Friday, July 19, 2024
spot_img
Homeहिन्दी जगतदेखना चाहते हो असल खुशी तो इन आँखों को पढ़ना

देखना चाहते हो असल खुशी तो इन आँखों को पढ़ना

सच में जीवन में खुशी की सारी मापनी आज नतमस्तक नज़र आई, जब वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड्स, लंदन द्वारा मातृभाषा उन्नयन संस्थान को प्रदत्त विश्व कीर्तिमान को लेकर हम राजकुमार कुम्भज जी के पास पहुँचे।

सुबह कुम्भज जी का टेलीफोन आया कि आज संक्रांति है, हम खाना साथ खाएँगे। मैंने कहा जरूर।

मैं घर पहुँचा, तब नईदुनिया में प्रकाशित खबर दिखाते हुए कहने लगे ‘अब फल आने लगा है’, जैसे ही कीर्तिमान का सम्मान पत्र कुम्भज जी के हाथों में सौंपा, उनकी आँखों ने बगावत कर दी और फिर गले लगाते हुए गुरु माँ से कहने लगे कि *’मेरा बेटा आज विश्व मंच पर हिन्दी ला रहा है, तुम भी देखों।’

तिल लड्डू से मुँह मीठा करवाने के बाद प्रेम पूर्वक भोजन करना फिर अगली तैयारी शुरू, साहित्यग्राम की रूपरेखा और प्रस्तावना तैयार।
कहने लगे *’धर्मवीर याद आएंगे, जब यह पत्रिका लोग पढ़ेंगे।*
मैंने कहा कि कैसे?
तब कहने लगे *’शुरुआत करों, तुम्हें हारने नहीं देना मेरी जिम्मेदारी है।’*
बताइये यही तो दौलत है जो मेरी किस्मत का कुल जमा हासिल है।
प्रणाम कुम्भज जी !

डॉ.अर्पण जैन ‘अविचल’
हिन्दीग्राम, इंदौर

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार