Tuesday, April 16, 2024
spot_img
Homeभारत गौरवहल्दी घाटी युद्ध और दुद्धा भील का बलिदान

हल्दी घाटी युद्ध और दुद्धा भील का बलिदान

उदयपुर के निकट हल्दी-घाटी में मेवाड़ के वीर योद्धा महाराणा प्रताप और मुगल बादशाह अकबर की सेनाओं के मध्य युद्ध छिड़ा हुआ था। महाराणा प्रताप ने एक पहाड़ी पर भील बस्ती में डेरा डाला था। बस्ती के भील लोग बारी-बारी से अपने महाराणा के लिए भोजन लेकर आते थे। एक दिन ‘दुद्धा’ के घर की बारी थी, किन्तु उसके घर में अनाज का एक दाना भी नहीं था। उसकी माता ने पड़ोसियों से आटा मँगवाकर रोटियाँ बनाई और दुद्धा को देते हुए कहा, “बेटा, यह पोटली राणा जी को दे आना।”

दुद्धा प्रसन्नतापूर्वक पोटली उठाकर पहाड़ी पर दौड़ता हुआ महाराणा प्रताप के डेरे की ओर गया। रास्ते में अकबर की सेना के तैनात सैनिकों ने उसे देखा और उसे पकड़ने के लिए उसके पीछे भागे। दौड़ते-दौड़ते दुद्धा एक चट्टान से टकरा गया और गिर पड़ा। एक मुगल सैनिक की तलवार से उसकी बालक कलाई पर गहरा घाव लग गया। फिर भी वह नीचे गिरी रोटियों की पोटली को दूसरे हाथ से उठा लिया और फिर से दौड़ने लगा। उसका एकमात्र लक्ष्य था कि किसी भी तरह महाराणा तक ये रोटियाँ पहुँचानी हैं। खून बहुत बह चुका था और दुद्धा की आँखों के सामने अंधेरा छाने लगा था।

जिस गुफा में महाराणा प्रताप ठहरे थे, वहाँ पहुँचकर दुद्धा चक्कर खाकर गिर पड़ा। उसने एक बार फिर से शक्ति इकट्ठी की और पुकारा, “राणा जी, ये रोटियाँ मेरी माँ ने भेजी हैं।” यह दृश्य देखकर महाराणा प्रताप की आँखें भर आईं। शोक का सैलाब उमड़ पड़ा। रक्त से लथपथ बालक के एक हाथ को देखकर उन्होंने कहा, “बेटा, तुम्हें इतना बड़ा संकट क्यों उठाया?”

वीर दुद्धा ने उत्तर दिया, “माँ कहती हैं, अगर आप चाहते तो अकबर से समझौता कर आरामदायक जीवन बिता सकते थे, लेकिन आपने राष्ट्र की रक्षा, अपनी संस्कृति और स्वाभिमान की रक्षा के लिए इतना बड़ा त्याग किया है, उसके आगे तो मेरा यह छोटा-सा बलिदान कुछ भी नहीं है।”

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार