Sunday, March 3, 2024
spot_img
Homeफ़िल्मी-गपशपमधुमति की शादी का सेट देखकर चौंक गए थे प्राण साहब

मधुमति की शादी का सेट देखकर चौंक गए थे प्राण साहब

फिल्म मधुमति में प्राण ने पहली बार विमल राय के साथ काम किया। फिल्म का पहला शेड्यूल हिल स्टेशन नैनीताल के पास रानीखेत और नजदीक के एक गांव में रखा गया ।शूटिंग के दौरान जो आस-पास के गांव वाले थे उनको भी छोटा मोटा काम मिल गया, आमदनी का जरिया भी अच्छा लगा सभी को। विमल राय की आदत थी कि काम के बाद वह स्थानीय लोगों के साथ बैठकर बातें करते थे गप्पे मारते थे। 1 दिन काम समाप्त होने के बाद एक शाम को विमल राय ने कहा प्राण चलो पास के गांव में चलना है ,प्राण ने भी कुछ नहीं पूछा और बैठ गए गाड़ी में और प्राण लोकल कोऑर्डिनेटर के साथ पहुंचे गांव, देखा वहां शादी की तैयारी चल रही है ,गांव वालों ने विमल राय और प्राण के स्वागत में पलक पावडे बिछा दिए। वह शादी के मंडप की तरफ बढ़े जहां मंडप में वर-वधू बैठे थे ,विमल राय ने प्राण से कहा भैया प्राण थोड़ा पुण्य कमा लो इस बच्ची का कन्यादान तुम कर दो ,यह अनाथ है तुम इसके भाई बन जाओ, और मैं इसका धर्म पिता होने का पुण्य कमाता हूं ,विमल राय के कहने पर प्राण ने इस अनाथ कन्याओं का कन्यादान कर दिया, विमल राय ने पिता का धर्म निभा दिया ।

जब शादी से आ रहे थे तो विमल राय ने बताया, शूटिंग के दौरान गांव के सरपंच से मालूम हुआ कि वहां एक अनाथ लड़की की शादी होने में परेशानी हो रही थी, इसलिए मैंने उसकी जिम्मेदारी ले ली और इस पुण्य के काम में तुमको भी शामिल कर लिया ,यह बात यूनिट के दूसरे लोगों को मालूम नहीं थी।। अजब इत्तेफाक कि जब फिल्म के नेगेटिव डिवेलप किए गए तो देखा धुंध के कारण सूट ठीक से नहीं हो पाया, फिल्म की दोबारा शूटिंग करना लाजमी हो गया , जो वहां पॉसिबल नहीं था तब नासिक के करीब इगतपुरी में आर्ट डायरेक्टर सुधेंदु राय ने फिल्म का जो सेट था बिल्कुल नैनीताल जैसी लोकेशन बनाई और कुछ सीन मुंबई में आर्य मिल कॉलोनी के पास छोटे से जंगल में भी शूट किए।

जब फिल्म कंपलीट हुई तब प्राण ने वह फिल्म देखी और बहुत हैरान रह गए कि जिस गांव में जिस बच्ची का कन्यादान करके वह आए थे बिल्कुल वैसा ही सेट लगाया था ,विमल राय ने उस पर एक आईकॉनिक गीत भी फिल्माया था” दैया रे दैया चढ़ गयो पापी बिछुआ “जबकि उस रात आर्ट डायरेक्टर सुधेंदु राय साथ में नहीं थे ।उसके बाद जब भी मधुमति के गाने को प्राण साहब देखते उनके वह अनाथ लड़की का कन्यादान याद आ जाता था। जिसके बैक ड्रॉप को लेकर सिर्फ याददाश्त के सहारे बिमल रॉय ने अपने आर्ट डायरेक्टर को एक्सप्लेन करके एक सदाबहार गाना शूट कर दिया गया था ।शायद एक धर्म का काम करके यह पुण्य कमा कर यह लाभ मिला विमल राय को फिल्म को ,और मधुमति उनके जीवन की पहली कमर्शियल सक्सेसफुल हिट फिल्म रही।

साभार- https://www.facebook.com/profile.php?id=100063668771782

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार