Wednesday, May 29, 2024
spot_img
Homeदुनिया मेरे आगेलंदन में गर्मी ने कहर ढा दिया

लंदन में गर्मी ने कहर ढा दिया

आज लन्दन ने जो भोगा वो यहाँ के योजनकारों ने कभी सोचा भी नहीं था . तापमान चालीस डिग्री सेल्सियस . अपेक्षाकृत उत्तरी गोलार्द्ध से क़रीब होने के कारण मनुष्य , हरियाली और पशु पक्षियों के लिए ज़बरदस्त क़ातिलाना . 150 वर्ष के मौसम के आँकड़ों के आधार पर यहाँ की सड़कें और अंडरग्राउंड -10 से +35 डिग्री के ताप को सहने के लिए बनाई गई थीं . चालीस डिग्री पर पहुँचते ही धुआँ धुआँ हो गईं, लिहाज़ा कई महत्वपूर्ण हाइवे बंद कर दिए गए . अंडरग्राउंड सेवाएँ भी इसलिए बैठ गईं क्योंकि मेट्रोपालिटन लाइन को छोड़ कर बाक़ी सभी लाइन की अंडरग्राउंड सेवा ग़ैर वातानुकूलित हैं , सोचिए ऐसी सेवा में इस भीषण तापक्रम पर सुरंगों के भीतर ट्रेन सेवा कैसे काम करेगी . नतीजा लन्दन का स्पंदन यानी अंडरग्राउंड आज फेल हो गया , घर से काम के लिए निकले लोग भीषण गरमी में झुलसते रहे . गरमी का यह क़हर केवल लन्दन तक ही सीमित नहीं है यूरोप के अन्य देशों में भी भीषण गरमी के कारण जगह जगह जंगलों में आग लगी हुई हैं .

लेकिन आज का यह वाक़या प्रकृति की ओर से चेतावनी है कि मेरा अंधाधुंध दोहन करना बस बंद करो . पता नहीं देशों के प्रमुख, योजनाकार , संयुक्त राष्ट्र संघ पर्यावरण को लेकर अपने ऐक्शन और आचरण में कितने गम्भीर हैं . लेकिन अभी भी अगर प्रकृति का यह अंधाधुंध दोहन बंद नहीं हुआ तो मानवता के लिए आगे भी ऐसी ही चुनौतियाँ आती रहेंगी .

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार