Wednesday, May 29, 2024
spot_img
Homeभारत गौरवकायस्थ समाज के गौरव पं. धर्म भिक्षु लखनवी

कायस्थ समाज के गौरव पं. धर्म भिक्षु लखनवी

पं. धर्म भिक्षु का जन्म लखनऊ के श्रीवास्तव परिवार में भाद्र कृष्णा ६ संवत् १९५८ विक्रमी तद्नुसार सन १८९८ ईस्वी को हुआ । आप के पिता पं. दीन दयाल थे जब कि माता का नाम श्रीमती जगत प्यारी था । आप का आरम्भिक नाम इश्वरी दयाल रखा गया ।

पं. धर्म भिक्षु के चाचा श्री बनारसी दास जी के सम्पर्क से आप का आर्य समाज में प्रवेश हुआ । जब आपने संन्यास की दीक्षा ली तो आप का नाम स्वामी निर्भयानन्द रखा गया , किन्तु बाद में आपने अपना नाम बदल कर धर्मभिक्षु रख लिया । आप ने स्वामी दयानन्द सरस्वती क्रत ग्रन्थों को पटने के साथ ही साथ संस्क्रत को भी पटा । मात्र इतने ही आप की मनोकामना पूर्ण न हुई क्योंकि आप के अन्त: करण में तो शास्त्रार्थ करने तथा मुसलमानों आदि को शास्त्रार्थों में पराजित करने की उत्कट इच्छा थी । इस कारण अरबी , फ़ारसी आदि की जानकारी का होना आवश्यक था । इस लिए आप ने एक आलिम फ़ाजिल नामक मौलवी से अरबी ओर फ़ारसी को पता व सीखा।

अभी आप किशोर अवस्था के ही थे कि आप आर्य समाज के सत्संगों में जा कर व्याख्यान देने लगे । इस अवस्था में ही अन्य धर्मावलम्बियों से शास्त्रार्थ भी करने लगे । इस प्रकर धीरे धीरे विधिवत धर्म प्रचार में के कार्य में लग गए तभ ही आपने अपना नाम बदल कर धर्म भिक्शु किया ।

आप ने एक लम्बे समय तक स्वतन्त्र रुप से धर्म प्रचार का कार्य किया । तत्पश्चात आप को आर्य प्रतिनिधि सभा पंजाब में उपदेशक स्वरुप नियुक्त किया गया । आर्य प्रतिनिधि सबा के उपदेशक स्वरुप आप ने देश भर का भ्रमण किया । इस मध्य ही दिल्ली में श्री मद्द्यानन्द प्रेस की स्थापना की । इस के साथ ही पं. लेखराम जी की स्म्रति में आर्य मुसाफ़िर नाम से एक प्त्र का प्रकाशन भी आरम्भ किया गया । इस प्रकर आप ने अपना जीवन आर्य समाज के प्रचार व प्रसार मेम पूरी तरह से झॊंक दिया ।

२४ फ़रवरी सन १९२६ को आप का विवाह मोहम्मद्पुर गांव (समीप इलाहाबाद) के एक कायस्थ परिवार की कन्या सुभद्रादेवी से हुआ । इस गृह्स्थ में रहते हुए आप के यहां लक्ष्मी नामक एक कन्या का भी जन्म हुआ । आप ने १९०० इस्वी में हुए सत्याग्रह आन्दोलन में बढ चढ कर भाग लिया ।

आप ने अनेक पुस्तकें भी लिखीं , जिनका आज के आर्य भी खूब लाभ उठा रहे हैं । यह पुस्तकें इस प्रकार से हैं ,पं धर्म भिक्षु जी की ४८ आयतों से युक्त असली कुरान जो १९२४ को लाहौर से नाजिल हुई ।, क्लामुर्रहमान वेद है य कुरान १९२९ मे प्रकाशित इस पुस्तक में वेद को ईश्वरीय ज्ञान बताते हुए कुरान का मनुष्य कृत होना सिद्ध किया गया है । चश्माय कुरान, मिर्जा कादियानी को हमल,आस्मानी दुलहिन, अजाला ओहाम याने तहकीकाते इस्लाम । इतना ही नही इस्लाम सम्बन्धी इन छ: पुस्तकों के अतिरिक्त आप ने धर्मवीर पं.लेखराम तथा मूलशंकर दिग्विजय नाम से दो नाटक भी लिखे किन्तु यह प्रकाशित न हो सके ।

शास्त्रार्थ कला में निष्णात थे तथा इस्लाम मत के मर्मग्य इस पं. धर्मभिक्षु जी का देहान्त दिनांक २० जून १९३० इस्वी समवत १९८७ विक्रमी को विषूचिका रोग के कारण हुआ । आप अलपायु ही इस संसार में रहे किन्तु इस अल्पायु में भी आप आर्य समाज को इतना कुछ दे गये , आर्य समाज के लिए इतना कुछ कर गये, जिसे भुलाया नहीं जा सकता । आप की स्मृति में सुभद्रा देवी ने पं. धर्मभिक्षु लखनवी का जीवनचरित नाम से आप की एक जीवनी भी लिखी ।

डॉ..अशोक आर्य
पाकेट १/६१ raamaरामप्रस्थ ग्रीन से. ७ वैशाली
२०१०१२ गाजियाबाद उ.प्र.भारत
मो.९३५४८४५४२६ E mail [email protected]

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार