Tuesday, April 16, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिकथाकार संजीव साहित्य अकादमी पुरस्कार, 24 भाषाओं में वार्षिक अकादमी पुरस्कारों की...

कथाकार संजीव साहित्य अकादमी पुरस्कार, 24 भाषाओं में वार्षिक अकादमी पुरस्कारों की घोषणा

साहित्य अकादमी ने 24 भाषाओं में अपने वार्षिक साहित्य अकादमी पुरस्कारों की घोषणा की है। कविता की 9 पुस्तकें, 6 उपन्यास, 5 लघु कथाएं, 3 निबंध और 1 साहित्यिक अध्ययन ने साहित्य अकादमी पुरस्कार 2023 जीते हैं। 24 भारतीय भाषाओं में प्रतिष्ठित जूरी सदस्यों द्वारा अनुशंसित पुरस्कारों को साहित्य अकादमी के कार्यकारी बोर्ड द्वारा अनुमोदित किया गया था, जिसकी बैठक 20 दिसंबर, 2023 को साहित्य अकादमी के अध्यक्ष श्री माधव कौशिक की अध्यक्षता में हुई थी।

पुरस्कार विजेताओं की श्रेणी-वार सूची-

कविता – विजय वर्मा (डोगरी), विनोद जोशी (गुजराती), मंशूर बनिहाली (कश्मीरी), सोरोखैबम गंभिनी (मणिपुरी), आशुतोष परिदा (उड़िया), स्वर्णजीत सावी (पंजाबी), गजे सिंह राजपुरोहित (राजस्थानी), अरुण रंजन मिश्रा (संस्कृत) और विनोद आसुदानी (सिंधी)

उपन्यास – स्वप्नमय चक्रवर्ती (बंगाली), नीलम सरन गौड़ (अंग्रेजी), संजीव (हिंदी), कृष्णत खोत (मराठी), राजशेखरन (देवीभारती) (तमिल) और सादिका नवाब सहर (उर्दू)

लघु कथाएँ – प्रणवज्योति डेका (असमिया), नंदेश्वर दैमारी (बोडो), प्रकाश एस. परिएंकर (कोंकणी), तारासीन बास्की (तुरिया चंद बास्की) (संताली) और टी पतंजलि शास्त्री (तेलुगु)

निबंध – लक्ष्मीशा टोलपडी (कन्नड़), बासुकीनाथ झा (मैथिलि) एंड जुधाबीर रना (नेपाली)

साहित्यिक अध्ययन – ईवी रामकृष्णन (मलयालम)

पुस्तकों का चयन इस उद्देश्य के लिए निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार संबंधित भाषाओं में तीन सदस्यों की जूरी द्वारा की गई सिफारिशों के आधार पर किया गया था। प्रक्रिया के अनुसार, कार्यकारी बोर्ड ने जूरी सदस्यों द्वारा सर्वसम्मति से किए गए चयन या बहुमत के आधार पर किए गए चयन के आधार पर पुरस्कारों की घोषणा की। पुरस्कार वर्ष से ठीक पहले के पांच वर्षों के दौरान पहली बार प्रकाशित पुस्तकों से ये पुरस्कार संबंधित हैं (अर्थात 1 जनवरी 2017 और 31 दिसंबर 2021 के बीच)। कमानी ऑडिटोरियम, कॉपरनिक्स मार्ग, नई दिल्ली- 110 001 में 12 मार्च 2024 को आयोजित होने वाले पुरस्कार प्रस्तुति समारोह में पुरस्कार विजेताओं को एक मंजूषा (कास्केट) के रूप में पुरस्कार दिया जाएगा जिसमें एक उत्कीर्ण तांबे की पट्टिका, एक शॉल और 1,00,000 रुपए की नकद राशि शामिल होगी।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार