Thursday, July 25, 2024
spot_img
Homeकविताविधवा हूं विष नहीं

विधवा हूं विष नहीं

(अंतर्राष्ट्रीय विधवा दिवस 23 जून पर )

नारी के रूप अनेक,
सौंदर्य की प्रतिमूर्ति वो कहलाती,
सोलह श्रृंगार से वो खुद को सजाती,
सुहागन का दर्जा वो पाती।

खनकती चूड़ियां जब चटक जाती हैं,
हंसती आंखें पल-पल नीर बहाती हैं,
सिंदूर की लालिमा जब मिट जाती है,
समाज की निष्ठुरता सामने आ जाती है।

प्रहर-दर-प्रहर उपहास का सामना करती,
दुख ,शोक ,विषाद का गहना पहन,
स्वयं के अस्तित्व को तलाशती है।

धार धवल चीर,उजरा श्रृंगार,
विधवा का दंश सीने में घोंपती है,
जिस्मानी नहीं रूहानी प्रेम की हकदार बनती है।

देख दारुण दशा उसकी,
दया किसी को ना आती है,
सांत्वना के लिबास में,
मनहूसियत की बू नजर आती है।

ऐ!नारी,
तुम हर रूप में,
महान् थी,
महान् हो,
महान् रहोगी।
इस रूप को नियति का खेल ना समझना,
जीवन का ईक पड़ाव मानना।
बुलंद हौंसले, बुलंद हंसी से,
नए पड़ाव की मालकिन बनना।

जब समाज तुम्हारे हक़ के लिए नहीं लड़ सकता,
स्वयं तुम हक छीनने की हकदार बनना,
जीवन बगिया में महकता प्रसून बनना।

“अंतरराष्ट्रीय विधवा दिवस” मनाने से क्या होगा??
तुम खुद अपनी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचां बनाना।

सूनी राहों पर जब-
साया भी साथ छोड़ जाए-
ना डरना,ना टूटना, ना बिखरना,
मां दुर्गा कि नवरूप तुम,
रणचंडी का रूप भी दिखा देना।

ताना मारने वालों के मुंह की तुरपाई कर,
अपने जीवन की उधड़न भी सी लेना,
विश्वास,सम्बल,आत्मसम्मान को ढाल बना,
इस संकुचित मानव समाज में,
विधवा-जीवन की नई इबारत लिख देना।।

शिखा अग्रवाल
1 f 6, ओल्ड हाउसिंग बोर्ड,
शास्त्री नगर, भीलवाड़ा – राजस्थान

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार