आप यहाँ है :

उदारता व दान की प्रतिमूर्ति गार्गी

भारतीय नारियों ने जिस भी क्षेत्र में पग धरा , उस क्षेत्र में ही अपूर्व सफ़लता प्राप्त करने के कारण उसका डंका बजा तथा उसका नाम इतिहास में अमर हो गया । एसी अनेक वेद विदुषी , ज्ञान की ज्योति जलाने वाली , युद्ध क्षेत्र की वीरांनाएं तथा अन्य विभिन्न क्षेत्रों में भी इन नारियों का लोहा आज भी संसार मानता है । एसी ही सुप्रसिद्ध नारियों में गार्गी भी एक थी ।

गार्गी का नाम प्राचीन वैदिक काल से ही , उस की विशेष योग्यता के कारण, सुप्रसिद्ध रहा है । गार्गी का नाम क्या था ? , यह तो ज्ञात नहीं किन्तु कहा जाता है कि गर्ग गोत्र में जन्म लेने के कारण यह गार्गी के नाम से सर्वत्र प्रसिद्ध हुई ।(दृष्टव्य = उस युग में गोत्र प्रथा प्रचलित नहीं थी | इस कारण यह किसी की कल्पना मात्र हो सकती है | ) इस की तीव्र बुद्धि तथा अत्यधिक शिक्षित होने के कारण इस का नाम सर्वत्र विख्यात् हुआ तथा सर्वत्र इस नाम को सम्मान मिला ।

कहा जाता है कि राजा जनक ने अपने यहां एक विशाल यज्ञ रचाया । इस यज्ञ में भाग लेने देश भर से बडे – बडे विद्वानों को उलाया गया । यह यज्ञ इतना विशाल था कि यह कई दिनों तक निरन्तर अबाध गति से चलता रहा । इस यज्ञ में लाखों मन घी , जौ , चावल , चन्दन व अन्य सामग्री का प्रयोग हुआ । जब यह यज्ञ चल ही रहा था कि एक दिन राजा जनक के मन में एक विचार उठ खडा हुआ तथा वह सोचने लगे कि इस यज्ञ को सम्पन्न करने के लिए देश भर के सुप्रसिद्ध व उच्चकोटि के विद्वान् लोग यहां पधारे हैं । सब ही अपनी अपनी विद्वत्ता के लिए सुप्रसिद्ध व सर्व विख्यात् हैं । इन की कोई स्पर्द्धा नहीं की जा सकती किन्तु फ़िर भी यह जानना चाहिये कि इन में से भी सर्वाधिक विद्वान् कौन है ? कई दिन वह यह उपाय खोजने में ही लगे रहे कि सर्वाधिक विद्वान् का पता भी लगा लिया जावे तथा इस स्पर्धा का किसी को पत्ता भी न लग सके , अन्यथा विद्वान् लोग कुपित हो कर कोई अनर्थ करने का कारण बन जावेंगे । इस प्रकार का विचार करते हुए अन्त में एक दिन वह एक निष्कर्ष पर पहुंचे ।

राजा ने अपनी योजना के अनुसार अपनी गौशाला में एक हजार गायें बंधवा कर प्रत्येक गाय के सींग पर दस – दस तोला ( आज की भाषा में लगभग एक एक सौ ग्राम ) सोना बांध दिया । अब राजा जनक ने विद्वानों की मण्डली में यह घोषणा कर दी कि जिस भी व्यक्ति को ईश्वर के सम्बन्ध में सर्वाधिक जानकारी है ,वह नि:संकोच यह सब की सब गोएं खोलकर अपने साथ ले जा सकता है । उस युग में तो व्यक्ति की सम्पन्नता का माप दण्ड ही गाय होती थी | सर्वाधिक गाय के मालिक को ही सर्वाधिक धनवान् माना जाता था । इस प्रकार एक हजार गाय तथा प्रत्येक गाय के साथ एक सौ ग्राम सोना कौन नहीं लेना चाहेगा ।

राजा की इस विचित्र घोषणा को सुन कर सब विद्वान् सन्न से रह कर एक दूसरे का मुख देखने लगे किन्तु कोई भी एक हजार तो क्या मात्र एक गाय को भी खोलने की हिम्मत न कर रहा था । इस का कारण यह था कि सब विद्वान् जानते थे कि जिसने भी इन गायों को हाथ डालने का यत्न किया , वह ही अन्य सब विद्वानों के तिरस्कार का कारण होगा , सब ज्ञानी लोग उसे घमण्डी , अहंकारी, अभिमानी व लालची समझेंगे । यह भी हो सकता है कि अन्य सब विद्वान् मिलकर उससे शास्त्रार्थ करने लगें । इतने विशाल समूह का मुकाबला करना मेरे लिए सम्भव न हो पावेगा । इन सब के भारी भरकम प्रश्नों का उतर मैं कैसे दूंगा ? कोई मुझे घमण्डी कहेगा , कोई मुझे लालची कहेगा, कोई कहेगा कि मैं अपने आप को बहुत बडा विद्वान मानता हूं । उस युग में अपने बड्प्पन का बखान करने की परम्परा भी न थी । इस कारण किसी एक विद्वान् ने भी राजा के आह्वान् को स्वीकार न किया तथा किसी ने भी गाय की रस्सी को छुआ तक भी नहीं ।

राजा जनक के यज्ञ में उपस्थित विद्वद् – मण्ड्ल में ऋषि याग्य्वल्क्य भी पधारे हुए थे । जब उन्होंने देखा कि कोई भी इन गायों को खोलने का साहस नहीं कर रहा , इस से यह सिद्ध होगा कि यहां पर कोई भी बडा विद्वान् नहीं आया है । यह विचार कर उन्होंने अपने एक शिष्य को कहा कि उठो ! इन गायों को खुंटे से खोल लो ओर बांध कर ले चलो । ऋषि के यह शब्द सुन कर उपस्थित सब ब्राह्मण क्रोध से लाल हो उठे । सब ब्राह्मण एक दम से बिगड उठे । अब उपस्थित पुरोहित लोगों ने उनसे प्रश्न किया ” यह विद्वानों की एक विशाल सभा है । इतनी बडी सभा में क्या तुम स्वयं को सर्वाधिक महान् विद्वान् समझते हो ?”

राजा जनक के इन पुरोहित ब्राह्मणों के इन कटाक्षपूर्ण शब्दों से भी याग्य्वल्क्य को किंचित भी क्रोध नहीं आया तथा अपने शिष्य को अपना कार्य निरन्तर जारी रखने का आदेश देते हुए बोले ” नहीं मैं अपने को सब से बडा विद्वान् नहीं मानता । इस सभा में जितने भी विद्वान् उपस्थित हैं , उनकी महान् योग्यता के लिए मैं सब को नमस्ते करता हूं , सब के सामने आदर पूर्वक नमन करता हूं । बस हमारे आश्रम में एक लम्बे काल से गोवों की कमीं अनुभव हो रही र्थी । इन गोवों के जाने से यह कमीं दूर हो जावेगी , इस लिए मैं इन्हें ले जा रहा हूं ।”

ऋषि के आदर पूर्वक दिए गए इस उतर से सब ब्राह्मणों का क्रोध भडक उठा तथा सबके सब चिल्ला कर बोले कि “इन गोवों के ले जाना है तो हम से शास्त्रार्थ करना होगा , विजयी होने पर ही आप इन को यहां से ले जा सकोगे । कुछ ही समय में शास्त्रार्थ आरम्भ हो गया , एक दूसरे को नीचा दिखाने का कार्य आरम्भ हो गया ।

इस शास्त्रार्थ में इस सभा का एक – एक विद्वान् प्रश्न पूछता तथा उस प्रश्न का याग्यवल्क्य बडी चतुराई , बडी नम्रता, बडी तन्मयता तथा बडी सफ़लता से उतर देते जाते थे । प्रत्येक वक्ता का उद्देश्य याग्यवल्क्य को पराजित करना था , इस कारण कठिन से कठिन प्रश्न पूछे जा रहे थे किन्तु इन प्रश्नों से याग्यवलक्य तनिक भी न घबरा रहे थे , बडी सूझ व समझदारी से शान्ती – पूर्वक इन प्रश्नों का उतर दे कर उन्हें शान्त करने का यत्न कर रहे थे । प्रश्नकर्ता को जब सही उतर मिल जाता तो उसे चुप होना पडता । राजा जनक भी विद्वत्ता में कुछ भी कम नहीं थे । वह भी बहुत रस ले कर इस शास्त्रार्थ को सुन रहे थे | विद्वानों ने भरपूर प्रश्न किये ओर याग्यवल्क्य ने सबको बडी शालीनता से उतर दिए । परिणाम स्वरूप एक एक कर सब विद्वान निरुतर हो इस शास्त्रर्थ से पीछे हटने लगे ओर अन्त में सब चुप हो गए ।

जब सब विद्वान् निरुतर हो चुप हो गए तो इस सभा में उपस्थित गार्गी ने भी प्रश्न करने की आज्ञा चाही । राजा जनक जानते थे कि भारत की नारियां भी विद्वत्ता में किसी से कम नहीं हैं । इस कारण उन्होंने उसे सहर्ष प्रश्न करने की स्वीकृति दे दी । गार्गी ने भी याग्यवल्क्य से अनेक प्रश्न पूछे तथा याग्यवल्क्य उस के प्रश्नों का भी बडी शालीनता से उतर देते गए किन्तु गार्गी के इन विद्वतापूर्ण उच्चकोटी के प्रश्नों के कारण उसकी विद्वता की धाक सब विद्वानों ने स्वीकार कर ली ।

गार्गी के प्रश्नों से सब को यह बात स्पष्ट हो रही थी कि वह जिस भी विषय का प्रश्न पूछ रही थी, उस विषय का समग्र नहीं तो अत्यधिक ज्ञान तो उसे था ही । वह बडे सोच समझ कर , बडी छानबीन के साथ अपने प्रश्न रख रही थी । इस प्रकार के गहन प्रश्नों में एक एसा प्रश्न आ ही गया , जिस पर याग्यवल्क्य को रुक जाना पडा , निरुतर होना पडा , वह गार्गी के इस प्रश्न का उतर न दे सके।

गार्गी बडी बुद्दिमान् महिला थी । वह किसी को अपमानित करने के लिए इस सभा में नहीं आई थी तथा इस उद्देश्य से उसने अपने प्रश्न पूछने आरम्भ नहीं किए थे । याग्यवल्क्य को तो वह किसी भी अवस्था में अपमानित नहीं करना चाहती थी क्योंकि वह अपने समय के एक बहुत बडे या यूं कहें कि अन्यतम विद्वान थे । अत: उसने तत्काल यह घोषणा उस सभा में सब के सामने कर दी कि ” याग्यवल्क्य एक अन्यतम विद्वान् हैं , एसा कोई नहीं है जो उन्हें हरा सके , पराजित कर सके ।”

गार्गी चाहती तो इस सभा में जहां उसने अपनी विद्वत्ता की धाक जमाई थी, वहां याग्यवल्क्य को पराजित बता कर सर्वोतम विद्वान् के पद पर आरूढ हो सकती थी किन्तु नहीं जैसी वह उदार व दानी थी , ऐसी महिलाओं के कारण ही हमारा यह देश निरन्तर प्रगति पथ पर अग्रसर रहा है । अत: गार्गी विश्व के विद्वानों के लिए ज्योति स्तम्भ के रुप में जानी जाती है ।

डा.अशोक आर्य
पाकेट १/६१ रामप्रस्थ ग्रीन से. ७ वैशाली
२०१०१२ गाजियाबाद उ.प्र.भारत
व्हाट्स एप्प 9718528068
E mail [email protected]

image_pdfimage_print


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top