Monday, March 4, 2024
spot_img
Homeपुस्तक चर्चाक्रिश्चियनिटी की वास्तविकता जानने के लिए पढ़िए-मैंने ईसाई मत क्यों छोड़ा

क्रिश्चियनिटी की वास्तविकता जानने के लिए पढ़िए-मैंने ईसाई मत क्यों छोड़ा

ईसाई देशों में गुड फ्राइडे और ईस्टर का बहुत महत्व है। यह मान्यता है कि गुड फ्राइडे को जीसस को क्रूस पर लटकाया गया और उसके 3 दिन बाद वह पुर्नजीवित हो गए। ईस्टर पुनर्जीवन का स्मरण है।
भारत में ईसाई मिशनरी लगातार चमत्कार दिखाते रहते हैं। उनसे बस इतना पूछिए कि क्या वे मृत्यु के बाद दोबारा जीवित होना मानते हैं?
वैसे पूरी बाइबल ही अवैज्ञानिक चमत्कार से भरी हुई है। बाइबल के चिकित्सा विज्ञान को दिखाया है।
बाइबल में चिकित्सा विज्ञान के विपरीत विश्वास से रोग ठीक होने को बताया गया है.
1- मरकुस 16 : 16-18 में कहा गया है कि विश्वास वाले स्पर्श से रोग ठीक होंगे.जो विश्वास करे और बपतिस्मा ले उसी का उद्धार होगा, वे मेरे नाम से दुष्टात्माओं को निकालेंगे। नई नई भाषा बोलेंगे, सांपों को उठा लेंगे, और यदि वे नाशक वस्तु भी पी जांए तौभी उन की कुछ हानि न होगी, वे बीमारों पर हाथ रखेंगे, और वे चंगे हो जाएंगे।
 2- याकूब  5: 14-16 में चर्च के बुजुर्गो की प्रार्थना से ठीक होने का दावा है.क्या आप में से कोई बीमार है? उसे चर्च के बुजुर्गों के लिए बुलाओ; और उन्हें प्रभु के नाम पर तेल से अभिषेक करने दें; और विश्वास की प्रार्थना से बीमार को बचाया जाएगा, और प्रभु उसे उठाएगा।
3-प्रेरितों के काम 19:12 व 5: 15-16 में रुमाल छूने से या छाया पड़ने से रोग ठीक होने का वर्णन है.
यदि विश्वास अकेले आपको ठीक नहीं करता है, तो अपने धार्मिक नेता के रूमाल या छाया या किसी चीज़ को छूने की कोशिश करने से बीमारियां उनसे दूर हो गईं, और बुरी आत्माएं उनमें से निकल गईं। यहां तक कि लोग बीमारों को सड़कों पर ला लाकर, बिस्तरों  पर लिटा देते थे, कि जब पतरस आए, तो उस की छाया ही उन में से किसी पर पड़ जाए।  और यरूशलेम के आस पास के नगरों से भी बहुत लोग बीमारों और अशुद्ध आत्माओं के सताए हुओं का ला लाकर, इकट्ठे होते थे, और सब अच्छे कर दिए जाते थे॥
4- इतिहास (2) 16:12-13 के अनुसार भगवान यहोवा के प्रति अविश्वास और चिकित्सा लेने से राजा आसा 2 साल में मर गया. वह पैरों से रोगग्रस्त हो गया था, अपने रोग में उसने यहोवा से नहीं, बल्कि चिकित्सकों से सहायता मांगी।  और मर गया।
5-  राजा (1)17: 21-22 के अनुसार मरे हुए बच्चे पर फ़ैल जाने से भगवान यहोवा ने उसे जिन्दा कर दिया.
एलिय्याह (एक पवित्र व्यक्ति तीन बार अपने आप को अपने मृत शरीर पर फैला लेता है।)उन्होंने (एलिय्याह ने) खुद को तीन बार बच्चे पर फैलाया। … और बच्चे की आत्मा फिर से उसके पास आ गई, और वह फिर से जीवित हो गया।
6- राजा (2) 4: 34-35 के अनुसार मरे हुए बच्चे के ऊपर अपने अंग फैलाने से बच्चा जिन्दा हो गया.
जब एलीशा घर में आया, तो देखो, बच्चा मर चुका था …. और वह ऊपर गया, और बच्चे पर लेट गया, और अपना मुंह उसके मुंह, और उसकी आंखों पर और उसके हाथों पर अपना मुंह रख दिया और खुद को बच्चे पर बढ़ाया; और बच्चे का मांस गर्म हो गया। फिर वह लौट आया, और घर में चला गया और जम गया; और ऊपर गया, और उस पर अपने आप को फैलाया: और बच्चे ने सात बार छींक दी, और बच्चे ने अपनी आँखें खोलीं।
7- प्रेरितों के काम 20: 9-12 के अनुसार पौलुस नामक व्यक्ति ने लिपट कर मरे हुए को जीवित कर दिया.
और यूतुखुस नाम का एक जवान खिड़की पर बैठा हुआ नींद के झोंके में तीसरी अटारी पर से गिर पड़ा, और मरा हुआ उठाया गया। परन्तु पौलुस उतरकर उस से लिपट गया, और गले लगाकर कहा; घबराओ नहीं; क्योंकि उसका प्राण उसी में है। और वे उस लड़के को जीवित ले आए, और बहुत शान्ति पाई।
8- मरकुस 7: 32-35 में, यीशु ने बहरे आदमी पर अपना पवित्र थूक डालकर एक बहरे आदमी को ठीक किया।
और लोगों ने एक बहिरे को जो हकला भी था, उसके पास लाकर उस से बिनती की, कि अपना हाथ उस पर रखे। और अपनी उंगलियां उसके कानों में डालीं, और थूक कर उस की जीभ को छूआ। और कहा; खुल जा। और उसके कान खुल गए, और उस की जीभ भी खुल गई, और वह साफ साफ बोलने लगा।
9- मरकुस 8: 22-25 यीशु ने अपनी आँखों पर थूक लगाकर एक अंधे आदमी को ठीक किया।
और वे उसके पास एक अंधे आदमी को लाते हैं … और वह उसकी आंखों पर थूकते हैं [और] उससे पूछा कि क्या उसने देखा है। और उसने देखा, और कहा, मैं आदमियों को पेड़ के रूप में देखता हूं। उसके बाद उसने अपने हाथों को फिर से उसकी आँखों पर रखा, और उसे ऊपर देखा: और वह बहाल हो गया, और हर आदमी को स्पष्ट रूप से देखा।
10- यूहन्ना 9: 1- 9 में एक अन्य नेत्रहीन यीशु के थूक से बने कीचड़ से ठीक हो गया था।
यह कहकर उस ने भूमि पर थूका और उस थूक से मिट्टी सानी, और वह मिट्टी उस अन्धे की आंखों पर लगाकर। उस से कहा; जा शीलोह के कुण्ड में धो ले,  सो उस ने जाकर धोया, और देखता हुआ लौट आया।
– इन सभी बातों से पता चलता है कि बाइबिल अवैज्ञानिक चिकित्सा प्रणाली को स्वीकार नहीं किया जा सकता. इसे आज की भाषा में धोखा देना (Quackery)  ही कहा जाएगा.
₹120 (डाक खर्च सहित)
मँगवाने के लिए 7015591564 पर वट्सएप करें।
image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार