आप यहाँ है :

टाटा समूह आगे आया

टाटा समूह ने लिक्विड ऑक्सीजन को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने के लिए 24 क्राइओगेनिक कंटेनर्स आयात करने का फैसला लिया है. समूह इन कंटेनर्स की मदद से देशभर में ऑक्सीजन की सप्लाई कर सकेगा. माना जा रहा है कि इससे देशभर में ऑक्सीजन की किल्लत को दूर करने में मदद मिल सकेगी. बता दें कि देश में कोरोना संक्रमण के बीच ऑक्सीजन की बहुत अधिक कमी हो गई है. ऑक्सीजन के अभाव में लोगों की जान तक जा रही है.

टाटा समूह ने एक सोशल मीडिया पोस्ट पोस्ट में लिखा है कि देश भर में हो रही ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए ”टाटा ग्रुप लिक्विड ऑक्सीजन को ट्रांसपोर्ट करने के लिए 24 क्राइओगेनिक कंटेनर्स का आयात करने जा रहा है. इससे देश में ऑक्सीजन की किल्लत को दूर करने में मदद मिलेगी” . कोरोना महामारी की दूसरी लहर को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्र के नाम संबोधन में लोगों की अपील की सराहना करते हुए समूह ने कहा है कि वह कोविड-19 से यथासंभव मुकाबले को लेकर प्रतिबद्ध है. टाटा की ओर से कहा गया है कि ऑक्सीजन संकट में कमी लाने के लिए चार्टर्ड विमान द्वारा क्राइओगेनिक कंटेनरों का आयात हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने की दिशा में ऐसा ही एक प्रयास है.

पिछले साल की थी 1,500 करोड़ रुपये की आर्थिक मदद
पिछले साल जब कोरोना महामारी देश में पहले बाहर अपना कहर बरसा रही थाी. तब भी Tata Group ने मदद के हाथ बढ़ाए थे. उस समय भी Tata Group ने देश के लोगों को आर्थिक मदद पहुंचाने के लिए 1500 करोड़ की आर्थिक मदद की थी. इसके साथ ही पहली लहर के समय दक्षिण कोरिया, अमेरिका और चीन जैसे देशों से मिलकर बड़े पैमाने पर वेंटीलेटर्स, पीपीई किट्स, मास्क और ग्लब्स का आयात किया था.

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top