Wednesday, May 29, 2024
spot_img
Homeभारत गौरवप्राकृत भाषा में प्रकाशित प्रथम अखबार 'पागद-भासा'का नया अंक प्रकाशित

प्राकृत भाषा में प्रकाशित प्रथम अखबार ‘पागद-भासा’का नया अंक प्रकाशित

पागद-भासा (प्राकृत भाषा)का नया  अंक प्रकाशित हो गया है |ये एक छोटा सा अव्यवसायिक प्रयास है |सुधार की संभावनाएं हमेशा रहेंगी ही |आप चाहें तो इसका प्रिंट निकाल कर मंदिरों ,स्वाध्याय भवनों,पुस्तकालयों में रख सकते हैं अपने परिजनों मित्रों में वितरित कर सकते हैं | इस भाषा के प्रचार प्रसार में सोशल मीडिया में शेयर करके नया योगदान भी आप भी कर सकते हैं |हमारे पास इसके प्रचार के अन्य कोई साधन नहीं हैं आप यदि किसी बेब साईट /ब्लॉग/group/या मिडिया से जुड़े हैं तो वहां इसके चार पेज निःशुल्क जोड़ कर इसे आम जनता तथा अन्य विद्वानों तक पहुँचाने में योगदान करें | 

 मैं भी प्राकृत का सामान्य विद्यार्थी हूँ |किन्तु मेरे साथ नए युवा विद्वानों की एक टीम इस अखबार के माध्यम से निरंतर जुड़ रही है वे अपना अकादमिक और रचनात्मक योगदान इस अखबार में कर रहे हैं |आप सभी का भी स्वागत है |फेसबुक पर प्राकृत के इस पेज को यदि आप LIKE करें तो इस विषय पर गतिविधियाँ आपको निरंतर मिलती रहेगी |आप सभी की सुविधा के लिए हम अखबार में प्रकाशित रचनाओं का हिंदी अनुवाद भले ही अभी अखबार में प्रकाशित न कर पायें किन्तु इस पेज पर देने का प्रयास करेंगे | आपके सुझावों का स्वागत है |इन्टरनेट के निम्नलिखित लिंक पर जाकर आप इस अखबार को देख -पढ़ सकते हैं –
https://www.facebook.com/pages/Prakrit-Language-and-Literature/376483559110083?ref=hl

https://www.facebook.com/groups/prakritlanguage/

http://prakritlanguage.blogspot.in/

प्राकृत भाषा में यदि अपनी रचनाएँ ,समाचार भेजना चाहें तो इस ई मेल  पर भेजें –
 [email protected] 

हम इसी प्रकार आपको आगे के अंक उपलब्ध करवाते रहेंगे |आप अपनी वेबसाइट के magzine section पर इसे निःशुल्क प्रकाशित कर सकते हैं |

आपकी प्रतिक्रिया  का स्वागत  है |

धन्यवाद 
आपका 
डॉ अनेकांत कुमार जैन 
मानद संपादक –
'पागद भासा'(प्राकृत भाषा में प्रथम समाचार पत्र )
Office-
JIN FOUNDATION 
A93/7A,Behind Nanda Hospital,
Chattarpur Extention
New Delhi-110074

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार