, पर… मेरा मन करता है तो मैं अलग-अलग नाम सोच कर लिखवा लेता हूँ।
– अच्छा! इसका मतलब इसके अलावा भी कोई और भी शब्द लिखवाये हैं आपने?
– हाँ…
– अरे वाह! कौन-कौन से लिखे हैं…
– सबसे पहले प्रारब्ध, नसीब, राजतिलक, राजहंस, मूमल, अरमान, भन्नाभोट, धाकाधिक, धमाका, सोनारायण, निराकार…..और अब ये इतिहास….
– वाह…!!! आपने तो छाँटकर शब्द लिखेवायें हैं…आपकी रूचि और धुन कमाल की है….
– बस! ऐसे ही कुछ अलग सोचकर ऐसा कर लिया। अच्छा लगा…और लोगों का ध्यान भी जाता…पसन्द भी आता…
– कभी कोई परेशानी तो नहीं आयी…मेरा मतलब….
– नहीं! ऐसी कोई विशेष तो नहीं…
– चलो आपकी इस विशेष रूचि और धुन के लिए आपको शुभकामनाएँ…
उन सज्जन ने सुनकर अभिवादन किया और हम बाइक की ओर देखते हुए आगे की ओर बढ़ गये…
विजय जोशी, कोटा
image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार