Thursday, February 22, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिभोजन और आयुर्वेद के अंतर्सबंध पर गोष्ठी

भोजन और आयुर्वेद के अंतर्सबंध पर गोष्ठी

भोपाल। एसोसिएशन ऑफ फूड साइंटिस्ट्स एंड टेक्नोलॉजिस्ट्स (इंडिया), भोपाल चैप्टर एवं पं. खुशीलाल शर्मा सरकार. आयुर्वेद महाविद्यालय एवं संस्थान, भोपाल के सहयोग से एक संयुक्त वैज्ञानिक चर्चा और बैठक का आयोजनकिया गया। सत्र की शुरुआत पं. के प्राचार्य डॉ. उमेश शुक्ला के स्वागत भाषण से हुई। खुशीलाल शर्मा सरकार. आयुर्वेद महाविद्यालय एवं संस्थान, भोपाल। डॉ. शुक्ला ने भोजन और आयुर्वेद के अंतर्संबंध पर प्रकाश डाला, उपचार के चिकित्सीय पहलुओं और चयापचय संबंधी दोषों और बीमारियों के समाधान में खाद्य सामग्री की प्रभावशाली भूमिका पर प्रकाश डाला। उन्होंने चिकित्सीय खाद्य विकास के क्षेत्र में खाद्य वैज्ञानिकों के महत्व पर भी जोर दिया।

व्याख्यान का केंद्र बिंदु ए.एफ.एस.टी (आई) चैप्टर भोपाल के सचिव और प्रधान वैज्ञानिक डॉ. एम.के. त्रिपाठी द्वारा “स्वास्थ्य वर्धक खाद्य पदार्थ: विकासशील देशों में बेहतर स्वास्थ्य का मार्ग” दिया गया। डॉ. त्रिपाठी ने इसमें स्वास्थ्य वर्धक खाद्य पदार्थ की महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित किया। डॉ. त्रिपाठी ने चिकित्सीय भोजन तैयार करने में बायोएक्टिव खाद्य सामग्री और महत्वपूर्ण उपापचय स्थितियों, विशेष रूप से हृदय रोगों और मधुमेह को कम करने और रोकने के लिए रणनीतियों को स्पष्ट किया। उन्होंने स्थानीय रूप से उपलब्ध भोजन की क्षमता, इन स्थितियों को नियंत्रित करने के लिए उचित प्रसंस्करण और निर्माण पर प्रकाश डाला। इसके अतिरिक्त, डॉ. त्रिपाठी ने एएफएसटी(आई) के उद्देश्यों, गतिविधियों और सदस्यता लाभों का अवलोकन किया तथा इससे सम्बंधित जानकारी प्रदान की।

कार्यक्रम मे 150 से अधिक पीजी और यू.जी मेडिकल छात्रों तथा 20 से अधिक संकाय सदस्यों ने भाग लिया। एएफएसटी (आई) के अध्यक्ष डॉ. पुनित चंद्रा ने रोग के उपचार में पौधों के अवयवों की भूमिका के संबंध में पुख्ता सबूतों के साथ दावों को प्रमाणित करने की आवश्यकता पर बल दिया। डॉ. चंद्रा ने इन सामग्रियों की प्रभावकारिता स्थापित करने के लिए अंतःविषय सहयोग की अनिवार्य आवश्यकता पर प्रकाश डाला। ए,एफ.एस.टी (आई) भोपाल चैप्टर के उपाध्यक्ष डॉ. पुरोशोतम शर्मा और ए.एफ.एस.टी (आई) भोपाल चैप्टर के कोषाध्यक्ष डॉ. आदिनाथ जाटे ने भी भाग लिया और अपने दृष्टिकोण को साझा किए। डॉ. चारू बंसल, प्रोफेसर, पं. खुशीलाल शर्मा सरकार. आयुर्वेद कॉलेज एवं संस्थान, भोपाल ने कई आयुर्वेदिक चिकित्सा सिद्धांतों और रोग प्रबंधन में उनके अनुप्रयोग पर प्रकाश डाला। डॉ. चारू बंसल, प्रोफेसर ने धन्यवाद प्रस्ताव पारित किया ।

Regards

M K Tripathi

Hon.Secretary

Principal Scientist, ICAR-CIAE, Bhopal

[email protected]

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार