Thursday, June 13, 2024
spot_img
Homeशेरो शायरीतरही ब्रजगजल - युधिष्ठिर के जैसी न बतियाँ बनाऔ

तरही ब्रजगजल – युधिष्ठिर के जैसी न बतियाँ बनाऔ

नवीन चतुर्वेदी ब्रज भाषा की गज़लों के क्षेत्र में एक प्रतिष्ठित हस्ताक्षर हैं और इन्होंने इस दिशा में बहुत कार्य भी किया है। देश भर में ब्रजभाषा में गज़ल लिखने वालों को एक मंच भी प्रदान किया और इनकी एक पुस्तक भी प्रकाशित हुई है।

युधिष्ठिर के जैसी न बतियाँ बनाऔ
नरो कुंजरो के भरम कों मिटाऔ

सुनों वाहि, संजय, कथा मत सुनाऔ
वौ धृतराष्ट्र है वा कों अनुभव कराऔ

नहीं तौ यै संग्राम है कें रहैगौ
विदुर-दाऊ जैसें न तीरथ पै जाऔ

भलें ही समरसिद्ध रणनीति है यै
जरासन्ध-सुत कों न दल में मिलाऔ

समर जो अपरिहार्य है ही गयौ है
तौ गीता के उपदेस हू तौ सुनाऔ

कन्हैया की माया समझ सों परे है
यै सूर्यास्त है या नहीं, शोधवाऔ

कन्हैया भलें सारथी बन गये हैं
पवनसुत कों हू अपने रथ पै बिठाऔ

गिरह कौ शेर:
विवेचन तौ जुग्ग’न सों चल ही रह्यौ है
“मरज मिल गयौ तौ दवा हू बताऔ”

समर – युद्ध
समरसिद्ध – युद्ध के लिए उचित
शोधवाना – सुधवाना, पता करवाना

संपर्क
नवीन सी. चतुर्वेदी
ब्रजगजल प्रवर्तक एवं बहुभाषी शायर
मथुरा – मुम्बई
9967024593

नवीन चतुर्वेदी का फेसबुक पेज https://www.facebook.com/navincchaturvedi
image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार