Thursday, February 22, 2024
spot_img
Homeमनोरंजन जगत54वें आईएफएफआई में प्रतिष्ठित गोल्डन पीकॉक पुरस्कार के लिए 15 फिल्में प्रतिस्पर्धा...

54वें आईएफएफआई में प्रतिष्ठित गोल्डन पीकॉक पुरस्कार के लिए 15 फिल्में प्रतिस्पर्धा करेंगी

पुरस्कार के लिए भारतीय फिल्में ‘सना’, ‘कांतारा’ और ‘मिरबीन’ प्रतिस्पर्धा करेंगी

गोआ। गोवा में चल रहे 54वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में 15 चयनित फिल्में प्रतिष्ठित गोल्डन पीकॉक पुरस्कार के लिए प्रतिस्पर्धा करेंगी। असाधारण फिल्मों की शानदार श्रृंखला में 12 अंतर्राष्ट्रीय और 3 भारतीय फिल्में शामिल हैं।

फिल्म निर्माण में उत्कृष्टता को मान्यता देते हुए, गोल्डन पीकॉक पुरस्कार दुनिया के प्रतिष्ठित फिल्म सम्मानों में से एक है। इस वर्ष की जूरी में सिनेमा उद्योग के दिग्गज शामिल हैं जैसे स्पेनिश सिनेमैटोग्राफर जोस लुइस अल्काइन, फ्रांसीसी फिल्म निर्माता जेरोम पाइलार्ड और कैथरीन डसार्ट, ऑस्ट्रेलियाई फिल्म निर्माता हेलेन लीक, साथ ही प्रशंसित भारतीय फिल्म निर्माता शेखर कपूर, जो जूरी के अध्यक्ष भी हैं।

प्रत्याशा इसलिए बढ़ती है क्योंकि इस वर्ष की प्रतियोगिता सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने का वादा करती है, जिसमें निम्नलिखित फिल्में शामिल हैं:

वुमन ऑफ (ओरिजिनल टाइटल- कोबीटा जेड)
वुमन ऑफ 2023 की एक पोलैंड-स्वीडन आधारित ड्रामा फिल्म है, जो मैल्गोरजाटा जुमोस्का और माइकल एंगलर्ट द्वारा लिखित और निर्देशित है। यह नाटक साम्यवाद से पूंजीवाद में पोलैंड के परिवर्तन के परिदृश्य पर आधारित है।

2. द अदर विडो (मूल शीर्षक- पिलगेश)
इजराइली निर्देशक मायन रिप की पहली फिल्म एक आधुनिक एकल महिला, एला के बारे में एक गहरी, हास्यप्रद कहानी है। एला 34 साल की थिएटर ड्रेसर और मालकिन है। उसे अपने प्रेमी की अचानक मौत का सामना करना पड़ता है। वह उसके शिवाह (यहूदी शोक अनुष्ठान) में बार-बार आना शुरू कर देती है और उस जीवन का अनुसरण करती है जो उसके लिए निषिद्ध था। शोक मनाने की आवश्यकता कम से कम अपेक्षित क्षणों में उस पर हाबी होती है। आखिरकार वह शोक मनाने का अपना वैध अधिकार मांगती है।

3. द पार्टी ऑफ फूल्स (मूल शीर्षक- कैपटिव्स)
अरनौद डेस पल्लीएरेस द्वारा निर्देशित “पार्टी ऑफ फूल्स” महिला एकजुटता की कहानी है। इस फिल्म में उन महिलाओं का चित्रण है जो उनके लिए निर्धारित नियति के अलावा किसी अन्य नियति का सपना देखती हैं। फैनी, उन अन्य महिलाओं के विपरीत स्वेच्छा से आई है, जिन्हें उनकी इच्छा के विरुद्ध अन्यायपूर्ण तरीके से ‘पार्टी ऑफ फूल्स’ में शामिल किया गया है। उसका एकमात्र लक्ष्य अपनी मां को ढूंढना और साथ मिलकर भागना है। यह फ्रेंच फीचर फिलिप रूसेलेट और जोनाथन ब्लूमेंटल द्वारा निर्मित है।

4. मेजर्स का मैन (मूल शीर्षक- डेर वर्मेसीन मेन्श)
जर्मन निर्देशक लार्स क्राउम ने 19वीं सदी के बर्लिन में हेरेरो और नामा जनजातियों के नरसंहार के बारे में एक भयावह फिल्म बनाई है। जर्मन नृवंशविज्ञानी, अलेक्जेंडर हॉफमैन, बर्लिन नृवंशविज्ञान संग्रहालय के लिए कला और खोपड़ियां इकट्ठा करने के लिए पूर्व उपनिवेश “जर्मन साउथवेस्ट अफ्रीका (अब नामीबिया)” की यात्रा करते हैं और धीरे-धीरे करियर लाभ के लिए अपना नैतिक दायरा खोना शुरू कर देते हैं, और जर्मनी के काले इतिहास के बीच श्वेत वर्चस्व का विरोध करने में विफल रहते हैं।

5. लुबो
लुबो 2023 की एक इतालवी-स्विस ड्रामा फिल्म है, जिसका निर्देशन जियोर्जियो डिरिट्टी ने किया है। लुबो एक खानाबदोश है। वह एक ऐसा भिखारी है, जिसे 1939 में जर्मन आक्रमण के जोखिम के खिलाफ देश की सीमाओं की रक्षा के लिए स्विस सेना में बुलाया गया था। कुछ ही समय बाद उसे पता चला कि उसके तीन छोटे बच्चों को ले जाने से जेंडरमेस को रोकने की कोशिश में उसकी पत्नी की मृत्यु हो गई है। लुबो जानता है कि उसे तब तक शांति नहीं मिलेगी जब तक वह अपने बच्चों को वापस नहीं पा लेता और अपनी और अपने जैसे सभी बाहरी लोगों की त्रासदी के लिए न्याय नहीं पा लेता।

6. हॉफमेंस फेयरी टेल्स (मूल शीर्षक: स्काज़्की गोफमाना)
फिल्म का निर्देशन जॉर्जियाई मूल की रूसी निर्देशक टीना बार्कलाया ने किया है। यह 2000 के दशक की शुरुआत पर आधारित है, जब सोवियत युग एक पश्चिमी पैरोडी में बदल गया। फिल्म नादेज़्दा का पीछा करती है, जो विटाली के साथ शादी में फंसी एक डरपोक महिला है, जो एक अपार्टमेंट के लिए उसका शोषण करता है। वह अपने जीवन को नाटकीय ढंग से नया आकार देते हुए एक लोकप्रिय मॉडल के रूप में उभरती है।

7. एंडलेस बॉर्डर्स (मूल शीर्षक: मरझाए बी पायन)
अब्बास अमिनी द्वारा निर्देशित, एंडलेस बॉर्डर्स एक मनोरंजक नाटक है जिसमें खतरा सचमुच हर जगह छिपा हुआ है। अफगानिस्तान में तालिबान के उदय ने जातीय और आदिवासी युद्धों की आग को फिर से भड़का दिया है। एक निर्वासित ईरानी शिक्षक अहमद, अफगानिस्तान के एक हजारा परिवार से परिचित होता है, और क्षेत्र में पूर्वाग्रह और हठधर्मिता का असली चेहरा देखता है। एक निषिद्ध प्रेम उसे कार्य करने पर मजबूर करता है और उसे अपने जीवन में प्रेम और बहादुरी की कमी का पता चलता है।

8. डाई बिफोर डेथ (मूल शीर्षक: उमरी प्राइजे स्मृति)
मूवी का निर्देशन अहमद इमामोविक (बोस्निया और हर्जेगोविना) ने किया है। खूबसूरत स्त्री रोग विशेषज्ञ ज़्लाटन गंभीर रूप से बीमार पड़ गया और उनके पास बहुत कम समय बचा है। इस बात से आश्वस्त है कि यह उसके द्वारा किए गए गर्भपात की सजा है। वह अपने संघर्षों का उत्तर खोजने के लिए यात्रा पर निकल पड़ता है। अंतिम क्षण मृत्यु पर जीवन की जीत में बदल जाते हैं। एक बच्चे का जन्म होना इसलिए संभव हो पता है क्योंकि ज़्लाटन एक अजन्मे जीवन को बचा लेता है।

9. बोस्नियन पॉट (मूल शीर्षक: बोसांस्की लोनाक)
क्रोएशियाई निर्देशक पावो मैरिनकोविक अपनी उत्कृष्ट कृति के साथ आईएफएफआई में फिर से आ गए हैं। यह ऑस्ट्रिया में रहने वाले एक बोस्नियाई लेखक की कहानी है जो कड़े आव्रजन नियमों और अपनी लापरवाही के कारण अचानक निवास परमिट के बिना रह जाता है। निर्वासित न किए जाने के लिए, फारुक को अधिकारियों के सामने यह साबित करना होगा कि उसने ऑस्ट्रियाई समाज में सांस्कृतिक योगदान दिया है। फारूक की थिएटर में अनिच्छुक वापसी के कारण होने वाली आगामी साहसिकता उसके जीवन को बदल सकती है और उसे यह महसूस करने के लिए मजबूर कर सकती है कि वास्तव में क्या महत्वपूर्ण है।

10. ब्लागा’ज लेशन (मूल शीर्षक: यूरोटसाइट ना ब्लागा)
कई पुरस्कार विजेता फीचर और डॉक्यूमेंट्री फिल्मों के साथ, बल्गेरियाई निर्देशक स्टीफन कोमांडेरेव ब्लागा लेसन्स के साथ आईएफएफआई में आए हैं। ब्लागा सत्तर वर्षीय हाल ही में विधवा हुई पूर्व-शिक्षिका और दृढ़ नैतिकता वाली महिला हैं। जब टेलीफोन घोटालेबाज उससे वह पैसा छीन लेते हैं जो उसने अपने पति की कब्र के लिए बचाकर रखा था, तो धीरे-धीरे उसका नैतिक संतुलन खोना शुरू हो जाता है, क्योंकि वह खुद एक घोटालेबाज में बदल जाती है।

11. एसोग
सीन डेवलिन पहली पीढ़ी के फिलिपिनो-चीनी-आयरिश कनाडाई फिल्म निर्माता और हास्य अभिनेता हैं। असोग वृत्तचित्र तत्वों को शामिल करने वाली एक अनूठी कथा है, जो 40 वर्षीय गैर-बाइनरी शिक्षक और टाइफून से बचे रे की कहानी है, जो प्रसिद्धि के लिए एक सड़क यात्रा पर है। अतियथार्थवादी कॉमेडी और सामाजिक चित्र यथार्थवाद के साथ, फिल्म निर्माता सीन डेवलिन जलवायु परिवर्तन, एलजीबीटीक्यू के अलावा अन्य मुद्दों की पड़ताल करते हैं।

12. एंड्रागॉजी (मूल शीर्षक: बुडी पेकेर्टी)
एंड्रैगॉजी 2023 की एक ड्रामा फिल्म है, जिसे रेगस भानुतेजा ने लिखा और निर्देशित किया है। फिल्म में शा इने फेब्रियांती एक स्कूल टीचर की भूमिका में हैं, जिनकी लाइन-कटर से भिड़ने का वीडियो वायरल होने के बाद उनकी प्रतिष्ठा और करियर की संभावनाएं खतरे में पड़ जाती हैं।

13. कंतारा (2022)
ऋषभ शेट्टी कन्नड़ फिल्म उद्योग में एक अभिनेता और फिल्म निर्माता हैं। उनकी समीक्षकों द्वारा प्रशंसित ब्लॉकबस्टर, ‘कंतारा’ दक्षिण कन्नड़ के काल्पनिक गांव पर आधारित है। फिल्म मनुष्य और प्रकृति के बीच वैचारिक संघर्ष की पड़ताल करती है। जंगल के साथ रहने वाली जनजाति के सह-अस्तित्व में एक वन अधिकारी द्वारा बाधा उत्पन्न की जाएगी, जो महसूस करता है कि जनजाति द्वारा अपनाई जाने वाली कुछ प्रथाएं और अनुष्ठान मातृ प्रकृति के लिए खतरा हैं। क्या मुख्य पात्र, शिव, अपने अस्तित्व को समझते हुए गांव में शांति और सद्भाव बहाल करने में सक्षम होगा, यही फिल्म का सार है।

14. सना (2023)
सुधांशु सरिया एक राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म निर्माता हैं। उन्होंने अपनी फीचर फिल्म की शुरुआत ‘लव’ नामक एक विचित्र रोड-ट्रिप रोमांस से की, जिसे फिल्म समारोहों में व्यापक रूप से सराहा गया। इस फिल्म में मुंबई में काम करने वाली 28 वर्षीय वित्तीय सलाहकार सना को पता चलता है कि वह गर्भवती है। गर्भावस्था को समाप्त करने के अपने फैसले पर बिल्कुल स्पष्ट, गर्भपात कराने की वास्तविक प्रक्रिया सना को अपने जीवन का पुनर्मूल्यांकन करने और गहराई से सोचने के लिए मजबूर करती है कि क्या वह जो विकल्प चुन रही है वह वास्तव में उसका अपना है।

15. मिरबीन (2023)
मृदुल गुप्ता द्वारा निर्देशित और धनीराम टिस्सो द्वारा निर्मित कार्बी फीचर फिल्म ‘मिरबीन’ को फीचर फिल्म श्रेणी में चुना गया है, जो प्रतिष्ठित मंच में जगह पाने वाली असम की एकमात्र फिल्म है।
मिरबीन इस कहानी का केन्द्रीय पात्र है। बचपन में उनकी दादी ने उन्हें सेर्डिहुन (कार्बी आदिवासी मान्यताओं में कपड़ा के देवता) की परियों की कहानियों के साथ कुछ करने का सपना दिखाया, जिससे उनके मन में जीवन को सार्थक बनाने की इच्छा पैदा हुई। लेकिन भाईचारे की झड़पों और जातीय संघर्षों ने 2005 में पूरी कार्बी भूमि को खूनी बना दिया और उसका जीवन भी खतरे में पड़ गया।

उत्कृष्ट फिल्मों का यह सावधानीपूर्वक चयनित शैलियों और सांस्कृतिक प्रथाओं की एक विविध श्रृंखला का प्रतिनिधित्व करता है, जो वैश्विक फिल्म परिदृश्य की गहराई को दर्शाता है।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार