आप यहाँ है :

नागौर प्रधान डाकघर में एटीएम सेवा का डाक निदेशक के. के. यादव ने किया शुभारम्भ

डाक विभाग सिर्फ चिट्ठी-पत्री और मनीऑर्डर ही नहीं बाँटता बल्कि बचत और बीमा सेवाओं से भी लम्बे समय से जुड़ा हुआ है। आई. टी. मॉडर्नाइजेशन के तहत सभी डाकघरों को कोर बैंकिंग (सीबीएस) से जोड़ा जा रहा है, आने वाले दिनों में नेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग एवं एटीएम सुविधाओं का डाकघरों में भी लाभ उठा सकेंगे। नागौर के 59 डाकघरों को कोर बैंकिंग से जोडा जा चुका है। वर्तमान परिदृष्य में बैंकिंग प्रणाली में ए.टी.एम. सुविधा ने आमजन की प्रमुख एवं प्रथम आवष्यकता का रूप धारण कर लिया है, इसी के मद्देनजर राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र में कुल 22 एटीएम आरंभ हो चुके हैं, जिनमें नागौर डाक मंडल के नागौर, डीडवाना और मकराना स्थित तीन एटीएम शामिल हैं। उक्त उद्गार 26 फरवरी को नागौर प्रधान डाकघर में एटीएम का उद्घाटन करते हुये राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने व्यक्त किए। इस अवसर पर डाकघर प्रांगण में आयोजित डाक मेले का भी निदेशक श्री यादव ने शुभारम्भ किया और लोगों से रूबरू हुए।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि व्यवसायिकता के इस दौर में बिना प्रतिस्पर्धा के कोई भी संगठन उन्नति नहीं कर सकता और डाक विभाग भी इस क्षेत्र में तमाम नये कदम उठा रहा है। अपने को एक व्यावसायिक और उत्तरदायी संगठन में तब्दील करने और अपनी सेवाओं को ग्राहकों के लिए और विविधतापूर्ण, गुणवत्तापूर्ण और तत्पर सेवा में बदलने की पहल के तहत डाकघरों को ऐसी जगह के रूप में विकसित किया जा रहा है, जहाँ ग्राहकों को एक ही जगह पर जनोपयोगी सेवाएँ मिल सकें और आम आदमी को अपने दरवाजे पर ही आसानी से और सस्ती सेवाएँ प्रदान की जा सकें। इसके लिए डाक सम्प्रेषण प्रणाली में आवश्यकतानुसार परिवर्तन के साथ डाक सेवाओं को आधुनिकतम टेक्नालजी और आई. टी. से जोड़ा जा रहा है।

श्री यादव ने कहा कि आने वाले दिनों में ग्रामीण डाक सेवकों सहित विभाग के सभी कर्मचारियों को सूचना प्रौद्योगिकी के माहौल में प्रभावकारी तरीके से कार्य करने के लिए तैयार करना है। इसी क्रम में ग्रामीण शाखा डाकघरों को भी तकनीकी तौर पर दक्ष बनाने के उद्देश्य से ग्रामीण आईसीटी के तहत हाईटेक किया जायेगा और वहाँ पर नेटबुक व हैण्डहेल्ड डिवाइस भी दिया जायेगा। शाखा डाकघरों को सोलर चार्जिंग उपकरणों से जोडने के साथ-साथ मोबाइल थर्मल प्रिन्टर, स्मार्ट कार्ड रीडर, फिंगर प्रिन्ट स्कैनर, डिजिटल कैमरा एवं सिगनेचर व दस्तावेज स्कैनिंग के लिये यन्त्र भी मुहैया कराया जायेगा ताकि ग्रामीण लोगों को इन सुविधाओं के लिये शहरों की तरफ न भागना पडे।

डाक विभाग की योजनाओं की चर्चा करते हुए डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक विभाग का उद्देश्य समावेशी विकास के तहत शहरों के साथ-साथ सुदूर ग्रामीण अंचल स्थित लोगों को भी इन सभी योजनाओं के तहत लाना है। 10 साल तक की बालिकाओं के लिए आरम्भ सुकन्या समृद्धि योजना की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इससे बालिकाओं का आर्थिक सशक्तिकरण होगा और उनकी उच्च शिक्षा और विवाह में काफी सुविधा होगी। देश में मुख्यधारा से वंचित लोगों व उनके परिवारों को आर्थिक सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से आरम्भ अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना एवं प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के सफलतापूर्वक क्रियान्वयन में भी डाकघरों द्वारा एक मुख्य व सक्रिय भूमिका का निर्वहन किया जा रहा है। नागौर प्रधान डाकघर में ई-मित्र की सेवाएं भी दी जा रही हैं। नागौर प्रधान डाकघर में डाक विभाग की “माई स्टैम्प“ सेवा के तहत हर कोई मात्र 300 रूपये में अपनी और अपने प्रियजनों की फोटो डाक टिकट पर लगवा सकता है।

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने विभाग के पोस्टमास्टरों से रूबरू होते हुए कहा कि फील्ड में उनकी और पोस्टमैन की कार्य गतिविधियाँ ही विभाग के प्रति लोगों की अवधारणा (इमेज) बनाती हैं, ऐसे में उन्हें ग्राहकों के प्रति ज्यादा संवेदनशील होने की जरुरत है। आज के प्रतियोगी दौर में यह सोचना कि मात्र काउंटर पर सेवाएँ देकर जनता को आकर्षित किया जा सकता है, उचित नहीं है। ज्यादा राजस्व के लिए हमें खुद लोगों के पास जाना होगा, नियमित संवाद स्थापित करते हुए उन्हें सेवाओं और गुणवत्ता के बारे में जागरूक करना होगा, तभी लक्ष्यों की प्राप्ति हो सकेगी।

नागौर मंडल के कार्यवाहक डाक अधीक्षक श्री एस॰ एस॰ शेखावत ने इस अवसर पर कहा कि डाक विभाग अपने ग्राहकों को बेहतर सेवा देने के लिए तत्पर है और इस दिशा में लोगों से समय-समय पर संवाद के साथ-साथ विभाग ने अपनी सेवाओं के व्यापक प्रचार-प्रसार पर भी जोर दिया है। उन्होंने कहा कि डाकघरों में निवेश की तमाम योजनायें हैं, जिनमें बचत खाता, आवर्ती जमा, सावधि जमा, मासिक आय योजना, पी.पी.एफ., वरिष्ठ नागरिक बचत योजना, सुकन्या समृद्धि योजना एवं राष्ट्रीय बचत पत्र व किसान विकास पत्र में निवेश किया जा सकता है। डाक जीवन बीमा में 50 लाख और ग्रामीण डाक जीवन बीमा में 20 लाख रूपये तक का जीवन बीमा कराया जा सकता है।

इस अवसर पर लोगों ने तमाम बचत योजनाओं, डाक जीवन बीमा, ग्रामीण डाक जीवन बीमा, सुकन्या समृद्धि सहित तमाम योजनाओं का फायदा उठाया और नए खाते खोले। निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने इस अवसर पर तमाम लोगों को मंच पर पासबुकें दे कर उनके सुखी व समृद्ध भविष्य की कामना की। कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत नागौर डाकघर के पोस्टमास्टर श्री निम्बाराम, आभार ज्ञापन सहायक डाक अधीक्षक श्री रामलाल मूंड और संचालन श्री जुगलकिशोर शर्मा ने किया। इस अवसर पर क्षेत्रीय कार्यालय से डाक निरीक्षक श्री राजेन्द्र सिंह भाटी, सहित तमाम स्थानीय डाककर्मी, बचत अभिकर्तागण व नागरिकजन उपस्थित रहे।

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top